मुख्य समाचार
लोन लेने से पहले जान लें ये खास बातें, ईएमआई भरने में नहीं होगी परेशानी सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सहित 5 लोगों को फर्जीवाड़े में सात साल की सजा राबड़ी का केन्द्र पर गंभीर आरोप, लालू को जहर देकर मारना चाहती है सरकार सलमान ने शादी न करने की बताई यह खास वजह, जानकर रह जाएंगे हैरान कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम् पहुचे कैथेड्रल चर्च #IPL2019 : पंजाब को पांच विकेट से हराकर दिल्ली के दिलवालों की जीत झोपड़ी में लगी आग, वृद्ध जिन्दा जला यूपी में सपा को लगा बड़ा झटका, दिग्गज नेता और उसके समर्थक कांग्रेस में शामिल स्मृति ईरानी के खिलाफ डिग्री मामले में कांग्रेस नेता ने की चुनाव आयोग में शिकायत विदेश सचिव दो दिवसीय चीन के दौरे पर लखनऊ के 37 उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने के मंसूबों पर फिरा पानी
 

रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा लेखपाल


SMT. HARSHITA PATAIRIYA 30/05/2018 19:20:49
207 Views

झांसी। सरकारी मशीनरी द्वारा किसानों के घावों पर मरहम की जगह कैसे नमक मला जा रहा है इसका उदाहरण मऊरानीपुर में देखने को मिला। यहां सूखा राहत राशि दिलाने के बदले किसानों से घूस लेते हुए लेखपाल को एंटी करप्शन की टीम ने रंगे हाथों पकड़ लिया।

Bribe-taking dyed hands caught Lekhapal

एंटी करप्शन प्रभारी झांसी अम्बरीश यादव ने बताया कि तहसील मऊरानीपुर के ग्राम वीरा निवासी भागीरथ ने एंटी करप्शन विभाग को प्रार्थनापत्र दिया था कि हल्का का लेखपाल मुन्नालाल सूखा राहत के एवज में एक हजार रुपए सुविधा शुल्क की मांग कर रहा है। इस पर भरोसा करते हुए बुधवार को एंटी करप्शन टीम ने हल्का लेखपाल मुन्नालाल को एक हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ लिया। आरोपी लेखपाल को कोतवाली मऊरानीपुर की हिरासत में सौंप दिया गया है। इसके साथ ही मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है। 

एक हजार की रिश्वत के लिए लेखपाल बना रहा था दबाव

इस मामले में पीड़ित किसान भागीरथ ने बताया कि मुआवजे का पैसा खाते में डाले जाने के लिए उससे एक हजार रुपए मांगा जा रहा था, पहले से आर्थिक रूप से परेशान भागीरथ ने सोचा कि लेखपाल अपनी मनमानी पर उतारू है। भागीरथ को एहसास था कि उसका नाम मुआवजा सूची में है, तब किस बात की रिश्वत। भागीरथ ने इसकी सूचना एंटी करप्शन टीम को दी और लेखपाल की रिश्वतकांड का पर्दाफाश हो गया।
बोले एण्टी करप्शन टीम प्रभारी, लेखपाल ने सबके सामने ली रिश्वत

एंटी करप्शन प्रभारी अंबरीश यादव ने बताया कि हमारे पास प्रार्थना पत्र आया कि वीरा गांव में भागीरथ के नाम सूखा राहत की सूची में था। वावजूद इसके एक हजार रुपए की रिश्वत मांगी जा रही है। प्रार्थनापत्र की जांच के बाद आरोप सही पाए गए गवाह दिए गए। मुख्यालय लखनऊ में सूचना दी, वहां से ग्रीन सिग्नल मिला। लेखपाल ने तहसील में सभी के सामने घूस ली।

संपत्ति की जांच

झांसी जिले के अलग अलग तहसीलों के लेखपाल इस तरह से गोरखधंधे में जुटे हुए हैं। जमीन की पैमाईश के नाम पर, लोगों के आर जी नम्बर पर गुमराह करके लेखपाल मोटी रकम कमा रहे है। जरुरत है कि लेखपालों के संपत्ति की जांच करायी जाए, जो कि सुरसा की मुंह की तरह अरबो रुपए में पहुंच चुकी है।

Web Title: Bribe-taking dyed hands caught Lekhapal ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया