मुख्य समाचार
लोन लेने से पहले जान लें ये खास बातें, ईएमआई भरने में नहीं होगी परेशानी सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सहित 5 लोगों को फर्जीवाड़े में सात साल की सजा राबड़ी का केन्द्र पर गंभीर आरोप, लालू को जहर देकर मारना चाहती है सरकार सलमान ने शादी न करने की बताई यह खास वजह, जानकर रह जाएंगे हैरान कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम् पहुचे कैथेड्रल चर्च #IPL2019 : पंजाब को पांच विकेट से हराकर दिल्ली के दिलवालों की जीत झोपड़ी में लगी आग, वृद्ध जिन्दा जला यूपी में सपा को लगा बड़ा झटका, दिग्गज नेता और उसके समर्थक कांग्रेस में शामिल स्मृति ईरानी के खिलाफ डिग्री मामले में कांग्रेस नेता ने की चुनाव आयोग में शिकायत विदेश सचिव दो दिवसीय चीन के दौरे पर लखनऊ के 37 उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने के मंसूबों पर फिरा पानी जानिए जातिवाद पर हरियाणा हाईकोर्ट ने क्या टिप्पणी की स्वरा भास्कर के निशाने पर आईं प्रज्ञा ठाकुर, हेमंत पर दिया था बयान वेडिंग एनिवर्सरी पर अभिषेक ने शेयर की ऐश की फोटो, लिखा हनी मून, फैंस बोले इतना गुरूर... कॉफी विद करण मामला : पांड्या और राहुल पर लगा 20-20 लाख रुपये का जुर्माना बाइक पोल से टकराई, युवक की मौत अधिकारियों को नहीं दिखाई पड़ रहा आचार संहिता का उल्लंघन मथुरा में आइसक्रीम फैक्ट्री में अमोनिया गैस का रिसाव,15 की ​बिगड़ी तबियत मोदी ने इस नेता को बताया स्पीड ब्रेकर शूट के दौरान विक्की कौशल को आई गंभीर चोटें अपने सबसे बड़े चुनावी वादे को लेकर बुरी फंसी कांग्रेस सुरवीन चावला के घर आई नन्ही परी, देखें तस्वीर खोदा पहाड़ निकली चुहिया साबित होगा नकली भतीजा-बुआ का गठबंधन : केशव मौर्य एलएचबी कोच बने सुरक्षा कवच, बची भीषण तबाही स्पाइसजेट बना जेट के कर्मचारियों का सहारा, 100 पायलटों सहित 500 लोगों को दी नौकरी जल्‍द फाइटर जेट के कॉकपिट में नजर आएंगे विंग कमांडर अभिनंदन पूर्वा एक्सप्रेस हादसे के चलते बाधित हुआ हावड़ा रूट पर ट्रेनों का संचालन कोहली की पारी ने दिखाया कमाल, 10 रन से जीती RCB नोट्रे डेम को पहले जैसा बनाना चाहते हैं मैक्रों, येलो वेस्ट प्रदर्शन से बिगड़ी छवि को सुधारने की कवायद सीएम योगी बोले- बाबा साहेब ने न किया होता यह काम, तो आज भी किसी जमींदार के यहां भैंस चरा रहे होते अखिलेश 
 

41 हजार वेतन पाने वाले सिपाही को बताया मजदूर, 4 हजार का आय प्रमाण पत्र बनाया


SMT. HARSHITA PATAIRIYA 27/05/2018 20:29:43
863 Views

झांसी। सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कैसे होता है,ये बात लगभग सभी जानते हैं,लेकिन किस हद तक होता है। इसका उदाहरण टहरौली तहसील प्रशासन द्वारा बनाया गया एक आय प्रमाण पत्र बता रहा है। जिसमें लेखपाल से लेकर तहसीलदार ने तक अपनी मुहर लगाई है। कमाल की बात तो यह है कि इस आय प्रमाण पत्र में एक 41 हजार रुपए वेतन पाने वाले काॅन्सटेबल को मजदूर दर्शाते हुए उसकी आय 4 हजार रुपए महीने बताई गई है। प्रशासनिक तंत्र के इस मखौल को हवा देने में तहसीलदार ने भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। अपना पक्ष रखने के स्थान पर उल्टा वह बिदक गए।

41 thousand salaries to be told by Labour, 4 thousand income certificates made

ग्राम टहरौली किला निवासी हरनाम सिंह पुत्र गजाधर उत्तर प्रदेश पुलिस में कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात है। उसे अपने बच्चों के विद्यालय में आय प्रमाण पत्र की जरूरत पड़ी। इस पर उन्होंने करीब 15 दिन पूर्व जनसेवा केंद्र के माध्यम से अपने आय प्रमाण पत्र के लिये आवेदन किया था। आवेदन में उन्होंने अपनी नौकरी का जिक्र करते हुए मासिक वेतन 41 हजार रुपए की पे स्लिप भी लगायी थी। अब जब उनका आय प्रमाण पत्र बनकर आया तो वह देखकर दंग थे। तहसील प्रशासन ने बिना कागजातों की जांच-पड़ताल किये ही हरनाम सिंह की मासिक आय 4 हजार रुपये मात्र घोषित कर दी। लापरवाही का यह दौर यहीं नहीं थमा। पे स्लिप लगे होने के बाबजूद भी हरनाम को मजदूर दर्शाते हुए आय प्रमाण पत्र बना दिया गया।  हरनाम सिंह के टहरौली तहसील प्रशासन द्वारा निर्गत किये गये आय प्रमाण पत्र का आवेदन क्रमांक 181660010020372 है जबकि प्रमाण पत्र क्रमांक 363181001984 है। इस संबंध में आवेदक हरनाम सिंह का कहना है कि वह गाजियाबाद के थाना साहिबाबाद में काॅस्टेंबिल के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने अपने आय प्रमाण पत्र के लिये आवेदन एक जनसेवा केन्द्र से किया था। उन्होंने अपनी आय दिखाने के लिये आवेदन के साथ अपनी पे स्लिप भी लगायी थी।

विधायक का साला है आवेदक

टहरौली तहसील में पदस्थ अधिकारियों की लापरवाही का यह पहला मामला नहीं है। यहां के लापरवाह और उदासीन अधिकारी पहले भी इस तरह के कई कारनामों को अंजाम दे चुके हैं।  आवेदक मऊरानीपुर विधायक के साले भी बताए जा रहे हैं। 

बोले तहसीलदार, सही-गलत देखने के लिए नहीं है जादू की छड़ी

इस संबंध में तहसीलदार लक्ष्मीनारायण का बयान भी चौंकाने वाला है। उन्होंने पूछे जाने पर अपनी या अधीनस्थों की गलती को स्वीकार नहीं किया, उल्टा कहा कि तहसील में हजारों प्रमाण पत्र बनने के लिये आते हैं। उनके पास कोई जादू की छड़ी नहीं है। जिससे वो पता लगा सकें कि कौन सा प्रमाण पत्र गलत है। तहसीलदार का यह गैर जिम्मेदारी वाला बयान वर्तमान में जनता की परेशानी की स्थिति को बयां करने के लिए काफी है।

Web Title: 41 thousand salaries to be told by Labour, 4 thousand income certificates made ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया