नवाज शरीफ ने कबूली पाक की काली करतूत, कहा-मुंबई हमले में था हाथ


SHUBHENDU SHUKLA 13/05/2018 12:39 PM
361 Views

Islamabad. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अपने भड़काऊ बयानों को लेकर विवादों में बने रहते हैं। उन्होंने मुंबई हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की बात कबूल की है। यह बड़ा बयान शरीफ ने सत्ता से हटने के 9 महीने बाद दिया है। उनके इस अजीबोगरीब बयान से लोगों में गुस्सा फूट पड़ा है। बयान के बाद शरीफ विरोधियों के निशाने पर भी आ गए हैं।

Nawaz Sharif said Pakistan hand in Mumbai attackयह भी पढ़ें...सलमान से शादी पर कटरीना ने कहा...

  क्या 150 लोगों को मरने देना चाहिए?

नवाज शरीफ ने द डॉन को दिए इंटरव्यू में कहा है कि क्या हमें आतंकियों को सीमा पार जाने की अनुमति देनी चाहिए? मुंबई में 150 लोगों को मार देना चाहिए। पाकिस्तानी आतंकियों ने ही मुंबई हमले को 2008 में अंजाम दिया था और नरसंहार किया था। आतंकी हमले में 166 भारतीय और विदेशी नागरिक मारे गए थे। 

  छोड़ना पड़ा था पद

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट ने नवाज को पनामा पेपर केस मामले में 28 जुलाई को दोषी करार दिया था। इसकेे बाद उनको पद से इस्तीफा देना पड़ा। मुंबई हमले में किसी भी तरह की संदिग्ध भूमिका को पाकिस्तान नकारता रहा है। भारत ने पाकिस्तान को ठोस सबूत भी दिया था। लेकिन पाक ने आतंकियों की बात सिरे से खारिज कर दी थी और किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की।  

यह भी पढ़ें... प्रोड्यूसर के सेक्स स्कैंडल पर पत्नी ने तोड़ी चुप्पी, मशहूर बॉलीवुड एक्ट्रेस पर भी...

  आतंकी संगठन अभी भी 

डॉन को नवाज ने बताया कि पाकिस्तान में अभी भी आतंकी संगठन सक्रिय हैं। क्या हमें उन्हें बॉर्डर पार कर मुंबई में 150 लोगों की हत्या की मंजूरी दे देनी चाहिए? क्यों हमने सुनवाई पूरी नहीं की? हम तो केस भी पूरा नहीं चलने देते। कोई मुझे इस बात का जवाब देगा? बताते चलें कि पाकिस्तान ने 26/11 मुंबई हमले की पैरवी कर रहे मुख्य वकील चौधरी अजहर को हटा दिया था।

यह भी पढ़ें...शादी के बाद सोनम को छोड़ यहां घूम रहे आनंद आहूजा

  अफगान की सोच मानी उनकी नहीं

उन्होंने कहा किक अफगानिस्तान की सोच को स्वीकार लिया जाता है, लेकिन उनकी नहीं। उन्हें जानबूझकर सत्ता से बेदखल किया गया है। उन्होंने कई बार समझौता करने का प्रयास किया। लेकिन किसी ने न तो तवज्जो दिया और न ही स्वीकार किया। उन्होंने यह भी कहा कि नाकाम होने के कारण उन्होंने पद नहीं छोड़ा। किसी भी देश का संविधान सबसे उपर होता है। ऐसे में कोई दूसरा रास्ता नहीं बचता। तानाशाह (परवेज मुशर्रफ) पर केस चला दिया। पाकिस्तान में उन्होंने कभी भी ऐसा नहीं देखा। 

मुंबई आतंकी हमला?

- 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादी मुंबई के ताज होटल में घुस गए थे। इसके बाद 4 दिनों तक कब्जा जमाए रखा। शहर के 7 स्थानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गई थी। हमले में करीब 166 निर्दोष लोग मारे गए थे। वहीं, तकरीबन 300 निर्दोष घायल हुए थे। 

Web Title: Nawaz Sharif said Pakistan hand in Mumbai attack ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया