मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

किसान विरोधी योगी सरकार का असली चेहरा सामने आया: जयंत चौधरी


SHUBHENDU SHUKLA 28/06/2018 19:29:16
456 Views

Lucknow. राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने प्रदेश सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि 27 जून को उप्र सरकार ने उधोगपतियों की मांग पर सर्किल रेट पर किसानों की भूमि अधिग्रहित करने का फैसला लिया है। जिससे साबित हो रहा है कि सरकार पूंजीपतियों के हाथ का खिलौना बनकर रह गयी है। 

Jayant Chaudhary said the CM Yogi Government anti farmer

यह भी पढ़ें...राजस्थान चुनाव: गठबंधन को लेकर मायावती के इस करीबी नेता का बड़ा बयान

भूमि-अधिग्रहण कानून में बदलाव

2013 में तत्कालीन यूपीए सरकार ने किसानों के लम्बे आंदोलन के बाद 1894 के भूमि-अधिग्रहण कानून में बदलाव कर एक नया कानून बनाया था। जिसमें आवश्यक कार्यों के लिए किसान की जमीन लिए जाने पर ग्रामीण क्षेत्र मे सर्किल रेट का चार गुना और शहरी क्षेत्र मे दो गुना मुआवजा दिए जाने का प्राविधान किया गया था। योगी सरकार ने सैकड़ों किसानों की शहादत को भुला कर नई अधिग्रहण नीति की घोषणा कर पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए की गई है। किसान अपने हक़ में अपनी सरकार से, संसद से क़ानून बनवाना चाहता है, तो उसे आंदोलन करने पड़ते हैं, लाठी, गोली खानी पड़ती हैं। लेकिन इस देश का पूंजीपति को अपने पक्ष में क़ानून नीति बनवाने में देर नहीं लगती।

यह भी पढ़ें...12वीं पास के लिए श्रम मंत्रालय में निकली वैकेंसी, आवेदन फ्री

  बदला था कानून

उन्होंने कहा कि 118 साल बाद अधिग्रहण क़ानून बदला था। मंत्री सिधार्थ नाथ सिंह ने कैबिनेट के फ़ैसले की घोषणा करते हुए स्पष्ट कहा कि यूपी सरकार का फ़ैसला तब लिया गया जब investors summit में उद्योगपतियों ने ये सुझाव सरकार को दिया। सवाल बनता है की क्या सरकार के पास पर्याप्त लैंड बैंक विकसित नहीं है? सत्य ये भी है पिछले दशकों से विभिन्न औद्योगिक विकास प्राधिकरणों द्वारा अधिगृहीत अधिकांश भूमि आज भी खाली पडी है, अथवा उस पर आवासीय योजना बना दी गई है।

यह भी पढ़ें...#Cricketers_Love_Stories : रोहित का ये प्रपोज अंदाज आपको भी कर देगा दीवाना

  कोर्ट के संज्ञान में मामला

उन्होंने कहा कि औधोगिक क्षेत्र के नाम पर सस्ती दर पर किसानों की भूमि छीनकर उसे महंगी दर पर आवास आवंटित करने का नोएडा, ग्रेटर नोएडा का खेल न्यायालय के संज्ञान में भी आ चुका है। समय-समय पर इन औधोगिक विकास प्राधिकरणों व सरकार को न्यायालय द्वारा दिशानिर्देश भी जारी किए गए हैं। पूर्व मे भी राष्ट्रीय लोकदल द्वारा पुराने भूमि अधिग्रहण कानून मे बदलाव के लिए सड़क से संसद तक लम्बा आंदोलन चलाया गया था। उन्होंने चेतावनी देते हुये कहा कि योगी सरकार के इस किसान विरोधी फैसले पर भी राष्ट्रीय लोकदल चुप नहीं रहेगा। प्रदेश के किसानों के साथ सड़क पर उतरकर इस पूंजीपतियों की गुलाम सरकार को घुटने टेकने पर बाध्य करेगा।

Web Title: Jayant Chaudhary said the CM Yogi Government anti farmer ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया