मुख्य समाचार
विश्व कप में खिलाड़ियों के साथ जा सकेंगी पत्नियां पर BCCI ने लगाई तमाम बंदिशें साध्वी प्रज्ञा का मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान अवैध कमाई के लिए डग्गामार वाहनों पर मेहरबान है पुलिस— प्रशासन मायावती ने मुलायम की मौजूदगी में मंच किया खुलासा - गेस्टहाउस कांड के बाद भी इसलिए हुआ गठबंधन इंस्टाग्राम को लेकर आई बड़ी खबर, यूजर्स का पासवर्ड असुरक्षित तरीके से स्टोर हाईकोर्ट से भाजपा विधायक को बड़ा झटका, सुनाई गयी आजीवन कारावास की सजा  प्रियंका ने राहुल गांधी को सौंपा अपना इस्तीफा #IPL2019 : दिल्ली कैपिटल्स को 40 रन से हराकर मुंबई पहुंची दूसरे स्थान पर जेट एयरवेज की हवाई सेवाएं बंद होने पर निराश हुए फिल्मी सितारे साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ NIA कोर्ट में याचिका दायर, चुनाव लड़ने पर रोक की मांग बुधवार को जेट एयरवेज ने भरी आखिरी उड़ान कोई भी अपराजेय नहीं है, सबको हराया जा सकता है : आचार्य प्रमोद कृष्णम World Cup के लिए ईशांत, सैनी और अक्षर होंगे टीम इंडिया के स्टैंड बाई राज्यपाल को पीजीआई में लगाया गया पेसमेकर, पूरी तरह हैं स्वस्थ
 

सपा की दीवार में दरार, सेक्यूलर मोर्चा का असर शुरु


SMT. HARSHITA PATAIRIYA 03/09/2018 17:26:10
137 Views

सपा की दीवार में दरार, सेक्यूलर मोर्चा का असर शुरु

झांसी। चंद रोज पूर्व प्रदेश मुख्यालय से समाजवादी कुनबे की कलह सड़क पर आ गई थी। भूकंप जैसे झटके के साथ सपा के खिलाफ शंखनाद करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री के चाचा ने सेक्यूलर मोर्चा गठित करने की घोषणा कर दी। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी की दीवार में दरार शुरु हो गई। इस भूकंप के झटके प्रदेश से चलकर जनपदों तक जा पहुंचे। इसके चलते पार्टी की दरारें अब जिले स्तर पर भी स्पष्ट रुप से महसूस की जा रही हैं।
कहते हैं कभी न कभी ताकत के दम पर संस्कारों से खिलवाड़ कर बनाई गई सेना में फूटन पड़ ही जाती है। इसका उदाहरण इस समय समाजवादी कुनबे में देखने को मिल रही है। विधानसभा चुनाव के पूर्व ही समाजवादी पार्टी में नेता जी के नाम से विख्यात मुलायम सिंह को उनके ही अपने बेटे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से उतार फेंका था। साथ ही नेता जी के भाई और पूर्व मुख्यमंत्री के चर्चित चाचा शिवपाल सिंह यादव को भी मंत्री पद से हाथ धोने पड़े थे। इसके बाद से ही पार्टी में उपेक्षित चल रहे शिवपाल सिंह यादव द्वारा अलग पार्टी गठन करने की चर्चाएं जोरों पर रहीं। वहीं शिवपाल सिंह पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी मिलने की आश में अपने धैर्य को बांधे रहे। प्रदेश के तमाम जनपदों में बैठे उनके शुभचिंतक भी यही सोचकर चुप्पी साधे थे कि अब शायद सत्ता जाने के बाद उनके चहेते नेता शिवपाल सिंह को सम्मान वापस दिया जाएगा। हालांकि जब इसके विपरीत उन्हें और उनके नेता को ऐसा कुछ भी होते हुए नजर नहीं आया तो चंद रोज पूर्व ही अपने बड़े भाई और समाजवादी कुनबे के भीष्म पितामह कहे जाने वाले मुलायम सिंह का आर्शीवाद लेकर शिवपाल सिंह ने समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा पार्टी का गठन करने की घोषणा कर दी। यह घोषणा आगामी लोकसभा चुनाव 2019 को ध्यान में रखते हुए काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। मोर्चा की घोषणा के बाद से ही विभिन्न जनपदों में मायूस बैठे उनके चहेतों में भी खुशी की लहर दौड़ गई है। इसके बाद से उनके लिए समर्पित लोग अब समाजवादी पार्टी से किनारा कर सेक्यूलर मोर्चा का दामन थामने को तैयार खड़े हैं। जनपद में भी इसका असर दिखाई देने लगा है। सपा में बाहुबली पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव के रिश्तेदार कहे जाने वाले जिला पंचायत सदस्य दीपेन्द्र यादव ने अपने तमाम सहयोगियों समेत सेक्यूलर मोर्चा का दामन थाम लिया है। दीपेन्द्र यादव ने स्वयं बताया कि वह हमेशा माननीय नेता जी शिवपाल सिंह के ही साथ रहेंगे।
बॉक्स
और भी चहेते हैं लाइन में
जिले में पूर्व मुख्यमंत्री के चाचा के चहेतों की कमी नहीं है। चाहे बात करें पूर्व एमएलसी की या फिर सपा के वर्तमान जिलाध्यक्ष की अथवा विधायकी का रातोंरात टिकट पाने वाली नेत्री। इसके अलावा भी कुछ चर्चित नाम हैं। जिन्होंने सपा शासन में शिवपाल सिंह के सहयोग में काफी तरक्की की है। ऐसा माना जा रहा है कि यदि उनके पक्ष में सब कुछ ठीक न रहा तो जल्द ही वे सेक्यूलर मोर्चा का दामन थाम सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो समाजवादी पार्टी को जनपद में खासा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

 

The impact of the secular front, a crack in the spa wall

The impact of the secular front, a crack in the spa wall

Web Title: The impact of the secular front, a crack in the spa wall ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया