मुख्य समाचार
अमेठी: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने धूम-धाम से मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन एरिया कमांडर समेत 4 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण हाईवे किनारे जड़ी बूटियां उगाकर यूपी सरकार सुधारेगी लोगों का स्वास्थ्य  लखनऊ: सीएम योगी ने लेखपालों को बांटे लैपटॉप लखनऊ में गर्मी का कहर, राज्य में 23 जून तक नहीं चलेंगे स्कूल अर्जुन पटियाला का पोस्टर्स हुआ रिलीज,फिल्म मे दिलजीत-कृति मुख्य भूमिका में पहली बार सांसद बने सनी देओल से हुई बड़ी चूक, जा सकती है लोकसभा की सदस्यता  सीवर सफाई करने चैंबर में उतरे दो कर्मचारी गैस से अचेत होकर डूबें, मौत नेहा धूपिया के चैट शो में पहुंची परिणीति चोपड़ा और सानिया मिर्जा गरीब मजदूर की मजदूरी नहीं दिला पा रही मलिहाबाद पुलिस इयोन मोर्गन ने तोड़ डाला छक्कों का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, एक पारी में लगा दिए इतने छक्के संभल में भीषण सड़क हादसा, दो बच्चों समेत आठ की मौत सपा सांसद ने नहीं लगाया वंदे मातरम का नारा तो अखिलेश ने कह दी चौंकाने वाली बात मोदी सरकार ने किये ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में संशोधन, जानिए क्या है नियम? परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक धर्मांतरण के विरोध में विहिप ने डीएम को सौंपा ज्ञापन महिला अपनी ताकत को पहचाने और समाज को यह संदेश दें कि नारी अबला नहीं अब सबला है : अनुपमा जायसवाल याचिका दायर कर पाकिस्तान की क्रिकेट टीम को बैन करने की मांग दलित हत्या मामले बहन जी के करीबी नेता को अखिलेश ने सौंपी अहम जिम्मेदारी प्रत्येक विकास खण्ड की दो पंचायतों को आदर्श पंचायत के रूप में विकसित किया जाय
 

केंद्र सरकार ने सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपे राफेल सौदे के दस्तावेज 


GAURAV SHUKLA 12/11/2018 16:58 PM
161 Views

LUCKNOW. राफेल को लेकर लगातार आलोचनाओं का शिकार हो रही केंद्र सरकार ने डील से संबंधित दस्तावेजों को सील बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपा। मीडिया रिपोर्टस के अनुसार इस लिफाफे में कीमतों को लेकर भी कागजात सौंपे गये हैं। इसके अलावा राफेल डील की प्रक्रिया और दसॉल्ट कंपनी ने भारतीय ऑफसेट पार्टनर के चुनाव पर भी कागजात सौंपे हैं। केंद्र सरकार ने कहा कि राफेल सौदा प्रक्रिया के तहत किया गया था और भारतीय ऑफसेट पार्टनर चुनने में उसकी कोई भूमिका नहीं थी। ये ऑरिजनल इक्विपमेंट मैनुफेक्चरर का फैसला था। 

RAFEL PAR COURT KO SAUPE GAE DASTAVEJ
इसके साथ ही केंद्र सरकार ने यह भी कहा कि ऑफसेट पार्टनर का चुनाव कंपनियों का फैसला था और इसमें भारतीय ऑफसेट पार्टनर को कई रकम नहीं दी गयी थी। कांट्रैक्ट के अनुसार भारतीय ऑफसेट पार्टनर का दायित्व अक्टूबर 2019 से शुरु होगा। जिसमें दसॉल्ट एविएशन का ऑफसेट शेयर 19.9 फीसदी और एमबीडीए का शेयर 6.27 फीसदी होगा। इसके साथ ही फिलहाल मामले की अगली सुनवाई 14 नवंबर को होगी। 

Web Title: RAFEL PAR COURT KO SAUPE GAE DASTAVEJ ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया