मुख्य समाचार
12वीं पास को यहां नौकरी का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन आराध्या बच्चन ने अपने कमाल के डांसिंग मूवस से जीता सबका दिल, देखें वीडियो ...तो एडल्ट बैकग्राउंड पर शर्मिंदा होती सनी लियोनी? दिए चौंकाने वाले जवाब Exit Polls में कांग्रेस के लिए एक खुशखबरी Redmi Note 7s स्मार्टफोन भारत में लॉन्च, जानें कीमत गर्लफ्रेंड गैब्रिएला के साथ मालदीव में छुट्टी बिता रहे हैं अर्जुन रामपाल, देखें तस्वीरें ...तो यूपी में बीजेपी का सूपड़ा हो जाएगा साफ, मायावती बनेंगी किंग मेकर! सिद्धू के पास एकमात्र विकल्प, इमरान खान की पार्टी कर लें ज्वाइन कुख्यात बदमाश ने दिल्ली पुलिस के सब इंस्पेक्टर को पीट-पीटकर मार डाला IAS बनने का है सपना, यहां फ्री में पाएं UPSC कोचिंग की सुविधा इस नियम को तोड़कर शिल्पा शेट्टी ने लिया इफ्तार पार्टी का मजा, शेयर किया वीडियो पाकिस्तानी बल्लेबाज आसिफ अली की बेटी की मौत, कैंसर का थी शिकार राज्यपाल ने ‘मधु अभिलाषा’ और ‘हिंद स्वराज्य का पुनर्पाठ’ पुस्तकों का किया विमोचन कांग्रेस अंतिम चरण की सात से ज्यादा लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करेगी: प्रवक्ता पाकिस्तान की दो बेटियों ने काशी में किया मतदान, बोलीं बेहतरीन है हिंदुस्तान IPL को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, मुंबई पुलिस ने IPL में मुहैया कराई सुरक्षा, नहीं मिला पैसा सीआईएसएफ ने दो सूडान मूल के नागरिकों से बरामद की लाखों की विदेशी करेंसी प्रेम नारायण मेहरोत्रा के 'भजन संग्रह' का विमोचन लड़कियों के लिए सुनहरा मौका, बालों से होगी कमाई, करना होगा ये काम राजधानी में टेंट कारोबारी की राह चलते गोली मारकर हत्या से मची सनसनी वोटर लिस्ट में तेजस्वी की जगह इस शख्स की तस्वीर, मचा हड़कंप आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर वॉल्वो बस पलटी, पांच की मौत, दो दर्जन घायल चुनाव आयोग पीएम मोदी के इशारे पर कर रहा पक्षपातपूर्ण बर्ताव : कांग्रेस आयोग में आंतरिक घमासान के निपटारे के लिए सीईसी ने मंगलवार को बुलाई बैठक मायावती ने कहा- क्या वाराणसी 1977 के रायबरेली को दोहराएगा कान फिल्म फेस्टिवल 2019 में जलवा बिखेरकर लौटीं दीपिका पादुकोण, एयरपोर्ट पर वायरल हुईं तस्वीरें समीक्षा अधिकारी पर्चा लीक मामले में सीबीसीआईडी ने कोर्ट को भेजी अंतिम रिपोर्ट भाजपा ने चुनाव आयोग से की मायावती-अखिलेश की शिकायत  दो अलग अलग घटनाओं में जहरीला पदार्थ खाने से युवती और किशोरी की मौत
 

कर्नाटक: गठबंधन में इस बात को लेकर सियासी घमासान, अब राहुल ही रोक सकेंगे जंग...


SHUBHENDU SHUKLA 16/06/2018 09:32:40
452 Views

Bengaluru. कर्नाटक में कांग्रेस और जदएस की गठबंधन वाली सरकार को बने अभी कुछ ही महीने बीते हैं। लेकिन यहां सियासी घमासान शुरू हो गया है। राहुल गांधी से कर्नाटक के लोकसभा व राज्यसभा के 15 सांसदों ने मुलाकात करने के लिए समय मांगा है। यह जंग कर्नाटक में अध्यक्ष पद की दावेदारी को लेकर है। अब राहुल ही इस सियासी घमासान के जंग को रोक सकते हैं। 

Karnaatak Mein Adhyaksh Pad Ko Lekar Ghamaasaan

यह भी पढ़ें...अखिलेश यादव को लेकर शिवपाल यादव का यह बडा बयान, राजनीतिक गलियारे में मचा हड़कंप..

  इन्हें अध्यक्ष बनाने की मांग

बीजेपी को कर्नाटक में शिकस्त देने के बाद कांग्रेस और जदएस ने आपसी तालमेल बिठाकर सरकार चलानी शूरू कर दी थी। लेकिन अध्यक्ष पद को लेकर जंग से सरकार की किरकिरी होनी शुरू हो गई है। नेता अपनी अपनी दावेदारी अध्यक्ष बद के लिए जताने लगे हैं। राहुल गांधी से मुलाकात कर सांसदों ने इसका समाधान निकालने के लिए राहुल गांधी से मिलकर वार्ता के लिए समय मांगा है। कांग्रेस के सांसदों ने बेंगलुरु में बैठक की थी। बैठक में 7 बार के सांसद व पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री एचसी मुनियप्पा को समर्थन देकर अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव रखा है। 

Karnaatak Mein Adhyaksh Pad Ko Lekar Ghamaasaan

यह भी पढ़ें...संपादक की हत्या पर भड़कीं मायावती, BJP पर बोला हमला, कहा-शहादत पर भी क्यों नहीं...?

  ये नहीं मुनियप्पा के पक्ष में 

अध्यक्ष पद की दावेदारी को लेकर घमासान के बीच कुछ सांसद प्रदेश प्रभारी केसी. वेणुगोपाल कार्यकारी अध्यक्ष दिनेश गुंडुराव की पैरवी कर रहे हैं। वहीं, पूर्व सीएम सिद्धारमैय्या के साथ ही मल्लिकार्जुन खडग़े का भी समर्थन मिल रहा है। लेकिन दोनों सदनों की बात करें तो कर्नाटक के दोनों सदनों के 17 सांसदों में 15 का समर्थन किसी वरिष्ठ नेता को अध्यक्ष बनाए जाने का है। खड़गे और डीके सुरेश मुनियप्पा को अध्यक्ष बनाने के समर्थन में नहीं हैं। 

यह भी पढ़ें...महागठबंधन की खास रणनीति, BJP को धूल चटाने के लिए अखिलेश और मयावती का ये गणित...

  राहुल से उम्मीद

बताते चलें कि मुनियप्पा दलित समुदाय से हैं। ऐसे में कुछ सांसदों का कहना है कि वह जिस वर्ग से आते हैं, उसे अब तक मौका नहीं मिला है। 10 जून को इस बाबत बंगलूरू में 15 सांसदों ने बैठक भी की थी। इसमें लोकसभा के 9 सांसदों में 7 और राज्यसभा के 8 सांसदों ने मुनियप्पा के पक्ष में समर्थन जाहिर किया। बात बनता नहीं देख 15 सांसदों ने राहुल गांधी से मिलने के लिए समय मांगा है। सांसदों का कहना है कि वह राहुल तक अपनी बात पहुंचाना चाहते हैं। वहीं, दूसरी ओर यह भी कहा जा रहा है कि मुनियप्पा वरिष्ठ नेता हैं।

यह भी पढ़ें...महागठबंधन की खास रणनीति, BJP को धूल चटाने के लिए अखिलेश और मयावती का ये गणित...

जदएस के एचडी देवगौड़ा व एचडी कुमार स्वामी के साथ ​घनिष्ठ संबंध हैं। ऐसे में गठबंधन की सरकार को चलाने में  बेहतर मदद मिलेगी। वरिष्ठ नेताओं के हस्तक्षेप पर किसी तरह की राजनीति होने की संभावना भी शेष नहीं रह जाएगी। फिलहाल अब राहुल गांधी इस समस्या का हल किस तरह निकालते हैं, यह सांसदों से मुलाकात के बाद ही तय हो पाएगा।

Karnaatak Mein Adhyaksh Pad Ko Lekar Ghamaasaan

Web Title: Karnaatak Mein Adhyaksh Pad Ko Lekar Ghamaasaan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया