मुख्य समाचार
बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

यह लालबागचा राजा की विशेषता, जानें क्यों हैं इतने फेमस


DEEPSHIKHA JAISWAL 13/09/2018 12:48:51
7044 Views

New Delhi. देश भर में गणेश चतुर्थी की धूम मची हुई है। खासकर महाराष्ट्र में गणपति बप्पा के स्वागत की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। पूरे मुंबई में गणेशोत्सव के दौरान गणेश पंडाल जगह-जगह लगे मिल जाएंगे, लेकिन एक पंडाल ऐसा है जो न केवल मुंबई बल्कि पूरे भारत में फेमस है। इस पंडाल को देखने के लिए श्रद्धालु गणेशोत्सव के दौरान देशभर से आते हैं। जी हां, आज हम आपको महाराष्ट्र के लालबागचा राजा के पंडाल के बारे मे बता रहे है। जहां पूरे देश से लोग आते हैं। आइए जानते हैं इनकी विशेषता और यहां तक पहुंचने का रास्ता।

गणेश चतुर्थी  की फोटो

यह भी पढ़ें... ताजा खबरों को मोबाईल पर पाने के लिए यहां क्लिक करें।

हम बात कर रहे हैं मुंबई के लालबागचा राजा की जो पूरे सज-धज गए हैं। बता दें कि लालबागचा राजा मुंबई की सार्वजनिक पूजा मंडलियों की ओर से स्थापित की जाने वाली मूर्तियों में सबसे मशहूर हैं। यह पंडाल मुंबई में सबसे ज्यादा श्रद्धालुओं को अपनी ओर खींचता है। इस पंडाल में हर रोज दर्शन के लिए लाखो श्रद्धालु आते हैं। यहां भक्तों के लिए दो लाइन होती हैं नवस और जनरल लाइन। नवस लाइन उन लोगों के लिए होती है जो भगवान की मूर्ति के नीचे पूजा करना चाहते हैं जबकि जनरल लाइन मूर्ति से थोड़ी दूर होती है। 10 दिनों तक चलने वाले इस त्यौहार में दूर-दूर से श्रद्धालु लालबागचा राजा का दर्शन करने आते हैं।

क्यों मनाया जाता है गणेश चतुर्थी

यहां साल 1934 से गणेश भगवान की मूर्ति की स्थापना की जा रही है। 13 सितंबर से शुरू हो रहे इस त्योहार का समापन 22 सितंबर को होगा।

आपको बता दें कि लालबागचा राजा गणेश की मूर्ति हर साल कांबली परिवार बनाता है। एक मूर्ति बनाने में करीब 1 से 2 महीने का वक्त लगता है। इस साल गणपति की मूर्ति की उचाईं 15 फीट है।

  यहां कैसे पहुंचे

यह पंडाल मुंबई की लाल बाग मार्केट में जीडी आंबेडकर रोड पर लगता है। यहां आने के लिए आप चिंचपोकली, करी रोड या लोअर परेल स्टेशन उतर सकते हैं।

गणेश चतुर्थी पूजा

यह भी पढ़ें...जानिए कब और क्यों मनाई जाती है गणेश चतुर्थी 

  गणेशोत्सव का शुभ मुहूर्त

13 सितंबर मध्याह्न गणेश पूजा का समय- 11:03 से 13:30 बजे तक।

चतुर्थी तिथि समाप्त - 13 सितम्बर 2018 को 14:51 बजे।

रोचक जानकारी - कब है करवाचौथ 

रविवार 28 अक्तूबर है करवाचौथ। 

 

Web Title: albaugcha raja ganpati 2018 lalbaugcha raja mumbai darshan ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया