मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

मायावती का बड़ा ऐलान, जीत लिया करोड़ों का दिल, गठबंधन को भी दो टूक...


SHUBHENDU SHUKLA 27/05/2018 00:14:24
4705 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है। वहीं, मायावती ने शनिवार को बैठक में यह घोषणा करके करोड़ों लोगों का दिल जीत लिया कि अभी 22 साल तक खुद ही पार्टी का नेतृत्व करेंगी। बसपा सुप्रीमों ने जो भी फैसले लिए जनता और पार्टी समर्थकों ने दिल से स्वागत किया।

उन्होंने पार्टी के संविधान में बदलाव करते हुए कहा कि बसपा का जो भी राष्ट्रीय अध्यक्ष होगा, उसका कोई भी चहेता किसी भी विशेष पद पर नहीं रहेगा। सभी एकजुट होकर सामान्य कार्यकर्ता की तरह पार्टी के लिए काम करेंगे। उन्होंने गठबंधन को खरी खरी सुनाते हुए कहा कि बसपा का समर्थन पाने के लिए सम्मानजनक सीटें प्राप्त करना होगा।    

Mayawati made big changes in party

यह भी पढ़ें...विद्यालयों के ठेंगे पर DIOS के निर्देश, महत्वपूर्ण योजना को लगा रहे पलीता

  खुद करेंगी नेतृत्व 

बसपा सुप्रीमो ने ऐसे लोगों को चेतावनी भी दी जो पार्टी के बारे में अलग सोचते हों। उन्होंने कहा कि पार्टी का नेतृत्व अभी करीब 22 वर्षों तक वह स्वयं करेंगी। यदि कोई पार्टी का मुखिया बनने का सपना देख रहा है, तो भूल जाए। वह पार्टी को आगे बढ़ाने के लिए खुद ही प्रतिनिधित्व करेंगी और जो भी लोग उनका उत्तराधिकार बनने का ख्वाब भी बना रहे हों तो अभी से भूल जाएं। 

यह भी पढ़ें...पांच दिवसीय व्यक्तित्व विकास कार्यशाला संपन्न

  कांग्रेस की तरह परिवारवाद नहीं

मायावती ने पार्टी के उपाध्यक्ष पद से अपने भाई आनंद कुमार को हटा दिया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस में परिवारवाद की चर्चा होने लगी थी। वही स्थिति बसपा में भी देखने को मिलने लगी है। आनंद की तरह अपने रिश्तेदारों को पार्टी में शामिल करने के लिए सिफारिश करने लगे थे।उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि कई सिफारिशें तो सीधे सीधे उनके पास तक पहुंचने लगी थी। आनंद ने खुद ही पद छोड़ने की इच्छा व्यक्त की। जिसे स्वीकार लिया गया है। 

यह भी पढ़ें...वित्त मंत्री की अध्यक्षता में जिला योजना समिति की बैठक सम्पन्न

  रिश्देदारी नातेदारी खत्म

मायावती ने कहा कि बसपा पार्टी में रिश्तेदारी और नातेदारी नहीं चलेगी। जो भी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जाएगा उसके किसी भी चहेते को पार्टी के किसी भी पद पर नहीं रखा जाएगा। विशेष परिस्थितियों को छोड़कर कोई चुनाव भी नहीं लड़ पाएगा। यदि कोई निःस्वार्थ भाव से पार्टी की सेवा करना चाहेगा तो उसका सम्मान और स्वागत है। ऐसे लोगों को पार्टी में कार्य करने का अवसर दिया जाएगा और वह काम भी कर सकते हैं।  

यह भी पढ़ें...गार्डन में चल रहा था वो काम, पुलिस ने रेड मारकर किया भांडाफोड़

  गठबंधन को भी दो टूक

मायावती ने गठबंधन पर दो टूक जवाब देते हुए कहा कि बसपा सम्मानजनक सीट पाने वाली पार्टी के साथ ही किसी तरह का समझौता करेगी। उनकी पार्टी अकेले ही चुनाव लड़कर जीतने में समर्थ है। इसलिए कोई बसपा का लाभ नहीं उठा सकता। बसपा का समर्थन पाने के लिए सम्मानजनक सीट पाना किसी भी अन्य पार्टी के लिए जरूरी है।

Web Title: Mayawati made big changes in party ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया