मुख्य समाचार
सोनभद्र: सीएम के दौरे को पुलिस ने कसा शिकंजा, पूर्व विधायक समेत कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी  सोशल मीडिया पर कहर ढा रहीं हॉट एक्ट्रेस ईशा गुप्ता, देखें सिजलिंग तस्वीरें लखनऊ: मुठभेड़ में टिंकू नेपाली सरगना समेत तीन गिरफ्तार, दो सिपाही जख्मी मलाइका की सिजलिंग फोटो देख खुद पर काबू नहीं रख पाए आर्जुन कपूर, कर दिया ऐसा कमेंट... यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद, भाजपा नेता को गोलियों से भूना दो पुलिस कर्मियों की हत्या कर भागे कैदियों में एक को मुठभेड़ में पुलिस ने किया ढेर बाढ़ और बारिश से बेस्वाद हुई दाल, टमाटर हुआ लाल, इन सब्जियों के बढ़े 50 फीसदी दाम मॉब लिंचिंग पर सपा सांसद का बड़ा बयान, कहा- पाकिस्तान न जाने की सजा भुगत रहे हैं मुसलमान अब इस दिग्गज ने की प्रियंका के नाम की वकालत बाढ़ से बेहाल असम-बिहार, ताजा तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर पीड़ितों ने कौन सा अपराध किया जो उन्हें मुझसे मिलने से रोका जा रहा : प्रियंका AKTU : यूपीएसईई – 2019 की काउंसलिंग का तीसरा चरण आज से शुरु ICC के फैसले से सदमे में जिम्बाब्वे की टीम प्लेसमेंट ड्राइव में 5 से 7 लाख के पैकेज के साथ आई कंपनी, 120 छात्र-छात्राओं ने किया प्रतिभाग मंचीय कविता के आखिरी स्तम्भ थे नीरज : लक्ष्मी नारायण चौधरी एजाज खान के अरेस्ट होने के बाद ट्वीटर पर छाए मीम्स- यूजर्स बोले... ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाना चाहिए मैंगो फूड फेस्टिवल का आयोजन : डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा तेजबहादुर की याचिका पर पीएम मोदी को नोटिस
 

नमामि गंगे परियोजना के तहत बिहार में 1719 किमी सीवर नेटवर्क और 541 एमएलडी सीवेज संवर्द्धन क्षमता प्रस्तावित


GAURAV SHUKLA 26/11/2018 14:41:00
232 Views

Lucknow. बिहार के प्रचीन बड़े शहरों, पटना और भागलपुर के साथ-साथ गंगा तट पर बसे अन्य शहरों में बढ़ती जनसंख्या, शहरीकरण और औद्योगिकरण का दबाव, इन शहरों के सीवेज नेटवर्क पर पड़ रहा है। बिहार की राजधानी पटना के मौजूदा सीवेज प्लांट 109 एमएलडी तक के सीवेज का शोधन कर रहे है, जबकि एक अनुमान के मुताबिक भविष्य में यहां लगभग 350 एमएलडी सीवेज के शोधन की आवश्यकता होगी । पटना शहर की बात करें तो, इसका मात्र 20 प्रतिशत क्षेत्र ही सीवेज नेटवर्क के अंतर्गत कवर हो रहा है। 

namami gange pariyojna se bihar me hoga yah sudhar
गंगा नदी अविरलता और निर्मलता को बनाए रखने के लिए आवश्यक है कि गंगा बेसिन में बसे हुए ऐसे घनी आबादी वाले सभी शहरों के मौजूदा सीवेज नेटवर्कों और एसटीपी संयंत्रों का संचालन और रखरखाव प्रभावी रुप से किए जाए। साथ ही मौजूदा मुक्तिधामों, नदी तट पर बने घाटों के साथ-साथ भविष्य की जरुरतों को ध्यान में रखते हुए नए एसटीपी के निर्माण और मौजूदा एसटीपी की क्षमता को बढ़ाने के साथ साथ सीवेज नेटवर्क का भी विस्तार किया जाए ताकि गंगा में गिरने वाला मल-जल भी शोधित होकर ही गंगा में मिले। 
गंगा की निर्मलता और अविरलता को बहाल करने के उद्देश्य से, केन्द्र सरकार ने जुलाई, 2014 में पहली बार गंगा के पुनरूद्धार के लिए एक अलग मंत्रालय की स्थापना की थी और मई, 2015 में 20,000 करोड़ के बजट के आबंटन से नमामि गंगे कार्यक्रम की शुरुआत की। नमामि गंगे के तहत, अब तक सीवेज अवसंरचना, औद्योगिक प्रदूषण नियंत्रण, नदी तट, घाट और मुक्तिधामों के विकास के लिए 22,273 करोड़ रूपये की लागत से कुल 230 परियोजनाएं स्वीकृति की जा चुकी है जिनपर तेजी से कार्य हो रहा है। वहीं जल गुणवत्ता की नियमित जांच हेतु 44 स्थानों पर मानिटरिंग स्टेशन भी बनाए गए है।
 
भारत का कुल भू-भाग का 26 प्रतिशत हिस्सा गंगा बेसिन में हैं और देश की लगभग 43 प्रतिशत जनसंख्या और 57 प्रतिशत कृषि भू-भाग सिंचाई के लिए गंगा व उसकी सहायक नदियों पर निर्भर है। देश के जल संसाधनों में से 28 प्रतिशत गंगा नदी से ही प्राप्त होता है। कुल 2,525 किमी लंबी गंगा नदी, पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड , बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल से होकर बहती है हालांकि गंगा बेसिन में कुल 11 राज्य है।
 
गंगा नदी का बेसिन 
नमामि गंगे मिशन के द्वारा, गंगा नदी में 1109 प्रदूषणकारी औद्योगिक इकाइयों और शहरों से निकलने वाले लाखों लीटर मल-जल, सैंकड़ो नालों का गंदा पानी तथा राम गंगा, काली जैसी सहायक नदियों के द्वारा मिलने वाले मल-जल के शोधन का महत्वपूर्ण कार्य होना है। नमामि गंगे के अंतर्गत चल रही इन परियोजनाएं से गंगा की मुख्यधारा वाले 5 राज्यों- उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में वर्ष 2035 तक के लिए सीवेज उपचार आवश्यकताएं पूरी हो जाएगी।  नमामि गंगे शत-प्रतिशत केंद्रीय वित्तपोषित योजना है और पूरे पांच वर्ष के लिए एकमुश्त बजट का आबंटन कर दिया है। कई सीवरेज परियोजनाओं में हाईब्रिड एन्यूटी आधारित पीपीपी मॉडल का उपयोग किया जा रहा है जिसमें 15 वर्ष तक के लिए एस.टी.पी. का संचालन और रखरखाव की जिम्मेदारी निजी कंपनी ऑपरेटरों की ही होगी। 
बिहार की राजधानी पटना में नमामि गंगे परियोजना के तहत सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, सीवर नेटवर्क और घाटों के निर्माण जैसे कई परियोजनाओं पर कार्य डिजाईन, निर्माण, संचालन और ट्रांसफर (DBOT) स्कीम के तहत किए जा रहे है। डीबीओटी के तहत ही, पटना में 1834.8 करोड़ रुपये से 200 एमएलडी क्षमता वाले एसटीपी का निर्माण और 707.5 किमी लंबे सीवेज नेटवर्क का निर्माण कार्य किया जा रहा है। पटना के कंकरबाग और दीघा इलाके में हाईब्रिड एन्यूटी आधारित पीपीपी मॉडल के तहत सीवेज नेटवर्क और बड़े सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का समेकित विकास किया जा रहा है। इस योजना के तहत सभी नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट को बनाने और 15 वर्ष तक उनके रखरखाव का जिम्मा, निर्माण करने वाली कंपनी का ही होगा।        

namami gange pariyojna se bihar me hoga yah sudhar

दीघा घाट, पटना    

बक्‍सर में 16 एमएलडी क्षमता वाले 95 कि.मी. लंबे सीवर नेटवर्क का कार्य तेजी पर है। ऐसे ही, पटना के बेउर, करमालीचक, सैदपुर और शहर के पहाड़ी क्षेत्र में 200 एमएलडी क्षमता के 120 कि.मी. से अधिक लंबे सीवर नेटवर्क पर काम चल रहा है। सुल्‍तानगंज, बढ़ और नौगद्दिया में भी एसटीपी क्षमता में वृद्धि की परियोजनाएँ चलाई जा रही हैं। मोकामा, दीघा, कंकरबाग और हाजीपुर में कुल 180 एमएलडी क्षमता के 627 कि.मी. लंबे सीवर नेटवर्क के लिए निविदाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इन परियोजनाओं पर लगभग 1762 करोड़ रुपए व्‍यय होने का अनुमान है। 
       

रामरेखा घाट, बक्सर

भागलपुर में 254.13 करोड़ रुपये (15 वर्ष तक संचालन और रखरखाव के खर्च समेत) की लागत से हाईब्रिड एन्यूटी परियोजना के तहत 65 एमएलडी क्षमता वाले सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। इस परियोजना से वर्ष 2035 तक के लिए भागलपुर शहर की सीवेज उपचार आवश्यकताएं पूरी हो जाएंगी। इसके साथ ही भागलपुर और बेगुसराय में 82 एलएलडी क्षमता की 114 कि.मी. लंबी सीवर परियोजनाएँ निविदा के अंतर्गत हैं, जिन पर 484 करोड़ रुपए व्‍यय किए जाएंगे। मुंगेर और सोनपुर की 33.5 एमएलडी क्षमता वाली 175 कि.मी. लंबी सीवर परियोजना पर 325 करोड़ रुपए व्‍यय होने का अनुमान है। ये दोनों परियोजनाएँ भी निविदाधीन हैं। बिहार में वर्ष 2016-18 के बीच 24.924 करोड़ रुपये की लागत से 600.5 हेक्टयर क्षेत्र में वनीकरण का कार्य भी किया गया है।
   
 
कुलकुलिया घाट, भागलपुर 

गंगा नदी के जलीय जन्तु पर्यावरण को ठीक करने और पुनर्वास का अध्ययन करने के लिए भी जैव विविधता संरक्षण जैसे कार्यक्रम चलाए जा रहे है। टिकाऊ संरक्षण और योजना के लिए गंगा नदी की धारा में मत्स्य एवं मत्स्य पालन का अध्य्यन भी किया जा रहा है। साथ ही ‘गंगा प्रहरी’ समूह भी गंगा को अविरल और निर्मल बनाने में योगदान दे रहा है। ‘गंगा प्रहरी’ एक ऐसे लोगों का समूह है जो अन्य लोगों को गंगा संरक्षण के प्रयासों से जोड़ते है। ‘गंगा प्रहरियों’  को गंगा नदी के पारिस्थितिक नियंत्रण, जैव विविधता, वृक्षारोपण तकनीकों, जागरुकता तथा जनसमुदायों से जोड़ने हेतु प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
- PIB

Web Title: namami gange pariyojna se bihar me hoga yah sudhar ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया