विशेष : फेक न्यूज़ डिटेक्शन पर हुई वर्कशॉप, सामने आईं कई महत्वपूर्ण बातें


SUYOGYA RAJ DWIVEDI 13/11/2018 00:40:42
576 Views

Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news

लखनऊ। फेक न्यूज़ पर लगाम कसने के प्रयास से लखनऊ विश्वविद्यालय में बीबीसी न्यूज़ द्वारा वर्कशॉप का आयोजन किया गया। जिसमें फेक न्यूज़ के बारे में चर्चा की गई। साथ ही उन तमाम पहलुओं पर भी बात हुई, जिसके कारण वर्तमान समय में फेक न्यूज़ का प्रसार इतनी तेज गति से हो रहा है। कार्यक्रम में यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव, यूपी पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह व वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार शामिल हुए। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सभी महानुभावों ने फेक न्यूज़ को रोकने की दिशा में प्रकाश डाला। 

मेरे नाम से चली फेक न्यूज़ - दिनेश शर्मा 

Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news

यूपी के डिप्टी सीएम : दिनेश यादव

फेक न्यूज़ पर बात करते हुए यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि समय के साथ बहुत सी चीजें बदलती है। इसी क्रम में आज सोशल मीडिया का दौर आ गया है। हमें इसकी ताकत व नुकसान, दोनों के बारे में समझने की ज़रूरत है। अपने साथ हुए एक किस्से का जिक्र करते हुए शर्मा ने कहा कि अभी हाल ही में सोशल मीडिया पर एक न्यूज़ मेरे नाम से चली जिसमें कहा गया कि कुम्भ मेले के कारण बोर्ड परीक्षाओं की तारीखें बदल गई हैं। जबकि ये न्यूज़ सरासर फेक थी। डिप्टी सीएम ने कहा कि जब हम सोशल मीडिया के माध्यम से कुछ करते हैं तो बात बहुत बड़ी संख्या में लोगों तक पहुँचती है, ऐसे में हमारी ज़िम्मेदारी और भी ज्यादा बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि आज के दौर में मीडिया को अपने सिद्धांतों के साथ चलने की ज़रूरत है। 

पिछले एक दशक में बदली न्यूज़ की परिभाषा : डीजीपी ओपी सिंह

Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news

डीजीपी ओपी सिंह

कार्यक्रम में उपस्थित डीजीपी ओपी सिंह ने भी फेक न्यूज़ को गंभीरता से लेने की बात कही। ओपी सिंह ने कहा कि सबसे पहले हमें इस बात को समझना होगा कि आखिर फेक न्यूज़ है क्या ? उन्होंने कहा कि हर वो न्यूज़ जिसका कोई सही सोर्स नहीं है वो फेक न्यूज़ है। डीजीपी ने कहा कि पिछले एक दशक में न्यूज़ की परिभाषा बहुत बदल गई है। इसको समझना पड़ेगा। साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव का जिक्र करते हुए ओपी सिंह ने कहा कि उस वक्त भी फेक न्यूज़ का खुलकर इस्तेमाल हुआ। उन्होंने बताया कि एक सर्वे के मुताबिक, करीब 60 प्रतिशत लोगों ने न्यूज़ सोशल मीडिया के माध्यम से देखी। इसी कारण आईटी कंपनियों को तकनीकी विकास के साथ-साथ इसके होने वाले दुष्प्रभाव पर भी विचार करने की ज़रूरत है। फेक न्यूज़ पर लगाम कसने के लिए यूपी पुलिस द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर बात करते हुए पुलिस महानिदेशक ने बताया कि इसको रोकने के लिए यूपी के सभी जिलों में स्ट्रांग सेल बनाई गईं हैं, जो 24*7 इस पर निगरानी रखती हैं। हालांकि हमें अभी और भी कई बड़े कदम उठाने की ज़रूरत है। 

एक वायरस की तरह है फेक न्यूज़ : अखिलेश यादव 

Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news

यूपी के पूर्व सीएम : अखिलेश यादव

मंच साझा करते हुए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि फेक न्यूज़ एक वायरस की तरह है, जो आज कल लोगों की जान लेने पर उतर आया है। अखिलेश ने कहा कि आज के समय में जो कोई भी किसी भी तरह के फेक पोस्ट को शेयर करता है या फिर उसको आगे बढ़ाने की बात करता है तो वो व्यक्ति सही मायने में एंटी-नेशनलिस्ट है। उन्होंने कहा की वर्तमान में हर वो व्यक्ति जिसके हाथ में मोबाइल फोन है, वो अपने आप में एक ब्रॉडकास्टर है। इसके साथ ही अखिलेश ने लोगों से जागरूक होने की अपील की। अखिलेश ने कहा कि हमें फेक न्यूज़ के बारे में और ज्यादा जागरूक होना पड़ेगा, तभी सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल होने से रोका जा सकेगा। 

लोगों का ब्रेन वाश किया जा रहा है : रवीश कुमार

Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news

वरिष्ठ पत्रकार : रवीश कुमार 

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने मंच से संबोधित करते हुए कहा कि फेक न्यूज़ का बेस मुख्य रूप से नफरत पर आधारित है। उन्होंने कहा कि ये सुनियोजित तरीके से हो रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य आम इंसान की सोचने समझने की शक्ति को खत्म करने जैसा है। रवीश ने कहा कि पहले के नेता जेब काट जाते थे पर आज के नेता गर्दन उड़ा ले जाते हैं यानि आपकी सोचने समझने की क्षमता को समाप्त कर देते हैं। ऐसी स्थिति में आपको खुद समझ में नहीं आएगा कि आखिर मुझे क्या करना है। 

Web Title: Workshop on fake news detection in lucknow by bbc hindi news ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया