मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

कानून ही नहीं शिक्षा में भी फेल हुए सीएम योगी!


SHUBHENDU SHUKLA 04/08/2018 13:39:50
1083 Views

Lucknow. यूपी में कानून व्यवस्था दुरुस्त करने और शिक्षा को शिखर तक पहुंचाने का दावा करके जीत के बाद सीएम की कुर्सी पर सत्ता संभालने के बाद से सीएम योगी आदित्यानाथ फेल होते जा रहे हैं। एक आरटीआई से प्रदेश में 7 गुना क्राइम पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान बढ़ने का खुलासा हुआ था। वहीं, अब स्कूल चलों अभियान में भी प्रदेश सरकार फेल रही है। इस बार प्रदेश के 50 राजकीय, प्राथमिक और उच्च प्राथमिकस्कूलों में  2017-18 की अपेक्षा 2018-19 में कम दाखिले हुए हैं। चौंकाने वाली बात है कि बेसिक शिक्षा मंत्री का गृह जनपद बहराइच ही बच्चों का दाखिला कराने के मामले में फिसड्डी रहा है। इतना ही नहीं बहराइच को उन 10 जिलों में शामिल भी किया गया है, जो एडमिशन को लेकर निचले पायदान पर रहा है। यहां गत वर्ष की तुलना में 12585 विद्यार्थियों का नामांकन कम हुआ है।

School Chalo Abhiyaan Mein Kam Huye Naamaankan

यह भी पढ़ें...UGC NET Result 2018: सीबीएसई ने निकाले रिजल्ट, यहां चेक करें

  ये हैं आंकड़े

बताते चलें कि बेसिक शिक्षा विभाग के 1 लाख 13 हजार 249 प्राथमिक विद्यालयों में गत वर्ष 1 करोड़ 16 लाख 93 हजार 800 विद्यार्थी अध्ययनरत थे। वहीं, 45,701 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 37 लाख 28 हजार 247 विद्यार्थी अध्ययनरत थे। इसी प्रकार 1 लाख 58 हजार 950 प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कुल 1 करोड़ 54 लाख 22 हजार 47 विद्यार्थी अध्ययनरत थे। 

 अभियान फेल

इस वर्ष भी स्कूला चलो अभियान के तहत शिक्षा से वंचित 4 से 14 साल के बच्चों का दाखिला कराने के लिए 30 जुलाई तक अभियान चलाया गया। लेकिन अधिकारियों की लापरवाही और भ्रष्टाचार के कारण पिछले वर्षों से भी दाखिला कम हो पाया। आरटीई नियमों के तहत होने वाले एडमिशनों में तो लखनऊ में ही अभिवावक कार्यालयों के चक्कर काट रहे हैं। फिलहाल बता दें कि 30 जुलाई तक चले अभियान के तहत प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 1 करोड़ 51 लाख 1 हजार 247 विद्यार्थियों का नामांकन हुआ है। यह आंकड़ा बताता है कि गत वर्ष की तुलना में 3 लाख 20 हजार 800 विद्यार्थियों का नामांकन कम हुआ है।

  रिपोर्ट की तलब

यह चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आने के बाद बेसिक शिक्षा निदेशक सर्वेंद्र विक्रम सिंह ने स्कूलों में दाखिला कम होने पर 50 जिलों के बीएसए से रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि नामांकन नहीं बढ़ाने वाले बीएसए के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाएगी। 

School Chalo Abhiyaan Mein Kam Huye Naamaankan

  ये भी रहे कारण

बता दें कि प्रदेश सरकार ने शिक्षा के लिए सबसे अधिक बजट जारी किया था। लेकिन अधिकारियों की आरामफरमाईशी और लापरवाही व भ्रष्टाचार में लिप्त होने के कारण स्कूल चलो अभियान का सपना अधूरा रह गया। अब सभी अधिकारी अपना अपना पल्ला झाड़कर एक दूसरे को जिम्मेदार बता रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि स्कूलों में नि:शुल्क यूनिफॉर्म, जूते-मोजे, पाठ्यपुस्तकें, स्कूल बैग समय पर वितरित नहीं होने से दाखिले पर असर पड़ा है। वहीं, नया सत्र लागू होने पर सहायक अध्यापक अभियान के तहत अंतरजनपदीय तबादला कराने के जुगाड़ में व्यस्त रहे। सहायक अध्यापकों व शिक्षामित्रों ने घर-घर जाकर जागरूकता अभियान नहीं चलाया और न तो स्कूला से बच्चों को जोड़ने में रुचि दिखाई। अधिकारियों ने इसका जिम्मेदार बीएसए, सहायक अध्यापकों और शिक्षामित्रों को ठहरा दिया है। लेकिन खुद की जिम्मेदारियों से अधिकारी कैसे बच सकते हैं। लखनऊ में आरटीई के तहत कई गड़बड़ियां सामने आने पर अभिभावक अधिकारियों के दफ्तारों का चक्कर काटते रहे। इसके बावजूद उनकी कोई सुनने वाला नहीं दिखा। 

  यहां कम हुए दाखिले

आगरा, अलीगढ़, अंबेडकर नगर, औरैया, बागपत, बहराइच, बलिया, बलरामपुर, बांदा, बाराबंकी, बरेली, भदोही, बदायूं, बुलंदशहर, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, इटावा, फैजाबाद, गौतमबुद्ध नगर, गाजीपुर, गोंडा, गोरखपुर, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, जौनपुर, झांसी, अमरोहा, कानपुर देहात, कानपुर नगर, कासगंज, ललितपुर, महोबा, मैनपुरी, मथुरा, मऊ, मेरठ, मुजफ्फरनगर, पीलीभीत, प्रतापगढ़, रामपुर, संभल, संतकबीर नगर, शाहजहांपुर, श्रावस्ती, सीतापुर, सोनभद्र और सुल्तानपुर।

यह भी पढ़ें...लोकसभा चुनाव: सोशल मीडिया पर महागठंधन डील फाइनल, बताई किसको मिली कितनी सीट!

 नामांकन में फिसड्डी 10 जिले
 

  •  जिला             2017                 2018          नामांकन में कमी
  •  सीतापुर          383621            353513         30108
  •  प्रतापगढ़         175959           154198           21761
  •  बरेली             243778           223990           19788
  •  गोंडा             261429           241940            19489
  •  फैजाबाद       152557            136089             16468
  •  बलिया        221565             207344             14221
  •  बहराइच     332562              319977             12585    
  •  आगरा      178836               167062            11744
  • मैनपुरी     100954                 89516             11438
  • जौनपुर     295245                 284376           10859 

School Chalo Abhiyaan Mein Kam Huye Naamaankan

 

Web Title: School Chalo Abhiyaan Mein Kam Huye Naamaankan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया