मुख्य समाचार
KGMU : पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग ने किया भंडारे का आयोजन  ICC World Cup 2019 : टीम इंडिया इंग्लैंड हुई रवाना, धोनी को लेकर बनी यह रणनीति डीएम-एसपी ने लिया मतगणना स्थल पर तैयारियों का जायजा, तैयारियां पूरी मध्य कमान ने केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों को कराया सीमा दर्शन नाराज तीन विधायक दे सकते हैं राजभर को झटका  सुप्रीम कोर्ट के बाद चुनाव आयोग ने दिया विपक्ष को झटका स्पा सेंटर की आड़ में चल रहा था सेक्स रैकेट, इस तरह पुलिस ने किया पर्दाफाश मायावती का बड़ा एक्शन, इस दिग्गज नेता को पार्टी से किया बाहर मौसी के घर आयी बच्ची का तालाब में उतराता मिला शव साढ़े छह लाख की शराब के साथ एसटीएफ के हत्थे चढे़ दो तस्कर 28वीं पुण्य तिथि पर याद किए गए पूर्व पीएम राजीव गांधी BSP की जगह BJP को वोट देना महिला को पड़ा भारी, पति ने फावड़े से काटकर की हत्या पूर्व मंत्री और बसपा के कद्दावर नेता को पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता पूर्व मंत्री और बसपा के कद्दावर नेता को पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता  लोकसभा चुनाव खत्म होते ही बंद हुआ नमो टीवी, भाजपा ने दिए थे इतने लाख रुपए सीडीओ ने देवलान गौशाला का किया निरीक्षण बड़ा मंगल दे रहा है दस्तक, लखनऊ मेट्रो की सवारी कर बचें धूप और जाम से आजम खान के खिलाफ आचार संहिला उल्लंघन के 13 मामलों में आरोप पत्र दाखिल
 

गरीबी में पढ़ी बेटी ला रही गांव में ज्ञान का उजाला...जानें एक क्लिक पर


SMT. HARSHITA PATAIRIYA 10/05/2018 17:32:16
141 Views

झांसी। कहा जाता है कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती। जब किसी काम को करने के लिए मन दृढ़ संकल्पित हों तो बड़े से बड़ा काम आसान हो जाता है। यही नहीं अच्छे ध्येय के साथ किए जाने वाले कार्य को पूर्ण करने के लिए सारी कायनातें एक जुट हो जाती हैं। इस कहावत को चरितार्थ करते नजर आ रही है गरीबी में कठिनाइयों के बीच पढ़कर बड़ी हुई वह बेटी जो आज पूरे गांव से निरक्षरता के अंधकार को दूर भगाने के लिए चट्टान की तरह अडिग खड़ी है। उसके इस जज्बे को सराहते हुए स्वयं प्रभारी मंत्री उसे सम्मानित भी कर चुके हैं।

Poverty-educated daughter now raised to teach village

झांसी मुख्यालय से महज 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बड़ागाॅव ब्लाॅक के ग्राम गढ़मउ में रहने वाली एक गरीब परिवार में कठनाइयों से पढ़ी अनीता ने अपने गांव में शिक्षा की अलख जगाने का बीड़ा उठाया है। अनीता अपने गांव के केवल अनपढ़ बच्चों को ही नहीं पढ़ा रही है बल्कि वह अनपढ़ महिलाओं को शिक्षित करने का प्रयास कर रही है। अनीता का ऐसा मामना है कि इस गांव से निकलकर पढाई करने में जितनी परेशानी उसे झेलनी पड़ी है, वह गांव के किसी बच्चे को नहीं होते देखना चाहती है। इस वृहद सोच के साथ वह अपनी पढ़ाई करते हुए गांव को शिक्षित करने में जुटी है। उसके इस प्रशंसनीय कार्य के लिए उसे कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है।

बच्चों से लेकर बूढ़े तक सभी अनीता की तारीफ करते नहीं थकते हैं। कभी यही लोग उस पर तंज कसने से नहीं चूकते थे। आज अनीता की कामयाब जिन्दगी से उसके मजदूर माता पिता भी खुश हैं। मां उर्मिला अपनी बेटी को इस अभिनय में देखकर खुशी से फूली नहीं समाती है तो वहीं ट्रक चालक पिता अपनी बेटी के हौसले को सलाम करता है। यहां तक कि गांव की प्रधान जयदेवी उसके भविष्य की चिंता करते हुए सरकार से मद्द करने की बात करती नजर आ रही है।

Web Title: Poverty-educated daughter now raised to teach village ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया