मुख्य समाचार
पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

नेपाल से छोड़ा गया घाघरा में पानी, बढ़ा जलस्तर, आधा दर्जन से ज्यादा गांव जलमग्न


RAGHVENDRA CHAURASIA 16/08/2018 16:34:05
991 Views

Barabanki. एक तरफ जहां मूसलाधार बारिश से देशवासियों को राहत मिली है, तो वहीं दूसरी तरफ हजारों लोगों के आशियाने उजड़ गए हैं। नेपाल से घाघरा नदी में पानी छोड़ने से नदी का जलस्तर बढ़ गया है। जिससे बाराबंकी के आधा दर्जन गांव जलमग्न हो गए हैं।

Nepal se choda gaya ghaghara me pani badha jalsatar,aadha darjan se jyada gavan

 यह भी पढ़ें..ताजा खबरों को मोबाईल पर पाने के लिए यहां क्लिक करें।

पूरे अगस्त प्रशासन बाढ़ ग्रस्त इलाके में रहता

देश में मानूसन इस बार  राहत के साथ आफत भी लेकर आया है। बारिश के चपेट में आने से देश में सैकड़ों लोगों की मौत हो गई है। यूपी के बाराबंकी जिले मेें घाघरा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। घाघरा का जलस्तर बढ़ने से सिरोलीगौसपुर तहसील के पारा बेहटा समेत आधा दर्जन गांव नदी के चपेट में आ गए हैं। न्यूजटाइम्स की टीम ने बाढ़ आपदा केंद्र जाकर पता लगाया कि जो बाढ़ में ग्रामीणवासी फंसे है उनके बचाव के लिए क्या-क्या इतंजाम किए गए हैं। बाराबंकी आपदा केन्द्र में तैनात कर्मचारी अजय सिंह ने बताया कि घाघरा का जलस्तर 766 क्यूसेक है। उन्होंने बताया कि पूरे अगस्त माह तक राहत-बचाव टीम का बाढ़ ग्रस्त इलाके में डेरा रहता है। 

आपदा केंद्र में 24 टीम रहती हैं तैनात

आपदा केंद्र के कर्मचारी अजय सिंह ने बताया कि बाढ़ क्षेत्र की निगरानी के लिए 24 घंटे टीम यहां तैनात रहती है। उन्होंने बताया ​कि 6 कर्मचारियों की टीम हमेशा मौजूद रहती है। अजय सिंह ने बताया कि गांवों में स्वास्थ्य विभाग लगातार कैंप लगा रहा है। इसके साथ ही किसी की भूख से मौत न हो जीविका चलाने के लिए खाने के पैकेट बांटे जा रहे हैं। मवेशियों के लिए चारा प्रशासन उपलब्ध करवाता है। बाढ़ क्षेत्रों में पूरी मुस्तैदी के साथ प्रशासन की नजर बनी हुई है।

 यह भी पढ़ें..संविधान की प्रतियां जलाने पर यह दलित नेत्री नाराज,देशव्यापी आंदोलन की दी चेतावनी

Web Title: Nepal se choda gaya ghaghara me pani badha jalsatar,aadha darjan se jyada gavan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया