मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

बदस्तूर जारी झटकों का दौर, अब इस नेता ने भी बना ली दूरी 


GAURAV SHUKLA 07/09/2018 15:07:43
603 Views

Lucknow. समाजवादी पार्टी के दो फाड़ होने के बाद पार्टी कार्यकर्ता और वरिष्ठ नेता यह चयन करने लगे हैं कि उन्हें अखिलेश यादव के खेमे में जाना है या शिवपाल यादव के। जिसके बाद हाल ही में कई नेताओं ने शिवपाल यादव का चयन कर अखिलेश से किनारा कर लिया है। इसी कड़ी में सपा संस्थापक सदस्यों में शामिल और डुमरियागंज से पूर्व विधायक मलिक कमाल यूसुफ ने बसपा छोड़ शिवपाल के खेमे का चुनाव किया है। मलिक अन्य नेताओं के साथ शिवपाल के साथ आ गये हैं। 

Jhatko ka daur badastur jari in netao ne bana li duri
शिवपाल ने मलिक के अलावा इटावा सदर से विधायक रहे रघुराज सिंह शाक्य को भी सेक्युलर मोर्चे में शामिल कर लिया है। रघुराज सिंह शाक्य ने भी अखिलेश के साथ चलने के बजाए शाक्य के साथ चलने का निर्णय लिया है। उन्होंने शिवपाल यादव को भरोसा दिलाया कि वह अविलंब मोर्चा के उद्देश्य को लेकर जनता के बीच जाएंगे। आपको बता दें कि रघुराज सिंह शाक्य दो बार सपा से सांसद रहे और एक बार विधायक भी रहे। इसके बावजूद 2017 में विधानसभा के चुनाव के दौरान पार्टी में छिड़ी जंग के चलते शिवपाल को हाथिए पर ढकेले जाने के बाद रघुराज सिंह शाक्य ने समर्थकों संग पार्टी छोड़ दी थी। इसी समय वह शिवपाल सिंह यादव के साथ उनके निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव प्रचार में जुट गये थे। इसके बाद जब उन्होंने दोबारा मोर्चे का गठन किया तो वह शाक्य के साथ दोबारा जुड़ गये। 

यह भी पढ़ें... अखिलेश यादव के आदेश पर 12 सितम्बर तक चलेगा समाजवादी जागरुकता सप्ताह

Web Title: Jhatko ka daur badastur jari in netao ne bana li duri ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया