यूपी में स्वच्छता अभियान को ठेंगा दिखा रहे हैं उद्योग और नगरीय निकाय


ABHIMANYU VERMA 05/01/2019 14:25:25
186 Views

Lucknow. केंद्र में सत्ता में आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की नदियों को साफ करने का वादा किया था, जिसके तहत राष्ट्रीय स्तर पर स्वच्छता अभियान और नमामि गंगे जैसी योजनाओं को लागू किया गया। लेकिन, इसके बावजूद उत्तर प्रदेश में न नदियों की स्थिति बेहतर हो पायी और न ही प्रदूषण का स्तर कम हो पाया। ये बात एनजीटी की सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट मॉनीटरी कमेटी की ओर से कही गयी है। साथ ही प्रदेश में बढ़ रहे प्रदूषण के लिए कमेटी ने सबसे ज्यादा उद्योगों और नगरीय निकायों को जिम्मेदार ठहराया है। 

industries and urban bodies Most responsible for pollution in UP

जस्टिस डी.पी. सिंह ने बताया कि औद्योगिक इकाइयां और नगरीय निकाय प्रदूषण सबसे बड़ी समस्या है। उन्होंने कहा कि राजधानी लखनऊ में प्रदूषण पर उनकी खास नजर है। यहां पर खुले में कूड़े को नहीं फेंकने दिया जाएगा। इसके अलावा कूड़े को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ढककर ले जाना होगा। उन्होंने कहा कि लखनऊ में नदियों में जीरो पाल्यूशन को लक्ष्य बनाकर काम किया जा रहा है। इसके लिए सभी जगहों पर कूड़ेदान की व्यवस्था की जाए। 

industries and urban bodies Most responsible for pollution in UP

यह भी पढ़ें:-...मुझे मेरे बेटे पर गर्व, 100 साल बाद महिला को मिली कमान तो पचा नहीं पा रहे लोग : संयुक्ता भाटिया

सिंह ने आगे कहा कि प्रदेश पर्यावरण संरक्षण के लिए एक लाख पोस्टर छपवा रही है, जिसमें अलग-अलग प्रकार के कूड़ों को कैसे रखें, इसके बारे में जानकारी दी जाएगी। जैसे—गीले और सूखे कूड़े को कैसे अलग-अलग रखें। साथ ही उन्होंने एनजीटी को नदियों, जल स्रोतों, मेडिकल कॉलेज और औद्योगिक इकाइयों को लेकर नौ रिपोर्ट भेजी हैं। 

जागरूकता के लिए कार्यशाला का आयोजन 

एनजीटी की यूपी के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट मॉनीटरी कमेटी के चेयरमैन डीपी सिंह ने शुक्रवार को इस मुद्दे पर राजधानी के होटल मालिकों के साथ बैठक की। वहीं, अगले महीने फरवरी में कूड़े के निस्तारण को लेकर कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा।

Web Title: industries and urban bodies Most responsible for pollution in UP ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया