मुख्य समाचार
भाजपा सरकार ने जनता की सुरक्षा को अपराधियों के आगे गिरवी रख दिया है : अखिलेश जन्मदिन विशेष: शाहरुख की फिल्में हिट कराने में सुखविंदर सिंह का बड़ा योगदान हज यात्री इन्तज़ामों में कमी बतायें, दूर किया जायेगा : मोहसिन रज़ा ‘‘भूजल सप्ताह’’ के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता एवं विज्ञान प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम आयोजित जालान पैनल ने तैयार की फंड ट्रांसफर की रिपोर्ट, सरकार को मिलेगी बड़ी राहत बाढ़ राहत के कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये : राहत आयुक्त राजकीय नलकूपों के यांत्रिक दोषों को 24 घंटे में दूर करें : धर्मपाल सिंह  पुलिस से परेशान व्यापारी ने खुद पर पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग बाढ़ पीड़ितों के लिए आगे आए अक्षय, प्रियंका ने भी की अपील सोनभद्र: 90 बीघा जमीन के लिए हुआ खूनी संघर्ष, 11 की मौत
 

धर्म निरपेक्ष है सबरीमाला मंदिर, सभी धर्मों के लिए खुला है : केरल सरकार


ABHIMANYU VERMA 13/11/2018 15:50:08
317 Views

Kochi. केरल के सबरीमाला मंदिर में गैर-हिंदुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध की याचिका को लेकर केरल सरकार का बड़ा बयान सामने आया है। केरल सरकार ने इस मामले में कोर्ट के समक्ष अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि सबरीमाला मंदिर धर्म निरपेक्ष है और यह सभी धर्मों के लिए खुला है।

बता दें कि सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर विवाद चल रह है। इसी बीच भाजपा की तरफ से मंदिर में गैर-हिंदुओं के प्रवेश पर बैन की मांग को लेकर केरल हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी, जिस पर कोर्ट ने सरकार से उसका पक्ष मांगा था।

 Government of Kerala told High Court that Sabarimala Temple is secular

इस मामले में केरल सरकार की ओर से केवी सोहन ने शपथपत्र कोर्ट में दायर किया है, जिसमें कहा गया है कि यह ऐतिहासिक सच्चाई है कि सबरीमाला मंदिर धर्मनिरपेक्ष है। इसमें कोई भी श्रद्धालु धर्म या जाति के आधार पर प्रतिबंधित नहीं है। आगे कहा गया है कि ये बात सच है कि सन्नीधनम में वावर नादा सबरीमाला के साथ सह-अस्तित्व में थे। प्राचीन समय से मुसलमान वावर नादा और सबरीमाला मंदिर दोनों जगह प्रार्थना करने आते थे। 

यह भी पढ़ें:-.....सबरीमाला फैसले पर पुनर्विचार को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर हुईं 48 याचिकाएं

सरकार की तरफ से कहा गया कि अयप्पा के पुजारी जाति और धर्म से अलग सबरीमाला मंदिर से पहले इरुमेली की वावर पल्ली (मस्जिद) में पूजा करते थे। पेटता थुलाल जो सबरीमाला मंदिर के श्रद्धालुओं का एक धार्मिक हिस्सा है वह वावर पल्ली से ही शुरू होता था। 

Government of Kerala told High Court that Sabarimala Temple is secular

साथ ही इस शपथपत्र में हरीवरासनम का जिक्र भी किया गया है। कहा गया है कि रात में जब पवित्र स्थान बंद हो जाते थे तो केजे यसुदास लोरी गाया करते थे। यसुदास क्रिश्चियन थे और अयप्पा के भक्त थे। मंदिर की वार्षिक पहाड़ी पवित्र यात्रा में कई मुसलमान और क्रिश्चियन भी शामिल होते थे। 

इसमें ये भी कहा गया है कि सबरीमाला मंदिर वास्तव में आदिवासियों का पूजा स्थल होता। हालांकि कई लोग इसे बुद्ध का स्थान भी बताते हैं।

  त्रावनकोर देवास्वम बोर्ड में दखल से सरकार का इंकार 

वहीं, सरकार ने त्रावनकोर देवास्वम बोर्ड (टीडीबी) में दखल की बात से साफ इंकार किया है। सरकार ने कहा कि वह टीडीबी के कामों में कोई दखल-अंदाजी नहीं कर रही है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करवाने के लिए और भक्तों की सुरक्षा के लिए पुलिस से कहा गया है। सीएम की तरफ से मंदिर प्रशासन को कोई निर्देश नहीं दिए गए हैं। सिर्फ पुलिस विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि वह भी मंदिर में भक्तों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को लेकर। 

Government of Kerala told High Court that Sabarimala Temple is secular

Web Title: Government of Kerala told High Court that Sabarimala Temple is secular ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया