मुख्य समाचार
गौ सरंक्षण से आमजन बनें स्वावलम्बी भाजपा की इस दिग्गज महिला नेता को लगा बड़ा झटका, मायावती के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने पर केस दर्ज बेकाबू कार ने मारी कई गाड़ियों को टक्कर 15 हजार के इनामी चार लुटेरे लूट के 1.30 लाख के साथ गिरफ्तार लोकसभा चुनाव : सातवें चरण की 13 सीटों के लिए नामांकन 22 अप्रैल से आजम खान के बाद उनके बेटे ने जया प्रदा को लेकर दिया विवादित बयान SSC में आवेदन का अंतिम मौका आज बीएसपी पर योगी सरकार में मंत्री का तंज - साहब दुनिया छोड़ गये, अब बीवी और गुलाम बचे हैं IPL 2019 : धोनी की दमदार पारी के बावजूद भी एक रन से हार गई चेन्नई मंगेतर की मांग नहीं पूरी कर सका तो खा लिया जहर, मौत इस विधायक की सदस्यता समाप्त करने के लिए कांग्रेस में प्रक्रिया शुरु  इस नामी भाजपा प्रत्याशी पर एमसीसी उल्लंघन का दर्ज हुआ मुकदमा लोन लेने से पहले जान लें ये खास बातें, ईएमआई भरने में नहीं होगी परेशानी सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सहित 5 लोगों को फर्जीवाड़े में सात साल की सजा राबड़ी का केन्द्र पर गंभीर आरोप, लालू को जहर देकर मारना चाहती है सरकार सलमान ने शादी न करने की बताई यह खास वजह, जानकर रह जाएंगे हैरान कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम् पहुचे कैथेड्रल चर्च #IPL2019 : पंजाब को पांच विकेट से हराकर दिल्ली के दिलवालों की जीत झोपड़ी में लगी आग, वृद्ध जिन्दा जला यूपी में सपा को लगा बड़ा झटका, दिग्गज नेता और उसके समर्थक कांग्रेस में शामिल स्मृति ईरानी के खिलाफ डिग्री मामले में कांग्रेस नेता ने की चुनाव आयोग में शिकायत विदेश सचिव दो दिवसीय चीन के दौरे पर लखनऊ के 37 उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने के मंसूबों पर फिरा पानी
 

राष्ट्रीय लोकदल के नेता डॉ. मसूद अहमद ने किसानों के लिए किया संघर्ष का ऐलान


NAZO ALI SHEIKH 30/06/2018 16:01:28
372 Views

Lucknow. राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश कार्यालय पर आयोजित प्रेसवार्ता में पत्रकार बन्धुओं को सम्बोधित करते हुये प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद ने कहा, कि यह देश कृषि प्रधान है और आज भी लगभग 80 प्रतिशत लोग कृषि के माध्यम से जीवन यापन करते हैं। यही कारण है कि जब भी इस देश की केन्द्र और प्रदेश सरकारों के द्वारा किसानों की अनदेखी की जाती है। 

यह भी पढ़ें... #ACT_Series : जानिए क्या है धारा 92 जिसके तहत जम्मू-कश्मीर में लगता है राज्यपाल शासन

rashtriye Lok Dal leader Dr. Masood Ahmad announced the struggle for farmers

किसान के हितों में कटौती की बात सोचने का प्रयास होता है। तो किसान मसीहा चरण सिंह की नीतियों पर कुठाराघात का आभास करके राष्ट्रीय लोकदल चुप नहीं रह पाता है। और किसान हितों के लिए संघर्ष का ऐलान करते हुये सड़कों पर उतरता है। भूमि अधिग्रहण के सन्दर्भ में 118 वर्ष पुराने अंग्रेजों के समय के कानून को यूपीए सरकार के शासनकाल में राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ अजित सिंह एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने वर्ष 2013 में भूमि अधिग्रहण बिल पेश किया और इस पर बहस हुई और किसानों के आन्दोलन में सैकड़ों जानें गयीं। 

यह भी पढ़ें... उर्दू शिक्षकों ने डीएम से की भर्ती बहाली की मांग

तब औद्यौगिक क्रान्ति को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों की भूमि का अधिग्रहण सर्किट रेट से चार गुना दर पर तथा शहरी क्षेत्र की जमीन का अधिग्रहण सर्किल रेट से दोगुनी कीमत पर करने का कानून पास किया गया था। केन्द्र में भाजपा की सरकार बनते ही सरकार का किसान विरोधी चेहरा अचानक सामने आ गया। जब इन लोगों ने पुनः भूमि अधिग्रहण कानून को संशोधित करने की तैयारी कर ली लेकिन विपक्षी दलों द्वारा चारों ओर से घिर जाने के कारण उस समय संशोधन रुक गया। किसानों को खाद की बोरी 50 किलो की 340 रुपये में मिलती थी परन्तु इस सरकार के समय में 45 किलो खाद की बोरी 350 रुपये में मिल रही है। स्पष्ट है कि पूंजीपतियों की सरकार ने यहां भी कम सामान अधिक रुपये में देकर डण्डी मारने का काम किया है। जो स्पष्ट रूप से किसान विरोधी है और किसान इस शासन में त्राहि त्राहि कर रहा है उसे केवल आय दोगुनी करने का लॉलीपाप दिखाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें... खाद्य विभाग की टीम ने छापा मार कार्रवाई कर भरे नमूने

आगामी 4 जुलाई को समस्त जनपदों में राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा धरना प्रदर्शन करके किसान विरोधी सरकार को जगाने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा जायेगा। तत्पश्चात एक माह तक “पोल खोल धावा बोल” कार्यक्रम के द्वारा जन जागरण अभियान प्रदेश के कोने कोने में चलाया जायेगा। 

प्रेसवार्ता में प्रदेश अध्यक्ष डा0 मसूद अहमद के साथ राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे, प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी, युवा रालोद के प्रदेश अध्यक्ष अम्बुज पटेल, प्रदेश मीडिया प्रभारी जावेद अहमद, प्रदेश सचिव बी0एल0 प्रेमी, मनोज सिंह चैहान, रमावती तिवारी, प्रीति श्रीवास्तव तथा चन्द्रकांत अवस्थी मौजूद रहे। 

Web Title: rashtriye Lok Dal leader Dr. Masood Ahmad announced the struggle for farmers ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया