मुख्य समाचार
भाजपा सरकार ने जनता की सुरक्षा को अपराधियों के आगे गिरवी रख दिया है : अखिलेश जन्मदिन विशेष: शाहरुख की फिल्में हिट कराने में सुखविंदर सिंह का बड़ा योगदान हज यात्री इन्तज़ामों में कमी बतायें, दूर किया जायेगा : मोहसिन रज़ा ‘‘भूजल सप्ताह’’ के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता एवं विज्ञान प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम आयोजित जालान पैनल ने तैयार की फंड ट्रांसफर की रिपोर्ट, सरकार को मिलेगी बड़ी राहत बाढ़ राहत के कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये : राहत आयुक्त राजकीय नलकूपों के यांत्रिक दोषों को 24 घंटे में दूर करें : धर्मपाल सिंह  पुलिस से परेशान व्यापारी ने खुद पर पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग बाढ़ पीड़ितों के लिए आगे आए अक्षय, प्रियंका ने भी की अपील सोनभद्र: 90 बीघा जमीन के लिए हुआ खूनी संघर्ष, 11 की मौत
 

संवेदनहीन अफसरों की छुट्टी करेगी योगी सरकार: शलभ मणि त्रिपाठी


SHUBHENDU SHUKLA 17/07/2018 17:10:26
380 Views

Lucknow. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही साथ पूरी उत्तर प्रदेश सरकार दिन रात जनता की सेवा में जुटी हुई है। खुद मुख्यमंत्री जनहित से जुड़े मुद्दों और कानून व्यवस्था को लेकर प्रदेश की तस्वीर बदलने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में जो अफसर और कर्मचारी जनता के प्रति संवेदनशील नहीं पाए जाएंगे उनके खिलाफ सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी। कुछ दिनों पूर्व दो जिलाधिकारियों का निलम्बन और कल हुआ पुलिस अधीक्षकों को सस्पेंशन इसी बात का प्रमाण है कि मुख्यमंत्री लापरवाह अफसरों को कतई बख्शने वाले नहीं है। 

Yogi Sarkar will leave insensitive officers

यह भी पढ़ें...बसपा में बड़ा हाहाकार, मायावती ने अपने सबसे करीबी नेता को निकाला, राहुल गांधी बने वजह

  अधिकारियों के साथ भेदभाव

मुख्यमंत्री ने जनपद सम्भल के पुलिस अधीक्षक राधे मोहन भारद्वाज तथा प्रतापगढ़ के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह को कार्यों में शिथिलता के आरोप में निलम्बित किया। त्रिपाठी ने कहा कि नाकारा अफसरों के खिलाफ हुई इस कार्रवाई से ऐसे नौकरशाहों में हडकंप मच गया है जो अभी भी जनहित के मुद्दों को लेकर गम्भीर और संवेदनशील नहीं है। सपा और बसपा की सरकारों ने नौकरशाही के साथ हमेशा दोयम दर्जे का व्यवहार किया। जाति और सम्प्रदाय के नाम पर अधिकारियों के साथ भेदभाव हुआ। 

  नौकरशाही का राजनीतिकरण

उन्होंने कहा कि इन दोनों ही सरकारों ने नौकरशाही का भरपूर राजनीतिकरण किया गया। इस बात की तस्दीक पूर्वमुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने उस बयान से भी की थी कि उनकी सरकार में अफसरों से कप-प्लेट उठवाई जाती थी। ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जब स्वस्थ वातावरण में अफसरों को सम्मानपूर्वक काम करने की आजादी दी है। तब ऐसे में अफसरों का भी दायित्व बनता है कि वे सरकार के जनहित की योजनाओं को न सिर्फ जरूरतमंदो तक पहुंचाएं बल्कि कानून व्यवस्था बेहतर करने और भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने में सरकार का सहयोग करें। 

यह भी पढ़ें...SBI PO Prelim Result का हुआ ऐलान, ऐसे जानें कौन हुआ पास...

  कायाकल्प करने का संकल्प

उन्होंने कहा कि सरकार बनने के तुुरन्त बाद से ही मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश का कायाकल्प करने का संकल्प उठाया था। इसी का परिणाम है कि उत्तर प्रदेश जहां आज विकास की राह पर काफी आगे बढ़ चुका है, तो वहीं कानून व्यवस्था की स्थिति भी पहले से काफी बेहतर हो गई है। मुख्यमंत्री ने नौकरशाही का राजीतिकरण खत्म करने का भी बीड़ा उठाया और हर अधिकारी को ईमानदारी से काम करने की छूट दी गई। इस दौरान भ्रष्ट और नाकारा अफसरों के खिलाफ बडे़ पैमाने पर पहली बार कार्रवाईयां भी की गई। 

  नहीं बदली कार्यशैली

उन्होंने कहा कि अफसोस है, सरकार की तरफ से पूरी छूट दिये जाने के बावजूद कुछ अफसरों ने अपनी कार्यशैली नहीं बदली। इसी का नतीजा है कि मुख्यमंत्री को दो जिलाधिकारियों और दो पुलिस अधीक्षकों को निलम्बित कर कड़ा संदेश देना पड़ा है। ये कार्रवाई इस बात का संदेश है कि लापरवाह और संवेदनहीन अफसर सरकार के निशाने पर हैं।

Web Title: Yogi Sarkar will leave insensitive officers ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया