मुख्य समाचार
शाकिब ने रचा इतिहास, वर्ल्‍ड कप में कपिल-युवराज के रिकॉर्ड की बराबरी की क्षेत्र-जिला पंचायत सदस्यों के रिक्त पदों पर उप निर्वाचन के लिए समय सारणी जारी  Tik Tok वीडियो से सुर्खियों में आई पीली साड़ी वाली महिला जेनेलिया डिसूजा के पैर दबाते रितेश देशमुख का वीडियो वायरल, यूजर्स ने कहा... जल्द ही 100 करोड़ का आंकड़ा छू सकती फिल्म कबीर सिंह सपा संरक्षक की होगी सर्जरी, इस गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं मुलायम कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  राजस्थान: बीजेपी प्रमुख मदन लाल सैनी का लंबी बीमारी के बाद निधन दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान
 

अगले साल जनवरी में आंध्र प्रदेश का होगा अलग हाईकोर्ट


ABHIMANYU VERMA 06/11/2018 16:39 PM
307 Views

New Delhi. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आंध्र प्रदेश के अलग हाईकोर्ट को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। अगले साल जनवरी में आंध्र प्रदेश का एक अलग हाईकोर्ट होगा, जिसको लेकर कोर्ट ने अधिसूचना जारी करने की मंजूरी दे दी है। खबर के मुताबिक, आंध्र प्रदेश की राजधानी अमरावती के जस्टिस सिटी कॉम्प्लेक्स में कोर्ट के लिए स्थाई इमारत का निर्माण होने तक यह एक अस्थाई इमारत से संचालित होगा। 

Supreme Court approves the new High Court of Andhra Pradesh

बता दें कि दो जून 2014 को बंटवारे के बाद आंध्र प्रदेश और तेलंगाना का हैदराबाद में एक ही हाईकोर्ट है। वर्तमान समय में हैदराबाद तेलंगाना की राजधानी है। इस मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने कहा कि हाईकोर्ट के लिए सारी जरूरतें पूरी कर ली गई हैं, इसलिए तेलंगाना हाईकोर्ट और आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के रूप में कोर्ट को अलग करने की अधिसूचना जारी करने पर कोई रोक नहीं है।

यह भी पढ़ें:-.......डिप्टी सीएम बोले, मोदी-योगी नहीं कर सकते राम मंदिर निर्माण का फैसला

पीठ ने आगे कहा कि अगले साल एक जनवरी 2019 तक ऐसी अधिसूचना की उम्मीद है, जिससे दोनों हाईकोर्ट अलग-अलग काम शुरू करें और आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट भी जल्द से जल्द अपनी नई इमारत से संचालित हो। आंध्र प्रदेश सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि जिस इमारत से हाईकोर्ट स्थायी तौर पर संचालित होगा, वह इमारत 15 दिसंबर तक तैयार हो जाएगी।

Web Title: Supreme Court approves the new High Court of Andhra Pradesh ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया