संसद में गूंजा शिक्षामित्रों का मुद्दा, संजय सिंह ने उठाई आवाज


SHUBHENDU SHUKLA 26/07/2018 17:51:44
783 Views

Lucknow. यूपी में शिक्षामित्रों की दुर्दशा के बारे में केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करने व उनकी मांगों को पूरा करवाने के लिए आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मुद्दा उठाया। श्री सिंह ने बताया कि प्राथमिक शिक्षक संघ के अनुसार 700 शिक्षामित्र गरीबी और अवसाद के कारण आत्महत्या कर चुके हैं। मात्र कुछ तकनीकी कारणों की वजह से शिक्षामित्र  सर्वोच्य न्यायालय में मुकद्दमा हार गए थे। उन तकनीकी कारणों को प्रशिक्षण एवम कानून में संशोधन करके शिक्षामित्रों को केंद्र सरकार द्वारा बहाली की जा सकती है।

Sansad Me Gunja shikshaamitron ka mudda

यह भी पढ़ें...BIGG BOSS 12: कंटेस्टेंट्स की लिस्ट हुई लीक, मिलिंद सोमन से लेकर प्रिया प्रकाश होंगे...

  शिक्षामित्रों की नियुक्ति

उन्होंने सदन के माध्यम से केंद्र सरकार और उप्र सरकार से सवाल किया है कि सरकार शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के पद पर कब तक बहाल करेगी? समान शासनादेश से यूपी और उत्तराखंड दोनों प्रदेशों में शिक्षामित्रों की नियुक्ति हुई थी। उत्तर प्रदेश में शिक्षामित्रों का डिमोशन हो गया जबकि उत्तराखंड में समान शासनादेश से एक ही समय में नियुक्त शिक्षामित्र  सहायक अध्यापक का वेतन पा रहे हैं। इस पर सरकार से सवाल किया है कि ऐसा क्यों है कि उत्तराखंड जैसे प्रावधान उत्तर प्रदेश में लागू नहीं हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें...बड़ी खबर: लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव गिरे,मचा कोहराम

  परिवारों को मुआवजा

सांसद संजय सिंह ने सदन के माध्यम से केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार से अनुरोध किया है कि शिक्षामित्रों के समक्ष आ रही सामाजिक, आर्थिक चुनौतियों का समाधान निकाला जाए। मृत शिक्षामित्रों के परिवारों को मुआवजा देने का तत्काल प्रभाव से आदेश जारी किया जाए। मुख्यमंत्री योगी ने शिक्षामित्रों की मांगों के निराकरण के लिए कमेटी गठित की है। इस पर सांसद संजय सिंह ने स्पष्ट कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा कमेटी गठित करना शिक्षामित्रों के आन्दोलन को समाप्त करने का एक षड्यंत्र है। 

यह भी पढ़ें...अस्पताल पर चला सीएमओ का डंडा, खामियां दूर नहीं करने तक लटकता रहेगा ताला

  300 किलोमीटर लंबी पदयात्रा

इससे पहले भी सरकार शिक्षामित्रों की नियुक्ति को लेकर कई वादे कर चुकी है। शिक्षामित्रों का पूरा मामला मुख्यमंत्री का समझा हुआ है। इसलिय उनको फर्जी कमेटी गठित न कर शिक्षामित्रों को तत्काल सहायक अध्यापक के पद पर तैनाती देनी चाहिए। शिक्षामित्रों की इस लड़ाई में आम आदमी पार्टी सड़क से लेकर संसद तक उनके साथ है। प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि शिक्षामित्रों की मांगों के समर्थन में सांसद संजय सिंह सैंकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ बनारस से बलिया तक 300 किलोमीटर लंबी पदयात्रा कर चुके हैं। अगले चरण में पुनः शिक्षामित्रों की मांगों के समर्थन में प्रदेश के सभी प्रांतों में पदयात्रा करेंगे। 

Web Title: Sansad Me Gunja shikshaamitron ka mudda ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया