मुख्य समाचार
बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन मायावती का आरक्षण पर बड़ा बयान, सरकार घूम-घूमकर करे ये काम.... लालू का चलना फिरना हुआ मुश्किल, डॉक्टर्स ने कहा- अब नहीं... यूजीसी ने प्लास्टिक बैन पर लिया बड़ा फैसला, विश्वविद्यालयों को लिखा पत्र शराब के नशे में फुटपाथ पर चढ़ाई कार, कई लोगों को किया घायल ताबड़तोड़ हत्याओं से दहला प्रयागराज, एक ही दिन में 6 मर्डर मिट्टी डालकर गड्ढामुक्त की जा रही डामर रोड शुद्ध जीवन जीने के लिए पेड़ लगाना जरूरी जानिए, कैसे बढ़ाएंं पलकों और होठों की खूबसूरती बिना सर्जरी ? कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सीएम की महारैली, कर सकते हैं ये बड़ा फैसला तेजस्वी के समर्थन में राबड़ी उठाया ये बड़ा कदम, परास्त हो गए सारे बागी प्लास्टिक के खिलाफ पीएम ने छेड़ी जंग, 10 लाख लोगों को करेंगे... मुख्यमंत्री से नहीं मिल सका दुनिया का सबसे लम्बा आदमी कांग्रेस पूरे प्रदेश में मनायेगी स्व0 राजीव गांधी की 75वीं जयन्ती अखिलेश ने दिया ऐसा बयान, किसान और जवान कर रहे सलाम!
 

मॉब लिंचिंग मामला में 12 लोगों को 4 साल की सजा


SHUBHENDU SHUKLA 18/07/2018 16:46:25
338 Views

Ranchi. झारखंड के सरॉयकेला मॉब लिंचिंग मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट का अहम फैसला आ गया है। कोर्ट ने 12 लोगों को 4 साल की सजा सुनाई है। बताते चलें कि चार लोगों को उग्र भीड़ से बचाने की कोशिश पुलिस कर रही थी इसी दौरान कुछ लोगों ने हमला बोल दिया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश आशीष सक्सेना ने गत सोमवार को फैसला सुनाया। कोर्ट ने आरोपियों पर दो हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। इसके साथ ही तीन अन्य पर आरोप साबित नहीं होने के कारण बरी कर दिया गया। बता दें कि घटना के बाद प्रदेश सरकार ने जल्द से जल्द सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट को मामला सौंप दिया था।  

Mob Linching Mamale Me 12 logon ko 4 Saal ki saja

यह भी पढ़ें...SBI PO Prelim Result का हुआ ऐलान, ऐसे जानें कौन हुआ पास...

  लगा दी थी आग

जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था वह उसी भीड़ का हिस्सा थे, जो चार लोगों को बच्चा चोर समझकर बेरहमी से पिटाई करने में जुटे हुए थे। घटना 18 मई 2017 को घटी थी। जब पुलिस ने बीच बचाव की कोशिश की तो उनके साथ भी मारपीट की। इतना ही नहीं पुलिस वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए आग के हवाले कर दिया था।  

यह भी पढ़ें...तीसरे हफ्ते भी जारी संजू की धुआंधार कमाई, BO पर रचा नया इतिहास

  व्यवस्था सुनिश्चत करें

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच ने केंद्र से कहा, किसी भी नागरिक को कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला माब लिंचिंग मामले पर कानून तैयार करने के एक दिन पहले ही आया है। राज्य सरकारों की जिम्मेदारी है कि कानून व्यवस्था सुनिश्चत करें। भीड़ का सहारा लेते हुए अपराधों को रोकने के लिए यह आवश्यक है। 

Web Title: Mob Linching Mamale Me 12 logon ko 4 Saal ki saja ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया