मुख्य समाचार
 

सीता को टेस्ट ट्यूब बेबी बताने वाले दिनेश शर्मा कैसे बने प्रोफेसर से डिप्टी सीएम, जानें पूरा सफर


UMENDRA SINGH 02/06/2018 17:31 PM
408 Views

Lucknow. नेताओं का विवादित बयानों से पुराना नाता रहा है। वे जोश में कई बार ऐसा बोल जाते हैं कि जो उनको नुकसान पहुंचा देता है। कुछ ऐसा ही वाक्या हो गया है उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के साथ। दिनेश शर्मा ने एक कार्यक्रम में सीता माता को टेस्ट ट्यूब बेबी बता डाला जिसके बाद से उनकी खूब आलोचना हो रही है। आइए जानते हैं दिनेश शर्मा कैसे पहुंचे भाजपा में इस खबर में।

  यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस में होने जा रहा बड़ा बदलाव, बन रही लिस्ट, आलसियों में खलबली

deputy cm dinesh sharma news

पहले जानिए वो विवाद जिसमें फंस गये दिनेश शर्मा

उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर में आयोजित एक समारोह मनाया जा रहा था। बतौर मुख्य अतिथि यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा को भी बुलाया गया। वहां पर उन्होंने अपने भाषण में कह दिया कि कहा जाता है कि सीता माता का जन्म घड़े से हुआ था। इसका मतलब है कि उस समय भी टेस्ट ट्यूब बेबी कॉन्सेप्ट था। बस यही बयान उनके जी का जंजाल बन गया है। अब बताते हैं कौन हैं दिनेश शर्मा।

deputy cm dinesh sharma news

वाणिज्य के प्रोफेसर रहे हैं दिनेश शर्मा

लखनऊ में ही 12 जनवरी 1964 को जन्मे दिनेश शर्मा इस समय 54 साल के हैं। राजनीति में आने से पहले दिनेश शर्मा लखनऊ विश्वविद्यालय में पढ़ाया करते थे। वो वाणिज्य विभाग के प्रोफेसर थे। उन्होंने सन 1992 में लखनऊ विवि में वाणिज्य विभाग में बतौर पढ़ाना शुरू किया था। दिनेश शर्मा विवि में अपने छात्रों के बीच काफी फेमस थे। उन्होंने कई साल तक वहां पढ़ाया।

प्रोफेसर से बन गये लखनऊ के मेयर

दिनेश शर्मा प्रोफेसर होने के साथ ही लंबे समय से भाजपा के साथ भी जुड़े हुए थे। उन्होंने प्रोफेसर रहते हुए ही भाजपा में अपनी पैठ बना ली थी। पढ़ा-लिखा होने की वजह से उनको लाभ मिला और भाजपा ने भी मेयर के चुनाव के दौरान उन पर दांव लगाना उचित समझा। आपको शायद पता नहीं होगा लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी ने सन 2006 में अपना अंतिम भाषण दिनेश शर्मा को जिताने के लिए ही दिया था।

deputy cm dinesh sharma news

2008 में पहली बार चुने गये लखनऊ के मेयर

बात 2008 की है। लखनऊ में मेयर पद के चुनाव होने थे। सभी दलों ने अपने उम्मीदवार खड़े किये थे। भाजपा की बारी आई तो पार्टी ने पढ़े-लिखे चेहरे दिनेश शर्मा को आगे कर दिया। भाजपा में अपनी पैठ बना चुके दिनेश का किसी ने विरोध भी नहीं किया। भाजपा की योजना काम भी आई और लखनऊ की जनता ने 2008 में दिनेश शर्मा को मेयर की कुर्सी दे दी।

deputy cm dinesh sharma news

दोबारा जीत लिया लखनऊ का भरोसा, बने मेयर

इसके बाद मेयर पद पर रहते हुए दिनेश शर्मा ने अच्छा काम किया। इसी वजह से दिनेश शर्मा लखनऊ की पसंद बन गये। भाजपा ने भी इस इशारे को समझ लिया और दोबारा दिनेश शर्मा को ही मेयर प्रत्याशी बना डाला। 2012 में फिर से दिनेश शर्मा सबको पछाड़ते हुए मेयर बन गये। इसके बाद तो उनका कद भाजपा में बढ़ता ही गया और वो भाजपा के करीब आ गये।

जब राजनाथ के लिए छोड़ दी थी सीट

बात साल 2014 की है। लोकसभा चुनाव होने वाले थे। नामांकन चल रहे थे और दिनेश शर्मा का लखनऊ से टिकट फाइनल हो गया था। अचानक से फैसला हुआ कि इस सीट से राजनाथ सिंह लड़ेंगे। आदेश मिलते ही दिनेश शर्मा ने एक पल गंवाये राजनाथ को आगे कर दिया। बस यहीं से वो मोदी और शाह के करीब आ गये। चुनाव जीतने के बाद उनको इनाम में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद दे दिया गया।

योगी सरकार में बना दिये गये डिप्टी सीएम

दिनेश शर्मा अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे थे। इसी दौरान यूपी विधानसभा चुनाव आ गये। उन्होंने काफी मेहनत की और सबके प्रयास से भाजपा बहुमत से सत्ता में आ गई। दिनेश शर्मा को इनाम मिला और मोदी ने उनको यूपी का डिप्टी सीएम बना दिया।

Web Title: deputy cm dinesh sharma news ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया