...तो ये बात हुई मायावती और अखिलेश के बीच! विरोधियों में मचा है हड़कंप


NAZO ALI SHEIKH 06/01/2019 09:41 AM
211 Views

Lucknow. लोकसभा चुनाव जैसे- जैसे नजदीक आ रहा है, सभी पार्टियों की नजरें अखिलेश यादव और मायावती पर टिक गई हैं। महज बयानबाजी से ही विरोधियों की धड़कने तेज हो जाती हैं। ऐसे में अखिलेश का दिल्ली में बसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात कर डेढ़ घंटे तक बातचीत करना विरोधियों के लिए मुसीबत बन गया है। हर कोई जानना चाहता है कि आखिर बुआ और भतीजे के बीच घंटों क्या गुफ्तगू हुई। चूंकि यूपी में सपा बसपा गठबंधन का ऐलान भले ही बसपा सुप्रीमो मायावती नहीं कर रही। लेकिन इसकी चर्चा जरूर तेज हो गई है। इस बात से भी विरोधी डरे हुए हैं कि सपा बसपा एक हुई तो दोनों ही पार्टियों को रोकना आसान राह नहीं होगा। फिलहाल दोनों ही दिग्गजों के बीच क्या बात हुई ये तो किसी को पता नहीं है। लेकिन यह बात सामने आ रही है कि दोनों के बीच लोकसभा चुनाव और मौजूद राष्ट्रीय स्तर की राजनीति पर चर्चा की गई। 

...to ye baat hui mayawati aur akhilesh ke beech! islie virodhiyon mein macha hai hadkamp

यह भी पढ़ें... नव भारतीय किसान संगठन ने किसानों के हित के लिए सीएम से लगाई गुहार

  नहीं कोई जानकारी

अखिलेश और मायावती के बीच क्या बात हुई यह किसी को मालूम तक नहीं चल सकी है। यहां तक कि अखिलेश के बेहद करीबी माने जाने वाले संजय लाठर भी इस विषय पर कुछ बोलने की स्थिति में नहीं हैं। जबकि लाठर अखिलेश के साथ दिल्ली तक गए हुए थे। वहीं, बसपा नेताओं का भी यही कहना है कि बातचीत को लेकर कुछ भी जानकारी नहीं है। इस बीच कांग्रेस के दिग्गज और वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया ने बड़ा बयान दे डाला। पुनिया ने कहा कि कांग्रेस यूपी में अकेले दम पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। लेकिन उनके इस बयान को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजब्बर समेत अन्य वरिष्ठ नेता जल्दबाजी मान रहे हैं। राजब्बर का कहना है कि कांग्रेस सपा और बसपा सहित अन्य पार्टियों की एकजुटता ही चाहती है। 

...to ye baat hui mayawati aur akhilesh ke beech! islie virodhiyon mein macha hai hadkamp

यह भी पढ़ें... अब 24 घण्टे निर्बाध बिजली पहुंचाने पर जोर

  इस बिन्दु पर चर्चा

अखिलेश और मायावती के बीच माना जा रहा है कि यूपी की राजनीति के साथ ही एमपी और राजस्थान सरकार पर दबाव बनाने के विषय पर चर्चा हुई हो। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव को लेकर प्रदेश में अपने अपने प्रभुत्व वाली सीटों पर चर्चा की। बसपा सुप्रीमो नोएडा(गोतमबुद्ध नगर) में अपना ही उम्मीदवार चाहती हैं। बताते चलें कि यहां से बसपा के सांसद नागर सांसद रह चुके हैं। इसके बाद नागर ने सपा ज्वाइन कर ली थी। हालांकि, सपा को इस सीट से कोई दिक्कत नहीं है। ऐसे में बसपा को ये सीट देने से सपा को ऐतराज नहीं होगा। वहीं, दूसरी ओर शिवपाल सिंह यादव की नई प्रगतिशील समाजवादी पार्टी पर भी निगाहें बनी हुई हैं। 

Web Title: to ye baat hui mayawati aur akhilesh ke beech islie virodhiyon mein macha hai hadkamp ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)

कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया