मुख्य समाचार
हाईकोर्ट ने नगर आयुक्त को दिया आदेश, तीन दिन में शहर को साफ-सुथरा बनाने की पेश करें योजना वोट देना हमारा अधिकार ही नहीं, बल्कि नैतिक जिम्मेदारी भी : मुख्य निर्वाचन अधिकारी जानिये कौन हैं डोम राजा, जो पीएम मोदी के बनेंगे प्रस्तावक OMG: 30 साल छोटी डांसर को डेट कर रहा ये एक्टर सरकारी शिक्षा का हाल, प्रति विद्यालय 11 छात्रों का नामांकन कूड़े के ढेर में लगी आग, दुकान सहित रिक्शा हुआ जल कर राख़   जब डिंपल ने मायावती का पैर छूकर लिया आशीर्वाद जानिए, मौसमी चटर्जी से जुड़े अनसुने पहलू पुलिस की तत्परता से बची मासूम की जान यूपी बोर्ड: रिजल्ट को लेकर रास्ता साफ, सामने आ गई डेट महिला टी-20 चैलेंज : हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना और मिताली अलग- अलग टीमों की करेंगी अगुवाई सपा बसपा की संयुक्त रैली में सांड ने मचाया जमकर उत्पात कुशीनगर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से 4 प्रत्याशियों ने दाखिल किये नामांकन पत्र देश की 130 करोड़ जनता का बार-बार अपमान क्यों कर रही है बीजेपी : मायावती प्रधान जी प्रेस वार्ता से भागते हैं : अखिलेश भाजपा ने ईवीएम को हैंक कर लिया है- हार्दिक पटेल कांग्रेस ने यूपी की गोरखपुर व वाराणसी सीट के उम्मीदवारों के नाम का किया एलान PM मोदी ने कहा- पड़ोस में आतंकवाद की फैक्ट्री चल रही है और विरोधी बोलते हैं यह मुद्दा ही नहीं है सीएम ममता की बायोपिक पर रोक, दिया ये करारा जवाब कांग्रेस को यूपी में बड़ा झटका, इस प्रत्याशी का पर्चा हुआ खारिज, जानिए क्या रही वजह B.Ed डिस्टेंस अभ्यर्थियों का CET परीक्षा परिणाम जारी, यहां देखें रिजल्ट शिक्षक बनने का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन दिव्यांका त्रिपाठी ने किया इस शो को छोडने का फैसला, जानें वजह पोलिंग बूथ पर पीठासीन अधिकारी से मारपीट करने वाला गिरफ्तार जन्मदिन पर सचिन को मिला नोटिस वाला तोहफा कैसरगंज के प्रेक्षकों ने चुनाव तैयारियों का लिया जायजा, कार्यवाही की चेतावनी मनचले ने तेल छिड़क कर युवती को जलाया, बेटी के साथ मां भी झुलसी हेलीकॉप्टर से गरमाया एमपी का सियासी माहौल  मोदी चौकीदार हैं या कोई शहंशाह : प्रियंका
 

चार साल में टैक्स रिवीजन होना चाहिए फिर भी अब तक नहीं हुआ- नगर आयुक्त


SMT. HARSHITA PATAIRIYA 04/09/2018 19:15:54
209 Views

चार साल में टैक्स रिवीजन होना चाहिए फिर भी अब तक नहीं हुआ- नगर आयुक्त

गृहकर वसूली के लिए नीति तैयार, 18 सितम्बर तक लगेगी आपत्ति
झांसी। इन दिनों गृहकर को लेकर आम जनता में कन्फ्यूजन के हालात बने हुए हैं। आम जनता की समझ नहीं आ रहा है कि गृहकर रिवीजन में ऐसी कौन सी नीति अपनायी गई, जिससे कई गुना टैक्स बढ़ोत्तरी हो गयी। वार्ता के बाद सामने आया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं को व्यवस्थित तरीके से चलाने के लिए हर चार साल में टैक्स रिवीजन किए जाने का प्रावधान है। नगर निगम को बने हुए एक दशक से ज्यादा हो चुका है, बावजूद इसके अब तक टैक्स रिवीजन नहीं किया गया। इस वर्ष टैक्स नियमावली के आधार पर उचित तरीके से तय किया गया है।
नगर आयुक्त ने मंगलवार को साफ शब्दों में कहा है कि टैक्स नियमावली प्रावधान में हर चार वर्ष में टैक्स का रिवीजन होना चाहिए। 2003 के बाद से टैक्स रिवीजन नहीं किया गया है। इस वर्ष सर्वे कराए गए, पब्लिक को नोटिस दिया गया है। भवन स्वामी को सुना जा रहा है। भवन के पास 24 मीटर सड़क, 12 मीटर सड़क आदि को परखा जा रहा है। आपत्ति दाखिल करने की आखिरी तारीख 18 सितम्बर तय की गई है। नगर निगम ने तीन काउंटर के अलावा ऑन लाइन व्यवस्था की गई है। दस कैटेगरी में टैक्स लिया जा रहा है, लोकेशन, आवासीय, व्यवसायिक, क्षेत्रफल, आपत्ति अन्य तथ्य पर भी जांच की जा रही है। हर आपत्ति को ठीक करके टैक्स लिया जाएगा।

आपका ही तो है नगर
नगर आयुक्त ने कहा कि नगर जनता है, जनता के सहयोग से ही इसका संचालन, जनता के लिए ही किया जा रहा है। पूर्व में भाई भतीजाबाद की नीति अपनायी जाती रही, लेकिन इस बार से निष्पक्ष तरीके से गृहकर तय किया गया है। नगर आयुक्त ने कहा कि नगर में 11 पार्क बनाए गए है, मेंटीनेंस, लाइट व्यवस्था, कांजी हाउस का संचालन के स्मार्ट सिटी के रूप में व्यवस्थित किया जा रहा है। ऐसे में बगैर टैक्स के लिए विकास कैसे संभव हो पाएगा, हां उन्होंने इतना आश्वासन जरूर दिया है कि किसी से भी एक पैसा भी ज्यादा टैक्स नहीं लिया जाएगा।

 

Tax Rivijana in four years should still not have happened yet-city commissioner

Web Title: Tax Rivijana in four years should still not have happened yet-city commissioner ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया