मुख्य समाचार
अपने बजट का पांच फीसद हिस्सा पशुओं के कल्याण में लगाएं राज्य: गिरीश रतन टाटा को हाईकोर्ट से मानहानि मामले में राहत, जानें पूरा मामला मॉब लिंचिंग पर फिर बोले नसीरुद्दीन शाह, परिजनों से मिलकर कहा- साहस को... ट्रामा में फैला खतरनाक फंगस, कारगर दवा नहीं, अलर्ट जारी समलैंगिक विवाह के लिए कोर्ट पहुंचीं दो युवतियां, मजिस्ट्रेट ने नहीं लिया आवेदन, जानें वजह 10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

CBI vs CBI : सुप्रीम कोर्ट ने किया सवाल, रातोंरात क्यों लिया गया अधिकार वापस लेने का फैसला 


GAURAV SHUKLA 06/12/2018 12:50 PM
195 Views

Lucknow. सीबीआई में अफसरों के विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से कड़ाई से सवाल किये। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीआई बनाम सीबीआई विवाद दो टॉप अफसरों के बीच ऐसी लड़ाई नहीं थी जो रातोरात सामने आई। कोर्ट ने कहा यह ऐसा मामला नहीं था कि सरकार को सिलेक्शन कमिटी से बातचीत किये बिना ही सीबीआई निदेशक की शक्तियों को तुरंत खत्म करने का फैसला लेना पड़ा। बता दें कि सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा के अधिकार वापस लेने औऱ उन्हें छुट्टी पर भेजने के सरकार के फैसले के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई कर रही थी। 

cbi vivad par supreme court ka update
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि अगर सीबीआई डायरेक्टर की शक्तियों पर रोक लगाने से पहले चयन समिति की मंजूरी ले ली गयी होती तो कानून का बेहतर पालन होता। सरकार की कार्रवाई की भावना संस्थान के हित में होनी चाहिए। सीबीआई विवाद पर कोर्ट ने सख्त तेवर दिखाते हुए कहा कि 23 अक्टूबर को सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा की शक्तियां वापस लेने का फैसला रातोंरात क्यों लिया गया। चीफ जस्टिस ने यह भी पूछा कि जब कुछ महीनों में ही आलोक वर्मा रिटायर होने वाले थे तो कुछ और महीनों का इंतजार और चयन समिति की परामर्श क्यों नहीं किया गया? 

cbi vivad par supreme court ka update

Web Title: cbi vivad par supreme court ka update ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया