मुख्य समाचार
 

#AtalBihariVajpayee : नहीं रहे अटल, एम्स में ली अंतिम सांस


SUJEET KUMAR 16/08/2018 16:45 PM
939 Views

New Delhi. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार (16 अगस्त 2018) को निधन हो गया। पिछले 24 घंटे से उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी। वाजपेयी करीब नौ सप्ताह से दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती थे। स्वास्थ्य में कोई सुधार ना होने पर उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर रखा गया था। 

atal bihari vajpayee

अटल बिहारी वाजपेयी ने 93 साल की उम्र में एम्स में 5.05 बजे अंतिम सांस ली है। वाजपेयी के पार्थिव शरीर को एम्स से उनके घर ले जाया गया। वहीं उनके निधन के बाद बीजेपी के झंडे को पार्टी मुख्यालय में आधा झुका दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार दोपहर 01:30 बजे वाजपेयी की अंतिम यात्रा निकाली जाएगी। यह अंतिम यात्रा बीजेपी दफ्तर से स्मृति स्थल को निकाली जाएगी। वाजपेयी का पार्थिव शरीर सुबह करीब नौ बजे भाजपा मुख्यालय ले जाया जाएगा। यहां उनका पार्थिव शरीर आम लोगों के अंतिम संस्कार के लिए रखा जाएगा।

atal bihari vajpayee ka nidhan

वाजपेयी के निधन के बाद राजघाट के शांतिवन इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए। यहां एसपीजी को भी तैनात किया गया है। इसी के साथ ही उनके घर के आस पास के इलाकों में भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही कई जगह पर बैरिकेडिंग भी कर दी गई हैं। जबकि वाजपेयी के घर पर एसपीजी की टीम पहले ही पहुंच चुकी थी।  

atal bihari vajpayee ka nidhan

बुधवार से उनकी तबियत नाजुक बनी हुई थी। जिसके चलते गुरुवार को कई वरिष्ठ नेता उनका हाल जानने एम्स पहुंचे थे। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह दोबारा एम्स पहुंचे थे। पीएम मोदी यहां करीब 45 मिनट तक रुखे थे। उनसे पहले गुरुवार की सुबर अमित शाह उनका हाल जानने पहुंचे थे। 

atal bihari vajpayee

पीएम मोदी और अमित शाह के अलावा उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान, यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया एम्स पहुंचे थे। 

निधन के बाद पीएम मोदी और अमित शाह ने किया ने किया ट्वीट...

It was due to the perseverance and struggles of Atal Ji that the BJP was built brick by brick. He travelled across the length and breadth of India to spread the BJP's message, which led to the BJP becoming a strong force in our national polity and in several states.

— Narendra Modi (@narendramodi) August 16, 2018

अटल जी के विचार, उनकी कविताएं, उनकी दूरदर्शिता और उनकी राजनीतिक कुशलता सदैव हम सबको प्रेरित व मार्गदर्शित करती रहेंगी। भारतीय राजनीति के ऐसे शिखर पुरुष को मैं कोटि-कोटि नमन करता हूँ और ईश्वर से उनकी दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूँ। ॐ शांति शांति शांति

— Amit Shah (@AmitShah) August 16, 2018

atal bihari vajpayee

पत्रकारिता को चुना था अपना करियर 
25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर के एक निम्न मध्यमवर्ग परिवार में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी की प्रारंभिक शिक्षा ग्वालियर के ही विक्टोरिया ( अब लक्ष्मीबाई ) कॉलेज और कानपुर के डीएवी कॉलेज में हुई थी। उन्होंने राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर किया और पत्रकारिता में अपना करियर शुरु किया था। उन्होंने राष्ट्र धर्म, पांचजन्य और वीर अर्जुन का भी संपादन किया था। 

atal bihari vajpayee

66 दिन से एम्स में थे भर्ती
वाजपेयी को 11 जून को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। उन्हें किडनी में इंफेक्शन, छाती में जकड़न, मूत्रनली में इंफेक्शन की समस्या थी। वह पिछले 66 दिन से एम्स में भर्ती थे। वाजपेयी को डायबिटीज थी और उनका एक ही गुर्दा काम कर रहा था। वह 2009 से बीमार चल रहे हैं, 2009 में उन्हें स्ट्रोक आया था जिसके बाद उनकी सोचने समझने की क्षमता कमजोर हो गई थी। 2009 में भी वाजपेयी कई दिन अस्पताल में भर्ती रहे थे। वहीं तबीयत खराब होने के बाद सार्वजनिक जीवन से दूर चल रहे थे। खराब तबीयत की ही वजह से 2015 में अटलजी को भारत रत्न सम्मान उनके घर पर ही दिया गया था। इसी दौरान उनकी आखिरी तस्वीर भी सामने आई थी।

atal bihari vajpayeeभाजपा के संस्थापक सदस्यों में शामिल अटल

वाजपेयी भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्यों में शामिल थे। 1996 में वह पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने थे। इसके बाद दूसरी बार साल 1998 में वह दोबारा पीएम चुने गए थे। वाजपेयी साल 2004 तक पीएम रहे। वहीं मोदी सरकार ने उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाज़ा था।  

Web Title: atal bihari vajpayee ka nidhan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया