मुख्य समाचार
10वीं पास के लिए दो हजार से अधिक पदों पर भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन दिव्यांग किशोरी से रेप करते धरा गया वृद्ध और फिर जो हुआ... भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास, जानिये खास बातें सरकार का सख्त आदेश, एयर इंडिया नहीं करे नियुक्ति और पदोन्नति फिर विवादों में घिरीं सोनाक्षी, धोखाधड़ी मामले के बाद सेक्सोलॉजिस्ट ने भेजा नोटिस अटल के आचरण से प्रेरित होकर एक आदर्श कार्यकर्ता का होता है निर्माण : स्वतंत्र देव अनिवार्य होगा टेस्ट, नशे में मिलने पर होगा निलंबन  लाइव शो में कॉमेडियन की मौत, लोग समझते रहे परफॉर्मेंस बजाते रहे तालियां... मेयर, पार्षद और नगर पंचायत अध्यक्ष भी लगाएंगे पौधे  यूपी में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के हर सम्भव किये जाये प्रयास : उपमुख्यमंत्री मायावती ने चला ये बड़ा दांव, नहीं गिरेगी कर्नाटक की सरकार!
 

सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से किया सवाल,चयन समिति के बिना कैसे आलोक वर्मा को हटाया?


RAGHVENDRA CHAURASIA 06/12/2018 13:02:14
264 Views

New Delhi. सीबीआई विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को आलोक वर्मा से शक्तियां वापस लेकर उन्हें छुट्टी पर भेजने वाली याचिका पर सुनवाई की। कोर्ट ने इस मामले में मोदी सरकार से पूछा कि दोनों वरिष्ठ अधिकारियों को अचानक छुट्टी पर क्यों भेजा। ऐसे में सरकार ने बिना चयन समिति के कैसे आलोक कुमार की शक्तियों से वंचित किया है?

Court Ne Kaha Modi Sarkar Ne Alok Verma Ko Kaise Hataya

 यह भी पढ़ें...नवजोत सिंह सिद्धू का सिर काटने वाले को 1 करोड़ इनाम देगी हिंदू युवा वाहिनी

   कोर्ट ने कहा सरकार को निष्पक्ष होना चाहिए

सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई विवाद की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की पीठ कर रही है। कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने महाधिवक्ता तुषार मेहता से कहा कि सरकार को निष्पक्ष होना चाहिए। सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की ​शक्तियां छीनने से पहले चयन समिति से सुझाव लेने में क्या परेशानी थी। हर सरकार की कार्रवाई की भावना संस्थान के हित में होनी चाहिए। कोर्ट ने बताया कि महाधिवक्ता तुषार मेहता ने कोर्ट में बताया कि इस स्थिति के पीछे के हालात जुलाई में बने थे। 

Court Ne Kaha Modi Sarkar Ne Alok Verma Ko Kaise Hataya

  सरकार ने कुछ महीनों का इंतजार क्यों नहीं किया

कोर्ट ने मोदी सरकार से स्पष्ट पूछा कि 23 अक्टूबर को सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से सारी शक्तियां छीनने का रातों रात निर्णय लेने के लिए किसने प्रेरित किया। कोर्ट ने कहा जब आलोक वर्मा अगले कुछ महीनों में रिटायर होने वाले थे, तो इंतजार क्यों नहीं किया। इस पर महाधिवक्ता तुषार मेहता ने कोर्ट को बताया कि सीवीसी इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि एक असाधारण स्थिति पैदा हो गई थी और असाधारण परिस्थितियों के लिए कभी-कभी असाधारण उपचार की जरुरत होती है। 

 यह भी पढ़ें...CBI vs CBI : सुप्रीम कोर्ट ने किया सवाल, रातोंरात क्यों लिया गया अधिकार वापस लेने का फैसला

 

Web Title: Court Ne Kaha Modi Sarkar Ne Alok Verma Ko Kaise Hataya ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया