मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

जानिए कब और क्यों मनाई जाती है गणेश चतुर्थी


DEEPSHIKHA JAISWAL 11/09/2018 17:26:58
851 Views

New Delhi. इस बार गणेश चतुर्थी 13 सितंबर को मनाई जाएगी। गणेशोत्सव के दौरान गणपति की घर में स्थापना की जाती है और भली-भांति पूजा की जाती है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इस पूजा की शुरुआत कहां से और क्यों हुई थी। अगर नहीं तो चलिए आज हम आपको गणेश चतुर्थी के ऐसे महत्त्व को बताने जा रहे हैं जिसे आप नहीं जाते होंगे।

Know when and why it is celebrated Ganesh Chaturthi 2018 and shubh muhurat

यह भी पढ़ें...ताजा खबरों को मोबाईल पर पाने के लिए यहां क्लिक करें।

  कहां से शुरू हुई थी गणेश चतुर्थी

दरअसल, अंग्रेजों के शासन के दौरान भारतीय संस्कृति पर अंग्रेजी संस्कृति हावी हो रही थी। नौजवान अपनी सभ्यता और संस्कृति को भूल रहे थे, क्योंकि ईसाई त्योहार भव्यता के साथ मनाए जा रहे थे, जिससे लोगों के मन में अपने धर्म के प्रति नकारात्मकता और अंग्रेजी आचार-विचार के प्रति आकर्षण बढ़ने लगा था।

गणेश चतुर्थी

बता दें कि उस समय भारत में पेशवाओं का शासन था। सवाई माधवराव पेशवा के शासन में पूना के प्रसिद्ध शनिवारवाड़ा नामक राजमहल में भव्य तरीके से गणेश चतुर्थी मनाई जाने लगी। यह एक धार्मिक उत्सव था, इसलिए अंग्रेज शासक भी दखल नहीं दे पाए।

क्यों मनाया जाता है गणेश चतुर्थी

  इस लिए मनाई जाती है गणेश चतुर्थी

यह भी पढ़ें...गणेश चतुर्थी : ऐसे करें भगवान गणेशजी को प्रसन्न, होगी मनोकामना पूर्ण

अंग्रेजों का शासन इतना ज्यादा बढ़ता जा रहा था कि हिंदू धर्म के लोगों में नकारात्मकता भाव पैदा होने लगा था, जिसे ध्यान में रखते हुए लोकमान्य तिलक ने पुणे में सन 1893 में सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मनाने की शुरूआत की। लोकमान्य तिलक ने बड़ी चतुराई से गणेशोत्सव को आजादी की लड़ाई के लिए एक प्रभावशाली माध्यम बनाया।

गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त

इसे लेकर लोकमान्य तिलक ने पुणे में एक सभा का भी आयोजन किया। जिसमें यह तय किया गया कि भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी से भद्रपद शुक्ल चतुर्दशी (अनंत चतुर्दशी) तक गणेश उत्सव मनाया जाए। इसी बहाने इन 10 दिनों के इस उत्सव में हिंदुओं को एकजुट करने वह देश को आजाद करने के लिए विभिन्न योजनाओं पर भी चर्चा की जाती थी। इसीलिए महाराष्‍ट्र में गणेश चतुर्थी का उत्‍सव बड़े ही धूमधाम से 11 दिनों तक मनाया जाता है और देश के कई राज्यों में भी इस उत्‍सव को लोग ख़ुशी-ख़ुशी मनाते हैं।

रोचक जानकारी- कब है करवा चौथ

करवा चौथ रविवार, 28 अक्तूबर को है।

Web Title: Know when and why it is celebrated Ganesh Chaturthi 2018 and shubh muhurat ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया