मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

CM के नाक के नीचे चल रहा खेल, NHM में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितता का भ्रष्टाचार


SHUBHENDU SHUKLA 17/09/2018 03:05:57
308 Views

Lucknow. NHM (नेशनल हेल्थ मिशन) में भ्रष्टाचार का चरम पर है। वहीं, सीएम योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार में जीरो टॉलरेन्स की बात कर रहे हैं। हमेशा से भ्रष्टाचारी कारनामों को लेकर विवादों में रही NHM में अब वित्तीय अनियमितता का होश उड़ा देने वाला मामला सामने आया है। हैरान करने वाली बात है कि पूर्व में भ्रष्टाचार के कारण टर्मिनेट (बर्खास्त) हुए जीएम एचआर संदीप सक्सेना के साथ ही वित्त अनुभाग के वरिष्ठ वित्त प्रबंधक से लेकर फाइनेंस कंट्रोलर गुरुजीत सिंह कलसी तक शामिल हैं। वित्तीय अनियमितता का यह खेल वित्तीय वर्ष वर्ष 2012-2013 से 2015-16 में भी जारी है। आपको बता दें कि 2012.13 में एसपीएमयू में संविदा पर भर्तियां की गई थी। इसके बाद नवनियुक्त संविदा कर्मियों को इंक्रीमेंट नहीं मिलने का हवाला देते हुए एक ही साल में दो बार वेतन वृद्धि का लाभ उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से दे दिया गया। लेकिन यह लाभ उन्हीं को मिला जो अधिकारियों के कृपा पात्र थे।

यह भी पढ़ें...NHM में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितताओं का खेल, भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारी

  हुई थी सीबीआई जांच

चिंताजनक बात यह है कि वेतन वृद्धि का लाभ एक ही साल में दो बार लाभ दिलाने को लेकर हवाला दिया गया कि नवनियुक्त संविदा कर्मियों को इंक्रीमेंट का लाभ नहीं मिला है, इस वजह से लाभ दिया जाना चाहिए। लेकिन वित्त अनुभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी एक ही साल में दो बार वेतन वृद्धि का लाभ उठाया। 2009/10 में सीबीआई भी जांच करने एनएचएम आई थी। राज्य स्तर से लेकर जनपद स्तर तक सीबीआई ने जांच पड़ताल की थी। जिसमें कई अधिकारी दोषी भी पाए गए थे। लेकिन इसे बाद भी विभाग में अधिकारी अपने काले कारनामों को अंजाम दे रहे हैं। ये गड़िबड़ियां प्रोग्रामिंग में थी। लेकिन उसके बाद भी विभाग भ्रष्टाचार के कारनामों को अंजाम देने में मस्त हैं। फिलहाल ये प्रकरण शासन से उच्च स्तरीय जांच का विषय है। यदि शासन स्तर से मामले पर जांच बिठाई जाती है, तो यह वित्तीय अनियमितता बड़े घोटाले के तौर पर सामने आ सकती है। लेकिन शासन में बैठे अधिकारी मामले को कितनी गंभीरता से लेते हैं, ये तो समय ही बताएगा। चूंकि जांच के बाद कई अफसरों की गर्दन फंस सकती है। 

The corruption of large-scale financial irregularities in the National Health Mission

  ये नाम हैं शामिल

धर्मेन्द्र कुमार वरिष्ठ वित्त प्रबंधक, प्रीती कुमारी टीम लीडर, डॉ. पीके गंगवार सलाहकार, अमरजीत कार्यालय सहायक, अमर कुमार सिंह, कार्यालय सहायक, अमित श्रीवास्तच उप महाप्रबंधक (एचआर), अभय द्विवेदी सलाहकार, जैसे कई अन्य अधिकारी व कर्मचारी हैं, जिनको एक ही वर्ष में दो बार इंक्रीमेंट का लाभ दिया गया है। इनमें धर्मेंद्र कुमार, प्रीती कुमारी, गंगवार, अमर​जीत सिंह, अमर कुमार, अमित श्रीवास्तव, अभिषेक यादव सलाहकार, अभय द्विवेदी की नियुक्ति फरवरी 2015 में हुई थी। इनका प्रथम वेतन वद्धि फरवरी 2016 में हुआ। इसके बाद दोबारा 12 माह उपरांत एवं 1 माह उपरांत कुछ को 2 माह उपरांत वेतन वृद्धि का लाभ दे दिया गया। 

  सालों से नहीं हुआ स्थानांतरण

10  सालों से एक ही जगह अधिकारी मौज काट रहे हैं। जबकि तीन साल में ही सरकार ने ट्रांसफर पॉलिसी बना रखी है। डा. मधु शर्मा प्लानिंग जीएम, डा. एके मिश्रा ये दो नाम अभी उजागर किए जा रहे हैं, जो 2009 से अपने पद पर एक ही जगह बने हुए हैं। लेकिन उच्च अधिकारियों की मेहरबानी के कारण एनएचएम में ट्रांसफर की नीति को भी दरकिनार कर दिया गया है। वहीं, एएमडी निखिल चंद्र शुक्ला संविदा पर तैनात हैं। ये दो साल से एचआर देख रहे हैं। एचआर में फैली अनियमिताओं को सुधारने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। दो सालों में कई गड़बड़ियां हुई, लेकिन एचआर में कितना सुधार हुआ यह संदीप सक्सेना द्वार पूर्व में हुई संविदा भर्ती परीक्षा में धांधली (भ्रष्टाचार) को लेकर टर्मिनेट किया जाना उदाहरण के तौर पर सामने है। हैरान करने वाली बात यह है कि एनएचएम में अब वित्तीय अनियमितताओं का भी बड़ा खेल खेला जा रहा है। रेवड़ी की तरह वेतन बांटे जा रहे हैं, लेकिन विभागीय उच्च अधिकारियों से लेकर शासन ने भी चुप्पी साध रखी है। 

  सरकार के आदेश ठेंगे पर

जब स्थानांतरण मामले को लेकर एनएचएम में एमडी पंकज कुमार से बात की गई थी तो उन्होंने कार्मिक विभाग का हवला देते हुए कहा कि यहां डेपोटेशन पर नियुक्तियां की जाती हैं। ऐसे में पहले आप ट्रांसफर पोस्टिंग के बारे में जानकारी कर लें। लेकिन हैरान करने वाली बात है कि पहले भी कई उच्च अधिकारी आए और उनका स्थानान्तरण हुआ। लेकिन अब जो अधिकारी सालों से कुर्सी पर बैठे हुए हैं क्या उनकी नौकरी यहीं खत्म होगी। गौरतलब है कि सरकार ने भ्रष्टाचार पर रोक लगाने को लेकर तीन सालों में स्थानांतरण संबंधित नियम बनाए हैं। लेकिन एनएचएम में सरकार के आदेशों को भी ठेंगे पर रख लिया गया है। 

यह भी पढ़ें...वाशिंगटन यूनिवर्सिटी की राजलक्ष्मी को भारत देगा यंग स्कॉलर अवार्ड

  इन्होंने झाड़ लिया था पल्ला

मामले को लेकर जब भारत सरकार से एनएचएम की रिपोर्ट जांचने लखनऊ पहुंची टीम के सीनियर फाइनेंस कंट्रोलर संजीव कुमार से बात की गई थी, तो डिप्टी कमीश्नर एसके सिकदर से बात करने का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया। जब मामले को लेकर डिप्टी कमीश्नर इंचार्ज स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार डा. एसके सि​कदर से बात की गई, तो कहा कि उनके पास समय नहीं है। वह काफी व्यस्त हैं। हो सकता है कि मामले को लेकर कोई कन्फ्यूजन हो। जब गड़बड़ियों और भ्रष्टाचार की शिकायत सुनने का समय इतने उच्च पदों पर आसीन अधिकारियों के पास समय नहीं है, तो भ्रष्टाचार में जीरो टॉलरेन्स की बात करना महज एक दिखावा है।

The corruption of large-scale financial irregularities in the National Health Mission

  क्या कहती हैं मंत्री

जब मामले को लेकर परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी से बात की गई तो कहा कि वह अभी इस विषय पर कुछ भी नहीं बोल सकतीं। गड़बड़ियों का कागज वह अपने पास रख रही हैं। इसके बारे में सच्चाई जानने के बाद ही कुछ कह पाएंगी।   

रोचक जानकारी- (NHM) उप्र की ​तरफ से 4688 पदों पर भर्ती का विज्ञापन निकाला गया था। जब लिखित परीक्षा के अंक सामने आए तो 90 में 6 अंक पाने वाले अभ्यर्थियों को भी चयनित कर दिया गया था। जबकि 64 अंक पाने वाले अभ्यर्थी चयन से वंचित रह गए थे।

Web Title: The corruption of large-scale financial irregularities in the National Health Mission ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया