लोकसभा चुनाव:  अखिलेश और मायावती ने तैयारी की खास रणनीति, विरोधी पार्टियों में मचा हड़कंप...


SHUBHENDU SHUKLA 09/09/2018 11:13:35
3321 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर बसपा-सपा की ने हर हाल में जीत के लिए रणनीति बनानी शुरू कर दी है। आम चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कसनी शुरू कर दी है। छोटे दल भी एकजुट होने लगे हैं। इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि किसी भी चुनाव में छोटे दलों की अत्यंत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ऐसे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव  और बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन में छोटे दलों को भी शामिल करने का प्रस्ताव बनाया है। यही नहीं दलों को सीटें भी दी जा सकती है। कोशिश है कि छोटे छोटे दलों को जोड़कर महागठबंधन तैयार किया जाएगा। 

 अखिलेश और मायावती की फोटो

Akhilesh and Mayawati special tactics of preparation

यह भी पढ़ें...आरक्षण को लेकर बढ़ रहे विरोध पर सर्वोदय भारत और नैतिक पार्टी ने दिखाया नया रास्ता

  आप के लिए ये सीट

खबर है कि गाजियाबाद या नोएडा सीट 'आप' पार्टी के लिए छोड़ी जा सकती है। अपना दल, वामपंथी पार्टिर्यों को भी कुछ सीटें दी जा सकती है। यह भी हो सकता है कि छोटे दलों के एक-दो नेता बड़ी पार्टियों के सिंबल पर ही मैदान में किस्मत आजमाएं। गौरतलब है कि फूलपुर व कैराना लोकसभा सीट तथा नूरपुर विधानसभा सीट पर गठबंधन को सफलता हासिल हुई थी। कुछ इसी तरह कि रणनीति लोकसभा चुनाव को लेकर भी बनाई जा रही है। हालांकि, गठबंधन में सबसे ऊपर सपा और बसपा ही रहेगी। रालोद के लिए जो सीट छोड़ी जाएगी वह  पश्चिमी यूपी में जाट के बहुल इलाके होंगे। जिनमें बागपत, मुजफ्फरनगर, कैराना व मथुरा की सीटें शामिल हो सकती हैं। सूत्रों की माने तो गठबंधन में कांग्रेस को भी शामिल किया जा सकता है। हालांकि, यह सब इस बात पर निर्भर करेगा कि एमपी, छत्तीसगढ़ व राजस्थान में होने वाले चुनाव को लेकर कांग्रेस का बसपा और सपा को लेकर क्या रुख होगा। 

यह भी पढ़ें...कन्नौज में अखिलेश को टक्कर देने के लिए चुनावी मैदान में बीजेपी उतारेगी बॉलीवुड का यह सितारा

  जल्द ही बातचीत

सूत्रों के मुताबिक गठबंधन को लेकर पार्टियों के बीच जल्द ही वार्ता हो सकती है। यह भी संभव है कि सबसे अधिक सीटों पर बसपा ही चुनाव लड़े। बसपा पार्टी की यह मांग भी तेज हो चुकी है कि मायावती को ही पीएम पद का दावेदार बनाया जाए। वहीं, अन्य दलों के इशारे भी इसी ओर संकेत कर रहे हैं। मायावती को पीएम पद का दावेदार बनाने पर दलितों की एकजुटता बढ़ेगी। 

रोचक जानकारी- गठबंध में शामिल किए जाएंगे छोटे दल और सीटे भी दी जाएंगी।

Web Title: Akhilesh and Mayawati special tactics of preparation ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया