राम का व्यक्तित्व हिमालय से ऊंचा एवं समुद्र से भी अधिक गहरा है - राज्यपाल


MOHD ATHAR RAZA 18/10/2018 10:41:06
498 Views

Ram

Lucknow. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने सन्त गाडगे प्रेक्षागृह गोतमीनगर, लखनऊ में सत्यसर्मपण संस्था द्वारा आयोजित लोक नाट्य शैली ‘नौटंकी की संगीतमय प्रस्तुति’ ‘सियाराम अवधपुरी से जनकपुरी’ तक का द्वीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया। इसकी परिकल्पना, लेखन, संगीत निर्देशन अमित दीक्षित द्वारा किया गया है। इस अवसर पर महेेन्द्र सोनी, राम कृपाल, संगीत नाट्य अकादमी की अध्यक्ष पूर्णिमा पाण्डेय तथा भारी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Ram

राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि यहां आकर मुझे अत्यन्त प्रसन्नता है। इस समय जगह-जगह रामलीला का मंचन किया जा रहा है। इसके लिये आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। उन्होंने कहा कि यह अत्यन्त हर्ष का विषय है कि प्रदेश सरकार ने इस शुभ अवसर पर जनभावनाओं का सम्मान एवं उनकी मांग को पूरा करते हुए इलाहाबाद के नाम को बदल कर प्रयागराज किया है। राज्यपाल ने कहा कि इससे पहले भी कोलकाता, मुंबई, मद्रास, बंगलूरू और त्रिवेन्द्रम के नामों को वहां की जनभावनाओं को देखते हुए परिवर्तित किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि इसके सम्बंध में मैने भी प्रदेश के मुख्यमंत्री  से इस पर विचार करने के लिये सुझाव दिया था, जिसे मुख्यमंत्री ने कैबिनेट में प्रस्ताव को पास करके पूरा किया।
राज्यपाल ने रामायण को अद्भुत कथा बताते हुए कहा कि राम का व्यक्तित्व हिमालय से ऊंचा एवं समुद्र से भी अधिक गहराई लिये हुए है। इसे सभी ने अपने-अपने ढंग से व्यक्त किया है।  अमित दीक्षित द्वारा पुरानी एवं विलुप्त होती संस्कृति के माध्यम से रामायण का मंचन एवं नाट्य द्वारा प्रस्तुतिकरण अत्यन्त अनुकरणीय है। रामायण के बारे में दुनिया में सबसे अधिक लिखा गया है। राम के बचपन से लेकर अन्त तक अनेकों कथाएं हैं। यह आश्चर्य का विषय है कि इनकी कथाएं इण्डोनेशिया तथा थाइलैण्ड जैसे अन्य देशों में भी प्रचलित एवं लोकप्रिय हैं। 

 

Ram

 राज्यपाल कहा कि नौटंकी एवं कथक के माध्यम से रामायण को प्रस्तुत करने के लिए अमित दीक्षित के प्रयासों की सराहना एवं अभिनन्दन करता हूं। उन्होंने नौटंकी एवं कथक का संगम दिखाने का अद्भुत प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि ऐसी कला को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। राज्यपाल ने अमित दीक्षित को हिम्मत के साथ आगे बढ़ने एवं कला को आगे बढ़ाने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि कला के माध्यम से जीवन में सम्मान एवं ऊंचाईयों को प्राप्त किया जा सकता है।
इस अवसर पर अमित दीक्षित ने राज्यपाल राम नाईक को शाॅल एवं स्मृति चिहन भेंट कर स्वागत एवं अभिनन्दन किया। दीक्षित ने राज्यपाल की कार्यशैली एवं राजनैतिक उपलब्धियों से लोगों को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों के लिए यह गौरव का विषय है कि ऐसे व्यक्ति द्वारा उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के पद को सुशोभित किया जा रहा है।

Web Title: Ram's personality is higher than Himalaya and deeper than sea - Governor ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया