मुख्य समाचार
विश्व कप में खिलाड़ियों के साथ जा सकेंगी पत्नियां पर BCCI ने लगाई तमाम बंदिशें साध्वी प्रज्ञा का मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान अवैध कमाई के लिए डग्गामार वाहनों पर मेहरबान है पुलिस— प्रशासन मायावती ने मुलायम की मौजूदगी में मंच किया खुलासा - गेस्टहाउस कांड के बाद भी इसलिए हुआ गठबंधन इंस्टाग्राम को लेकर आई बड़ी खबर, यूजर्स का पासवर्ड असुरक्षित तरीके से स्टोर हाईकोर्ट से भाजपा विधायक को बड़ा झटका, सुनाई गयी आजीवन कारावास की सजा  प्रियंका ने राहुल गांधी को सौंपा अपना इस्तीफा #IPL2019 : दिल्ली कैपिटल्स को 40 रन से हराकर मुंबई पहुंची दूसरे स्थान पर जेट एयरवेज की हवाई सेवाएं बंद होने पर निराश हुए फिल्मी सितारे साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ NIA कोर्ट में याचिका दायर, चुनाव लड़ने पर रोक की मांग बुधवार को जेट एयरवेज ने भरी आखिरी उड़ान कोई भी अपराजेय नहीं है, सबको हराया जा सकता है : आचार्य प्रमोद कृष्णम World Cup के लिए ईशांत, सैनी और अक्षर होंगे टीम इंडिया के स्टैंड बाई राज्यपाल को पीजीआई में लगाया गया पेसमेकर, पूरी तरह हैं स्वस्थ
 

येद्दयुरप्पा न सिद्दरमैया, दलित के हाथ होगी कर्नाटक की कमान, जानें ये आठ बड़ी वजह!


RAJNISH KUMAR 15/05/2018 09:16 AM
1426 Views

Lucknow. कर्नाटक पर पूरे देश की निगाहें बनी हुई हैं। दरअसल कर्नाटक विधानसभा चुनाव का परिणाम आज घोषित होना है। मतगणना सुबह से ही शुरू हो चुकी है। अगर शुरुआती रुझानों की मानें तो कभी भाजपा तो कभी कांग्रेस आगे निकल रही है, लेकिन एक्जिट पोल की मानें तो कर्नाटक में त्रिशंकु विधानसभा की आशंका जताई जा रही है। लेकिन यहां एक बात स्पष्ट है कि भाजपा और कांग्रेस में ही मुकाबला है।

Yeddyurappa nor Siddaramaiah, Dalit will be the command of Karnataka, know these eight big reasons!

  ये है बड़ी वजह

विधानसभा चुनावों के लिए मतों की गणना शुरू हो गई है। रुझानों की मानें तो भाजपा और कांग्रेस बराबर चल रही है।

1. भाजपा ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया तो बीएस येद्दयुरप्पा ही मुख्यमंत्री होंगे। अगर सीटें कम पड़ जाती है तो जेडीएस से भी समर्थन ले सकती है या निर्दलीय भूमिका निभा सकते हैं। ऐसे में तय होगा कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा। 2019 के चुनावों को देखते हुए भाजपा दलितों को अपने पाले में लाने के लिए दलित को मुख्य जिम्मेदारी दे सकती है।

2. अगर कांग्रेस को बहुमत मिला तो सिद्दरमैया ही मुख्यमंत्री बने रहेंगे। अगर बहुमत से कम सीटें मिलती हैं तो ऐसे में निर्दलीयों का सहारा लिया जा सकता है। हालांकि सिद्दरमैया पहले ही बोल चुके हैं कि किसी दलित को मुख्यमंत्री बनाया जाए तो वह मुख्यमत्री पद छोड़ देंगे। तो ऐसे में क्या कांग्रेस किसी दलित को मुख्यमंत्री या उपमुख्यमंत्री बना सकती है।

3. अगर कांग्रेस बहुमत के आंकड़े से दो-चार सीटें पीछे रह गई तो निर्दलीय विधायक ही उसका सहारा बनेंगे। ऐसे में संभावना है कि किसी लिंगायत को जिम्मेदारी मिल सकती है।

4 .अगर जदएस 50-60 सीटें हासिल करने में सफल रहा तो आधा-आधा कार्यकाल फॉर्मूले पर भी सहमति बन सकती है। ऐसे में भी किसी दलित के हाथों कमान आ सकती है।

5. अगर कांग्रेस को जदएस के समर्थन की दरकार होगी तो सिद्दरमैया मुख्यमंत्री नहीं बन सकेंगे, क्यों कि जदएस और सिद्दरमैया के संबंध अच्छे नहीं रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस को मुख्यमंत्री पद के लिए नया चेहरा तलाशना होगा।

6. एक संभावना ये भी है कि एचडी कुमार स्वामी के नेतृत्व में जदएस की भी सरकार बन सकती है। अगर भाजपा या कांग्रेस बाहर से समर्थन दें।

7. 2019 के चुनावों को लेकर भाजपा बड़ा दांव चल सकती है। अगर जदएस को 50 से 60 सीटें मिल गईं तो भाजपा जदएस का समर्थन कर सकती है, क्योंकि भाजपा की नजर 2019 के चुनावों पर है।

8. कांग्रेस भी 2019 को लेकर यही दांव चल सकती है ऐसे में क्या जदएस की सरकार बन जाएगी। इस बात को खारिज नहीं किया जा सकता है। खैर जो भी हो चुनाव परिणाम आ जाने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें ... एटीएम जेब में, दो मिनट में खाते से निकल गये 25 हजार, रिपोर्ट दर्ज

Web Title: Yeddyurappa nor Siddaramaiah, Dalit will be the command of Karnataka, know these eight big reasons! ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया