मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

विपक्ष की नजर में अटल


AMRITA PANDEY 16/08/2018 14:34:54
969 Views

New Delhi. अटल बिहारी वाजपेयी की शख्सियत आज की राजनीतिक के लिए एक बड़ा सबक है। आज जहां आलोचनाओं की संस्कृति और मर्यादित भाषा का इस्तेमाल राजनीतिक में जैसे खत्म सा हो गया है, वहीं वाजपेयी जी का राजनीतिक जीवन किसी पाठशाला से कम नही है। विपक्ष की तारीफ से भी ना चूकने वाले अटल जी ने अंतर्राष्ट्रीय मंचों से लेकर संसद तक विपक्ष की भूमिका को एक आदर्श रुप दिया है। नेहरू से लेकर मनमोहन सिंह से जुड़े ऐसे कई किस्सें आज भारतीय राजनीति के लिए बेहद अहम हैं।

atal bihari vajpayee as opposition leader

पूर्व प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू , अटल जी के भाषणों से ऐसे प्रभावित थे कि कई दफा अपने विदेशी मेहमानों से अटल जी परिचय संभावित प्रधानमंत्री के रूप में कराते थे। वहीं विपक्ष के कामों की तारीफ करने से भी पीछे ना हटने वाले अटल जी ने 1971 के दौरान भारत-पाकिस्तान युद्ध में जीत और बांग्लादेश को अलग देश बनाने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी को संसद में दुर्गा की उपमा से सम्मानित किया और 1975  में आपातकाल लगाने के फैसले का खुलकर विरोध भी किया। 

atal bihari vajpayee as opposition leader

वहीं राजीव गांधी की हत्या के बाद पत्रकारों से बातचीत में अटल बिहारी वाजपेयी ने भावुक होकर कहा था कि वो आज अगर जिन्दा हैं तो राजीव गांधी की वजह से। दरअसल 1991 में वाजपेयी जी किडनी की समस्या से परेशान थे जिसका भारत में इलाज नही था और आर्थिक संसाधनों की तंगी की वजह से विदेश में इलाज कराना संभव नही था। जब ये बात राजीव गांधी को पता चली तो उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में न्यूयॉर्क जाने वाले प्रतिनिधिमंडल में वाजपेयी जी को शामिल किया और इलाज कराने की बात कही। 

atal bihari vajpayee as opposition leader

मनमोहन सिंह से जुड़े एक किस्से की बात करे तो वित्त मंत्री के रुप में मनमोहन सिंह में कार्यों की संसद में अटल जी बड़ी आलोचना करते थे। जिससे कारण एक बार उन्होने वित्त मंत्री का पद छोड़ने की तैयारी कर ली तब तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव वाजपेयी के पास पहुंचे और उन्हें नाराज़ मनमोहन समझाने के लिए कहा।  

atal bihari vajpayee as opposition leader

अटल बिहारी वाजपेयी भी मनमोहन सिंह के पास गए और उन्हें समझाया कि इन आलोचना को खुद पर न लें, वह तो बस विपक्षी नेता होने के नाते सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हैं।

Web Title: atal bihari vajpayee as opposition leader ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया