गठबंधन को लेकर मायावती की खरी-खरी, कांग्रेस ने किया ये काम तो ही बनेगी बात...


SHUBHENDU SHUKLA 25/07/2018 00:01:23
1627 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए महागठबधन की गणित अभी तक सुलझ नहीं पाई है। जल्द ही तीन राज्यों एमपी, छतीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा चुनाव भी होने हैं। जिसको लेकर सभी पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी है। पीएम नरेन्द्र मोदी खुद रैली कर जनता को 4 साल की उपलब्धियां गिराने लगे हैं। इसी बीच गठबंधन को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी ऐलान कर दिया है। उनके इस बयान से कांग्रेस को निराश जरूर हुई है, लेकिन यदि मायावती के इन शर्तों को कांग्रेस पूरा करती है तो माना जा रहा है कि गंठबंधन का रास्ता साफ हो जाएगा। 

Mayawati on condition of an alliance with Congress

यह भी पढ़ें...BSP से निष्कासित इस नेता का महागठबंधन के खिलाफ बड़ा ऐलान, मचा हड़कंप...

  इस आधार पर गठबंधन

बसपा सुप्रीमो ने गठबंधन को लेकर स्पष्ट कर दिया है कि यदि कांग्रेस को सम्मानजनक देगी तभी यह संभव होगा। उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि पिछले कुछ दिनों से राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव को लेकर गठबंधन मसले पर कांग्रेस नेता प्रचार करने लगे हैं। लेकिन अभी तक ऐसी कोई बात नहीं हुई है। उन्होंने कांग्रेस को स्पष्ट कर दिया कि यदि कांग्रेस बसपा से गठबंधन चाहती है, तो सम्मानजनक सीटें उनको देनी होगी। 

 

यह भी पढ़ें...लोकसभा चुनाव: मायावती का मास्टर प्लान, एक करोड़ बसपा समर्थक ग्रुप बजाएगा विरोधियों की...

  पार्टी का अपना जनाधार

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि तीनों ही राज्यों में उनकी पार्टी का अपना जनाधार है। बसपा मजबूती से चुनाव लड़ेगी। इसके लिए हर स्तर पर तैयारी की जा रही है। यदि कांग्रेस गठबंधन का प्रस्ताव रखती है, तो उनको सम्मानजनक सीटें देनी होगी। बता दें कि इसी साल के अंत तक तीनो राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। मायावती ने यह बयान तब दिया है, जबकि मीडिया रिपोर्टों में यह बात उठी कि चुनाव होने वाले सभी राज्यों में बसपा ने गठबंधन करने को कहा था। बता दें कि एमपी के कांग्रेस मीडिया प्रभारी ने कहा था कि बसपा से गठबंधन हो चुका है, समय आने पर इसकी आधिकारिक घोषणा भी कर दी जाएगी।

  लगी थी मुहर

बताते चलें कि कांग्रेस कार्यस​मिति की बैठक में राहुल गांधी को महागठबंधन का चेहरा बनाकर चुनाव लड़ने पर मुहर लगा दी गई थी। इस निर्णय का पूर्व पीएम एच डी देवेगौड़ ने भी समर्थन किया था। लेकिन राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव ने इसके विरोध में कहा था कि पीएम पद के लिए और भी दावेदारी रखने वाले चेहरे हैं। 

यह भी पढ़ें...अब इस बड़े नेता पर गिरी मायावती की गाज, कोऑर्डिनेटर पद से हटाकर इनको सौंपी...

  बीजेपी पर हमला

मायावती ने इस दौरान बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा क अलवर में गोवंश लेकर जा रहे लोगों की पिटाई ओछी मानसिकता वालों की सोच है। इस घटना के लिए बीजेपी की संकीर्ण सोच वाले लोगों की करतूत करार दिया। उन्होंने कहा कि वह अलवर माब लिंचिंग की निंदा करती हैं। बीजेपी ऐसी घटनाओं पर कोई सख्त कदम नहीं उठाएगी। वह कोर्ट से हो रही इन घटनाओं पर हस्तक्षेप करने का अनुरोध करती हैं।

Mayawati on condition of an alliance with Congress

Web Title: Mayawati on condition of an alliance with Congress ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया