मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

इस्तीफा देकर जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते हैं कलेक्टर ओपी चौधरी


GAURAV SHUKLA 25/08/2018 17:10:55
336 Views

Lucknow. चुनाव आते ही प्रशासनिक अधिकारियों का सत्ता प्रेम खुलकर सामने आने लगा है। इसी क्रम में तमाम लग रही अटकलों के बाद रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है। हालांकि 2005 बैच के आईएएस अफसर का इस्तीफा मंजूर हुआ है या नहीं इस पर अभी कोई कन्फर्मेशन नहीं आया है। बताया जा रहा है कि वह आने वाले चुनाव में रायगढ़ जिले की खरसिया विधानसभा से भाजपा के उम्मीदवार हो सकते हैं।

BJP me shamil ho sakte hai o p chaudhry  
आपको बता दें कि खरसिया सीट हमेशा से ही कांग्रेस का गढ़ रही है जिस पर भाजपा 1989 के बाद से अब तक वापसी नहीं कर पाई है। हालांकि पहले कहा जा रहा था कि इस सीट से एमपी के पूर्व सीएम अर्जुन सिंह को चुनाव में उतारा जा सकता है। दरअसल दिवंगत नेता और पूर्व कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार पटेल इसी सीट से चुनाव लड़ते थे। जिसके बाद अब इस सीट से उमेश पटेल चुनाव लड़ते हैं। 
गौरतलब है कि चौधरी रायगढ़ जिले से ही आथे हैं और खरसिया सीट पर भाजपा को सेंध लगाने के लिए पहले से ही भाजपा को किसी बड़े कद के नेता की जरूरत थी। जिसके बाद उनकी यह जरूरत ओपी चौधरी पर खत्म होती दिखाई दे रही है। वह अघरिया समुदाय से है और इसी जाति की बहुलता खरसिया सीट पर है। इसी के साथ वह क्षेत्र में खासा लोकप्रियता भी रखते हैं। जिसके बाद सियासी समीकरणों के आधार पर वह भाजपा से फिट कैंडिडेट है। वहीं भाजपा भी पुरजोर कोशिशों में लगी है कि वह भाजपा में शामिल हो जाएं। वहीं मिल रही खबरों के मुताबिक ओपी चौधरी का इस्तीफा डीओपीटी पहुंच गया है और उसे मंजूर भी कर लिया गया है। जिसके बाद भाजपा की रणनीति पर मुहर लगती दिखाई दे रही है। 

यह भी पढ़ें... कांग्रेस ने कहां बच्चे थे राहुल गांधी तो जिम्मेदार कैसे
कहा यह भी जा रहा है कि कई माह से ओपी चौधरी को भाजपा में शामिल करने की कवायद चल रही थी। लेकिन अमित शाह का दौरा टलने के चलते उनका पार्टी में प्रवेश नहीं हो पा रहा था। जिसके बाद आगामी कुछ दिनों में ही किसी बड़े कार्यक्रम के दौरान उनको पार्टी में शामिल किया जाएगा। ओपी चौधरी रायगढ़ जिले के बयांग गांव के रहने वाले और अपने समुदाय के लोगों में रोल मॉडल की तरह पहचान रखने वाले है। इसी के साथ 23 साल की उम्र में आईएएस बनने वाले ओपी चौधरी सीएम रमन सिंह के भी बेहद करीबी माने जाते है। कहा जा रहा है कि उन्हीं के समझाने के बाद चौधरी ने यह फैसला लिया है। 

BJP me shamil ho sakte hai o p chaudhry
गौरतलब है कि ओपी चौधरी ने छत्तीसगढ़ में ही कार्य करने की इच्छा जाहिर कर अपना मूल कैडर इस प्रदेश को चुना था।  दूसरा यह कि दंतेवाड़ा में कलेक्टर रहते हुए उन्होंने नक्सल प्रभावित इलाके को एजुकेशन हब में तब्दील किया, जिसके चलते तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह नें वर्ष 2011-12 में उन्हें प्रधानमंत्री एक्सीलेंस अवॉर्ड से सम्मानित किया था। दंतेवाड़ा के बाद जनसंपर्क महकमे में बतौर आयुक्त और रायपुर में कलेक्टर रहते हुए उन्होंने सरकारी योजनाओं को लागू करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

Web Title: BJP me shamil ho sakte hai o p chaudhry ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया