अब इस बड़े नेता पर गिरी मायावती की गाज, कोऑर्डिनेटर पद से हटाकर इनको सौंपी...


SHUBHENDU SHUKLA 23/07/2018 00:35:26
1986 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव को हर हाल में जीतने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती कड़े से कड़े फैसले ले रही हैं। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष को पार्टी से हटाने के बाद सांसद वीर सिंह को भी राष्ट्रीय महासचिव व नेशनल कोऑर्डिनेटर के पद से बाहर का रास्त दिखा दिया है। इस पद पर उन्होंने लखीमपुर खीरी के रामजी लाल गौतम को नए राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान सौंपी है। साथ ही यूपी के वरिष्ठ कोऑर्डिनेटरों के कार्यों व जिम्मेदारियों में भी बदलाव किया है। ऐसे लोगों की भूमिका को उत्तर प्रदेश में सीमित कर दिया गया है। साथ ही अन्य राज्यों की जिम्मेदारी सौंपते हुए चुनाव के मद्देनजर सक्रिय होने को कहा है।

Mayawati ousts MP Veer Singh from the National Coordinator post

यह भी पढ़ें...लोकसभा चुनाव: मायावती का मास्टर प्लान, एक करोड़ बसपा समर्थक ग्रुप बजाएगा विरोधियों की...

  मंच पर थे मौजूद

बताते चलें कि मायावती की गाज जेपी पर राहुल गांधी को टिप्णाी करने को लेकर गिरी थी। अब जेपी के साथ ही मंच पर मौजूद रहे नेशनल कोऑर्डिनेटर वीर सिंह पर एक्शन लिया है। सिंह की यूपी से जुड़ी जिम्मेदारी वापस ले ली गई है। उनको तेलंगाना और केरल जैसे महत्वपूर्ण राज्यों की कमान वहां बसपा को मजबूत बनाने के लिए सौंपी है। वहीं, लखीमपुर के लाल जी गौतम की बात करें तो वह कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में पार्टी के लिए कार्य कर रहे थे। उनको नया राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। बताते चलें कि बसपा पार्टी में अध्यक्ष के बाद उपाध्यक्ष का पद ही सबसे महत्वपूर्ण वाला है। बसपा सुप्रीमो स्वयं इस पद पर रह चुकी हैं।  

Mayawati ousts MP Veer Singh from the National Coordinator post

यह भी पढ़ें...मायावती के तेवर से मचा हड़कंप, एक और बड़ा फैसला, इस नेता को पार्टी से भी...

  यहां ये बदलाव

वहीं, फैजाबाद व देवीपाटन मंडल के जोन इंचार्ज व पूर्व सांसद मुनकाद अली को राजस्थान का प्रभारी बनाया है। बताया जा रहा है कि मुनकाद को अलीगढ़ व आगरा मंडल के कोऑर्डिनेटर की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है।  एमएलसी अतर सिंह राव को पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ का कोऑर्डिनेटर नियुक्त किया गया है। राम अचल राजभर के साथ मध्य प्रदेश की जिम्मेदारी सांसद अशोक सिद्धार्थ को भी दी गई है। साथ ही उनके पास महाराष्ट्र की जिम्मेदारी भी होगी। वहीं, एमएलसी दिनेश चंद्रा को बिहार का प्रभारी नियुक्त किया गया है।पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी को छत्तीसगढ़ की कमान सौंपी गई है। बताया जा रहा है कि जिन नेताओं पर बसपा सुप्रीमो की गाज गिरी है, उन पर कार्रवाई के कई कारण हैं। 

यह भी पढ़ें...लोकसभा चुनाव: मायावती का मास्टर प्लान, एक करोड़ बसपा समर्थक ग्रुप बजाएगा विरोधियों की...

    ये रहे कारण

  • विशेषज्ञों की माने तो लखनऊ का काडर कैंप पार्टी की तय व्यवस्था से नहीं किया गा। इसे पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने गंभीरता से लिया।
  • काडर कैंप बंद कमरे में ही कराया जाता है। लेकिन लखनऊ कैंप में मीटिंग हाल खुला रहा। पदाधिकारियों के लिए प्रोजेक्टर पर नेताओं के भाषण सुनने की व्यवस्था की गई। ये भाषण माइक से बाहर कैंप के बाहर तक सुनाई दे रहे थे। 
  • कैंप में मीडिया की मनाही रहती है। लेकिन लखनऊ कैंप में बड़ी संख्या में मीडियाकर्मी उपस्थित रहे। बड़े नेताओं ने तो चांदी का मुकुट पहनकर फोटो भी धड़ल्ले से खिंचाई। माना गया कि इस वजह से पार्टी की छवि पर असर पड़ा। 
  • नेशनल कोऑर्डिनेटरों जेपी और वीर सिंह के लखनऊ आगमन पर भारी मात्रा में होर्डिंग और बैनरों का इस्तेमाल किया गया। नेताओं ने अपने को ही सुर्खियों में बनाने प्रयास किया गया।
  • काडर में जो भी नेता भाषण देते हैं, उनको स्पष्ट लाइनें लिखकर दी जाती है। लेकिन जिम्मेदार नेताओं ने लाइन से हटकर तो बातें करी ही। साथ में  ओछी बातें भी कर डाली। यह मीडिया में सुर्खियां बन गई।
Web Title: Mayawati ousts MP Veer Singh from the National Coordinator post ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया