मुख्य समाचार
विश्व कप में खिलाड़ियों के साथ जा सकेंगी पत्नियां पर BCCI ने लगाई तमाम बंदिशें साध्वी प्रज्ञा का मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान अवैध कमाई के लिए डग्गामार वाहनों पर मेहरबान है पुलिस— प्रशासन मायावती ने मुलायम की मौजूदगी में मंच किया खुलासा - गेस्टहाउस कांड के बाद भी इसलिए हुआ गठबंधन इंस्टाग्राम को लेकर आई बड़ी खबर, यूजर्स का पासवर्ड असुरक्षित तरीके से स्टोर हाईकोर्ट से भाजपा विधायक को बड़ा झटका, सुनाई गयी आजीवन कारावास की सजा  प्रियंका ने राहुल गांधी को सौंपा अपना इस्तीफा #IPL2019 : दिल्ली कैपिटल्स को 40 रन से हराकर मुंबई पहुंची दूसरे स्थान पर जेट एयरवेज की हवाई सेवाएं बंद होने पर निराश हुए फिल्मी सितारे साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ NIA कोर्ट में याचिका दायर, चुनाव लड़ने पर रोक की मांग बुधवार को जेट एयरवेज ने भरी आखिरी उड़ान कोई भी अपराजेय नहीं है, सबको हराया जा सकता है : आचार्य प्रमोद कृष्णम World Cup के लिए ईशांत, सैनी और अक्षर होंगे टीम इंडिया के स्टैंड बाई राज्यपाल को पीजीआई में लगाया गया पेसमेकर, पूरी तरह हैं स्वस्थ
 

प्रमुख सचिव कर रहे भ्रष्टाचार, उच्च स्तरीय जांच की मांग


SHUBHENDU SHUKLA 07/06/2018 20:31:51
184 Views

Lucknow. राज्यपाल राम नाईक द्वारा सीएम योगी आदित्यनाथ को प्रेषित पत्र में प्रमुख सचिव पर भ्रस्टाचार का आरोप लगाया है। पत्र का हवाला देते हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-राकांपा ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए मामले की उच्च स्तरीय जांच करने की मांग की है।

Chief Secretary asks for high level inquiry into corruption

यह भी पढ़ें...कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर किया प्रदर्शन, सीएम को भेजा ज्ञापन

  भ्रष्टाचार चरम पर

राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि करप्शन फ्री निजाम का जुमला उछाल कर बीजेपी सत्ता में आई। लेकिन भ्रष्टाचार अपनी चरम पर पहुंच गया है। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव पर 25 लाख की घूस का आरोप लगा है। इस बाबत स्वयं राज्यपाल महोदय ने पत्र लिख कर मुख्यमंत्री को भेजा है। डॉ. रमेश दीक्षित ने इस पूरे प्रकरण की एक उच्च स्तरीय जांच कमेटी बनाकर जांच की मांग की है।

यह भी पढ़ें...धर्म परिवर्तन मामला: 10 महीने तक युवक ने किया रेप, गर्भवती होने पर खुला राज...

बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना

प्रदेश अध्यक्ष ने जारी एक बयान में कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना है, जब भ्रस्टाचार से सम्बंधित मामले को लेकर राज्यपाल सीएम को उनके अफसर के बारे में शिकायती पत्र भेज रहे हैं। उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। उन्होंने योगी सरकार पर आरोप लगाया कि जिले के कलेक्टर को निलंबित करने वाले मुख्यमंत्री अपने प्रमुख सचिव की हरकतों से कैसे अनभिज्ञ है।

यह भी पढ़ें...महिला पुलिस से इंस्पेक्टर ने किया था रेप, थाने से फरार होने पर मचा हड़कंप

  लगाए गंभीर आरोप

दीक्षित ने आरोप लगाते हुए कहा कि पूरा मुख्यमंत्री कार्यालय आकंठ भ्रस्टाचार में लिप्त है। भ्रस्टाचार की जड़ इतनी गहरी है कि मुख्यमंत्री कार्यालय भी उससे अछूता नहीं है। यह अत्यंत ही शर्मनाक है। 

Web Title: Chief Secretary asks for high level inquiry into corruption ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया