समाज कल्याण विभाग में भ्रष्टाचार, कफन लेकर धरने पर बैठा कर्मचारी


SHUBHENDU SHUKLA 04/07/2018 18:55:05
491 Views

Lucknow. भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टालरेंस का दावा करने वाली भाजपा सरकार के अधिकारियों का एक नया कारनामा सामने आया है। बाराबंकी में समाज कल्याण विभाग से सेवानिवृत्त हुआ चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी छह साल से अपनी पेंशन-ग्रेच्युटी के लिए चक्कर काट रहा है। उसके पैर खराब हो गए।पत्नी के आंखों की रोशनी चली गई, लेकिन पेंशन न मिली। विभाग के रवैये से नाराज कर्मचारी बुधवार को कफन लेकर समाज कल्याण दफ्तर पहुंच गया और धरने पर बैठ गया हैं। 

Corruption in the social welfare department

यह भी पढ़ें...ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर यूपी सरकार से जवाब तलब

  पेंशन-ग्रेच्युटी मामला

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में समाज कल्याण विभाग से सेवानिवृत्त हुआ चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी छह साल से अपनी पेंशन-ग्रेच्युटी के लिए विभाग के चक्कर काट रहा है। उसके पैर खराब हो गए। पत्नी के आंखों की रोशनी चली गई, लेकिन पेंशन न मिली। विभागगिये रवैये से नाराज कर्मचारी ने पेंशन जारी न होने पर न बुधवार को कफन लेकर धरने पर बैठे गया है। सेवानिवृत्त योगेंद्र सिंह पुत्र स्व. रामनाथ के मुताबिक वह समाज कल्याण विभाग बाराबंकी से 2012 में रिटायर हुआ था। 

यह भी पढ़ें...श़िक्षामंत्री फरमा रहीं आराम, स्कूली बच्चों के अभिवावक परेशान

  मांग रहे घूस

रिटायरमेंट के बाद से ही कर्मचारी योगेंद्र सिंह पेंशन के लिए बाराबंकी व लखनऊ में समाज कल्याण के दफ्तर के चक्कर लगा रहा है। पीड़ित का आरोप है कि बाराबंकी में दफ्तर के कर्मी पेंशन जारी करने के लिए घूस मांग रहे हैं। लखनऊ में इसकी शिकायत समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों से की गई तो 6 सालों से जल्द काम करा दिए जाने का आश्वासन दिया जाता रहा। 

  ऐसे हुआ था भुगतान

वहीं, इस मौके पर समाज कल्याण विभाग से 2014 में एक और रिटायर्ड कर्मचारी राजेश्वर दुबे ने बताया कि रिटायरमेंट के बाद मेरी भी काफी समय से पेंशन और ग्रेच्युटी नहीं दी जा रही थी। अधिकारी पैसे मांग रहे थे। जिसके बाद हम भी कफन लेकर धरने पर बैठ गए। इसके बाद ग्रेच्युटी और पेंशन का भुगतान किया गया। राजेश्वर दुबे ने आरोप लगाया है कि समाज कल्याण में भ्रष्टाचार व्याप्त है। जिससे काम के एवज में पैसे मांगे जाते हैं।

  क्या कहती है पीड़ित की पत्नी

वहींं, पीड़ित पति के अंधी पत्नी विमला सिंह का कहना है कि रिटायर होने के बाद हमारे पति पेंशन के लिए चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। जिससे हम लोग आज समाज कल्याण मुख्यालय पर जान देने के लिए बैठ गए हैं।

यह भी पढ़ें...बेसिक शिक्षा विभाग की मनमानी, स्कूल चलो अभियान को लगा रहे पलीता

  क्या कहते हैं निदेशक

''समाज कल्याण विभाग के निदेशक जगदीश प्रसाद बातचीत के दौरान कार्रवाई का आश्वासन दिया। वहीं, पिछले अन्य अधिकारियों की बात की गई तो निदेशक महोदय नए अधिकारियों की बात करते हुए तत्काल कार्रवाई की बात कही।''

Web Title: Corruption in the social welfare department ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया