मुख्य समाचार
 

रुपए की गिरती कीमतों ने लाखों हाजियों को बनाया कर्जदार


ABHIMANYU VERMA 17/10/2018 17:37:48
105 Views

लखनऊ। अंतर्राष्ट्रीय जगत में डॉलर के मुकाबले रुपए की गिरती कीमतों का खामियाजा अब हज़ यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। इसकी वजह से देशभर के तकरीबन 1 लाख 28 हजार हज़ यात्री कर्जदार बन गए हैं। जिसको लेकर हज कमेटी ऑफ इंडिया की बड़ी लापरवाही सामने आयी है।

rupaye ki girti kimaton ne lakhon haziyon ko banaya karjdar

दरअसल जब इन यात्रियों ने हज़ यात्रा शुरू की थी, उस वक्त डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 65 थी, लेकिन जब एयरलाइंस को भुगतान करने का समय आया तो डॉलर की कीमत बढ़ कर 71 रुपये के आसपास पहुंच चुकी थी, जिसके बाद लोगों से बकाया राशि वसूलने के लिए नोटिस जारी किया गया है। 

  हाजियों से बकाये की मांग को लेकर कमेटी ने की नोटिस जारी 

डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत गिरने से हज कमेटी ऑफ इंडिया को एयरलाइन द्वारा हाजियों से ली गई धनराशि से काफी अधिक भुगतान करना पड़ गया। जिसको लेकर 12 अक्टूबर को वेबसाइट पर एक नोटिस जारी किया है, जिसमें हज़ पर गए लोगों से बकाया रुपयों की मांग की गयी है। इस लापरवाही के चलते अब लाखों हज़ यात्री पांच से आठ हजार रुपए के कर्जदार हो गए हैं।

कमेटी द्वारा जारी की गयी नोटिस में कहा गया है कि हाजियों से हज यात्रा का खर्च उस समय रुपए की कीमत के लिहाज से लिया गया था। तब एक डॉलर की कीमत 65 रुपये थी। लेकिन इस बीच रुपए डॉलर के मुकाबले लगातार गिरती गयी। कमेटी को एयरलाइंस द्वारा हाजियों से ली गई धनराशि से काफी अधिक भुगतान करना पड़ गया। 

आगे कहा गया कि लखनऊ से सऊदी अरब का किराया कमेटी ने 84,633.10 रुपये प्रति हाजी चुकाया गया है। जबकि हज़ यात्रा पर गये लोगों से उस वक्त 78,169 रुपये जमा कराए गए थे। अब कमेटी को 6,495 रुपये ज्यादा भुगतान करना पड़ रहा है। अब इस पर हज कमेटी ऑफ इंडिया हज यात्रा से लौटे हाजियों से पांच से साढ़े आठ हजार रुपये तक का अतिरिक्त हवाई खर्च मांग रही है।

यह भी पढ़ें:-.........अमर सिंह बोले - सपा बसपा गठबंधन के लिए सरगम के सुर जरूरी हैं लेकिन यहां तो...

  हाजियों से रकम वसूलना गलत: राज्यमंत्री मोहसिन रजा

वहीँ यूपी के राज्यमंत्री मोहसिन रजा हाजियों से रकम वसूलने को गलत ठहराया है। उनका कहना है कि ये जिम्मेदारी हज कमेटी की है कि वो कैसे इस मामले को हल करती है। दूसरी तरफ उलेमा हज कमेटी की इस बात पर नाराजगी जता रहे हैं।

धर्मगुरु सुफियान निजामी का इस मामले मेसिन कहना है कि कमेटी की लापरवाही का खामियाजा हाजी क्यों भुगते। जो रकम तय हो गई वो रकम हाजियों ने हज पर जाने से पहले जमा कर दी। इसलिए वो किसी भी बाकी रकम के भुगतान के लिए बाध्य नहीं हैं।

यह भी पढ़ें:-.........निर्वाचन आयोग दिव्यांग मतदाताओं को उपलब्ध कराएगा ब्रेल फीचर युक्त मतदाता पर्चियां

Web Title: rupaye ki girti kimaton ne lakhon haziyon ko banaya karjdar ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया