मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

बसपा प्रमुख मायावती का ये राज जान गये तो करते रहेंगे तारीफ


UMENDRA SINGH 04/08/2018 11:03 AM
772 Views

Lucknow. देश की राजनीति के इतिहास में कई ऐसे राज छिपे हुए हैं जो आपको हैरान कर सकते हैं। इनमें से ही एक बड़ा राज है बसपा प्रमुख मायावती का। मायावती की बसपा और भाजपा वैसे तो धुरविरोधी हैं लेकिन क्या आपको पता है कि मायावती एक संघ से जुड़े भाजपा नेता को जिताने के लिए घूम-घूमकर प्रचार करती थीं। आखिर कौन था वो नेता और क्यों करती थीं मायावती उनका प्रचार, आइए जानते हैं। ये राज जानने के बाद आप भी मायावती की तारीफ किये बिना नहीं रह सकेंगे।

  यह भी पढ़ें: इस बार इस शहर से लोकसभा चुनाव की जंग में उतरेंगे राहुल गांधी, कांग्रेस में खुशी की लहर

bsp maywati secret

  मायावती के गेस्ट हाउस कांड से जुड़ी है कहानी

ये कहानी है मायावती की बसपा और मुलायम की सपा की कहानी। बात 1993 की है जब यूपी में सपा और बसपा का पहली बार गठबंधन हुआ था और दोनों ने गठजोड़ से यूपी में सरकार बना ली थी। मुलायम सिंह ने उस समय सीएम पद संभाला था। हालांकि दो साल बाद बसपा ने समर्थन वापसी का एलान कर दिया था। इसी के बाद हुआ था राजनीति के इतिहास का वो कांड जिसको गेस्ट हाउस कांड कहते हैं।

bsp maywati secret

  आखिर क्या था वो गेस्ट हाउस कांड, पढ़िये

जब मुलायम सरकार से बसपा का मनमुटाव हुआ तो मायावती ने दो साल बाद सपा से समर्थन वापसी की घोषणा कर दी। इसी समय यानि 2 जून 1995 को मायावती लखनऊ के गेस्ट हाउस में रुकी हुई थी। उस समय कई गुंडे गेस्ट हाउस में घुस आये थे और वो मायावती को मारना चाहते थे। उनसे बचने के लिए मायावती ने खुद को कमरे में बंद कर लिया था। कथित तौर पर वो सपा समर्थित लोग थे।

  उस नेता ने बचाई थी मायावती की जान, तबसे मानती थी भाई

खुद मायावती कहती हैं कि जब वो कमरे में बंद थी तो उनके लोग ही उनको छोड़कर भाग गये थे लेकिन वहीं पर मौजूद संघ से जुड़े भाजपा नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी ने उनकी जान बचाई थी। जब गुंडे मायावती पर हमला करने जा रहे थे, तब ब्रह्मदत्त द्विवेदी ने एक लाठी के बल पर अकेले ही उनसे मोर्चा लिया था। संघ से जुड़ा होने की वजह से वो लाठी चलाने में महारथी थे। उन्होंने अकेले ही सबको खदेड़कर मायावती को बचाया था।

bsp maywati secret

  अपने भाई के लिए करती थीं घूम-घूमकर प्रचार

उस दिन से ही मायावती ने ब्रह्मदत्त को अपना भाई मान लिया था। वो फर्रुखाबाद से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ते थे। मायावती कभी भी वहां से बसपा का कोई भी प्रत्याशी खड़ा नहीं करती थी। बल्कि पूरे यूपी में भाजपा विरोध करने वाली मायावती फर्रुखाबाद में घूम-घूमकर ब्रह्मदत्त को वोट देने और उनको जिताने की लोगों से अपील किया करती थीं।

  उन्हीं गुंडों ने कर दी थी हत्या, खूब रोई थीं मायावती

हालांकि एक समय ऐसा भी आया जब ब्रह्मदत्त द्विवेदी को मायावती को बचाने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी थी। जो गुंडे मायावती को मारने आये थे, उन्हीं ने बाद में दुश्मनी की वजह से ब्रह्मदत्त की हत्या कर दी थी। उनकी मौत की खबर से मायावती बहुत रोई थीं।

Web Title: bsp maywati secret ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया