मुख्य समाचार
10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

बोस के पोते ने कहा, नेहरू नहीं... नेताजी थे अखंड भारत के पहले प्रधानमंत्री


ABHIMANYU VERMA 22/10/2018 14:38:41
331 Views

New Delhi. नेताजी सुभाषचंद्र बोस के पोते व पश्चिम बंगाल में भाजपा के उपाध्‍यक्ष चंद्र कुमार बोस ने कांग्रेस पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने वाले सेनानियों के इतिहास को मिटाने की कोशिश की और राजवंश तानाशाही को बढ़ाया दिया। साथ ही उन्होंने दावा किया कि नेताजी अखंड भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। नेहरू विभाजित भारत के पहले प्रधानमंत्री थे, लेकिन अखंड भारत के नही।

Chandra Kumar Bose said that Netaji was the first prime minister of akhand bharat

बता दें कि इससे पहले रविवार को 'आजाद हिंद सरकार' की 75वीं जयंती के मौके पर पीएम मोदी ने नेहरू-गांधी परिवार पर आज़ादी के लिए लड़ने वाले अन्य नेताओं को भुलाने का आरोप लगाया था। चंद्र कुमार बोस ने कहा कि कांग्रेस ने स्‍वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को भुला दिया। आजादी के लिए सन 1857 की क्रांति से जो आग भड़की थी, उसमें मंगल पांडे, शहीद भगत सिंह, राजगुरु, विनय बादल दिनेश और अन्‍य ने अहम भूमिका निभाई थी, लेकिन आजादी के बाद कांग्रेस की सरकार में इन सेनानियों के बलिदान को भुलाने और मिटाने का काम हुआ। कांग्रेस ने देश को राजवंश तानाशाही में बदलकर रख दिया।'

यह भी पढ़ें:-...........पीएम मोदी बोले, एक परिवार के लिए देश के सपूतों के योगदान को भुलाया गया

पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू को चंद्र कुमार बोस ने विभाजित भारत का प्रधानमंत्री बताते हुए कहा कि नेताजी अखंड भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। नेहरू विभाजित भारत के पहले प्रधानमंत्री थे, लेकिन अखंड भारत के नही। उन्‍होंने आरोप लगाया कि 1944 में आजाद हिंद फौज दिल्‍ली में आकर लाल किले पर तिरंगा फहराने चाहती थे, तब पंडित नेहरू और कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने इसका विरोध किया था।

बता दें कि 21 अक्टूबर 1943 को सुभाष चंद्र बोस ने सिंगापुर में प्रांतीय आजाद हिंद सरकार की स्थापना की थी। उस वक्त 11 देशों ने आजाद हिंद सरकार को मान्यता दी थी। साथ ही कई देशों में अपने दूतावास भी खोले थे। इसके अलावा आजाद हिंद फौज ने बर्मा की सीमा पर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। मोदी सरकार ने रविवार को नेताजी द्वारा स्थापित आजाद हिंद सरकार की 75वीं वर्षगाठ मनाई। इस दौरान पीएम मोदी ने लाल किले में झण्डारोहण भी किया। 

Web Title: Chandra Kumar Bose said that Netaji was the first prime minister of akhand bharat ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया