मुख्य समाचार
राबड़ी का केन्द्र पर गंभीर आरोप, लालू को जहर देकर मारना चाहती है सरकार #IPL2019 : पंजाब को पांच विकेट से हराकर दिल्ली के दिलवालों की जीत झोपड़ी में लगी आग, वृद्ध जिन्दा जला यूपी में सपा को लगा बड़ा झटका, दिग्गज नेता और उसके समर्थक कांग्रेस में शामिल स्मृति ईरानी के खिलाफ डिग्री मामले में कांग्रेस नेता ने की चुनाव आयोग में शिकायत विदेश सचिव दो दिवसीय चीन के दौरे पर लखनऊ के 37 उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने के मंसूबों पर फिरा पानी जानिए जातिवाद पर हरियाणा हाईकोर्ट ने क्या टिप्पणी की स्वरा भास्कर के निशाने पर आईं प्रज्ञा ठाकुर, हेमंत पर दिया था बयान वेडिंग एनिवर्सरी पर अभिषेक ने शेयर की ऐश की फोटो, लिखा हनी मून, फैंस बोले इतना गुरूर... कॉफी विद करण मामला : पांड्या और राहुल पर लगा 20-20 लाख रुपये का जुर्माना बाइक पोल से टकराई, युवक की मौत अधिकारियों को नहीं दिखाई पड़ रहा आचार संहिता का उल्लंघन मथुरा में आइसक्रीम फैक्ट्री में अमोनिया गैस का रिसाव,15 की ​बिगड़ी तबियत मोदी ने इस नेता को बताया स्पीड ब्रेकर शूट के दौरान विक्की कौशल को आई गंभीर चोटें अपने सबसे बड़े चुनावी वादे को लेकर बुरी फंसी कांग्रेस सुरवीन चावला के घर आई नन्ही परी, देखें तस्वीर खोदा पहाड़ निकली चुहिया साबित होगा नकली भतीजा-बुआ का गठबंधन : केशव मौर्य एलएचबी कोच बने सुरक्षा कवच, बची भीषण तबाही स्पाइसजेट बना जेट के कर्मचारियों का सहारा, 100 पायलटों सहित 500 लोगों को दी नौकरी जल्‍द फाइटर जेट के कॉकपिट में नजर आएंगे विंग कमांडर अभिनंदन पूर्वा एक्सप्रेस हादसे के चलते बाधित हुआ हावड़ा रूट पर ट्रेनों का संचालन कोहली की पारी ने दिखाया कमाल, 10 रन से जीती RCB नोट्रे डेम को पहले जैसा बनाना चाहते हैं मैक्रों, येलो वेस्ट प्रदर्शन से बिगड़ी छवि को सुधारने की कवायद सीएम योगी बोले- बाबा साहेब ने न किया होता यह काम, तो आज भी किसी जमींदार के यहां भैंस चरा रहे होते अखिलेश 
 

बड़ा सवाल: चीनी सेना के युद्ध की तैयारी की वजह क्या है ?


DEEP KRISHAN SHUKLA 06/01/2019 09:54:47
231 Views

देश में कई तरह के बढ रहे खतरों का हवाला देते हुए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चीनी सेना का युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है। सेंट्रल मिलिट्री कमीशन की बैठक में बतौर चेयरमैन शी जिनपिंग ने सेना के आला अधिकारियों से यह बात कही।

bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya

 

एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक चीन के राष्ट्रपति ने वैश्विक स्तर पर हो रहे अभूतपूर्व बदलावों का हवाला देते हुए कहा कि चीन अब वैसी स्थित में है जहां उसके ​पास विकास के रणनीतिक अवसर ज्यादा अहम है। इसके साथ ही सैनिकों के प्रशिक्षण के लिए एक आदेश भी उन्होंने जारी किया है।

वहीं चीनी अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के मुताबिक राष्ट्रपति जिनपिंग ने पूरी सेना को सही मायनों में राष्ट्रीय ख़तरों को और विकास की धारा को समझते हुए हर हालात के लिए तैयार रहने की बात कही है। शी जिनपिंग ने बैठक में कहा कि आपातस्थिति में सेना तुरंत हरकत में आए इसके लिए उसे तैयार रहना होगा। उन्होंने साझा अभियानों की क्षमता भी बढ़ाने युद्ध के नए तरीकों के लिए तैयार रहना रहने की बात भी कही है।

bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya

अखबार ने रक्षा मामलों के जानकार सोंग ज़ोंगपिंग के हवाले से यह भी लिखा है कि इस आदेश में पीपल्स लिबरेशन आर्मी की सभी टुकड़ियों को चीन के 70वें स्थापना दिवस थियानमेन चौक में होने वाली परेड में सेना की युद्ध क्षमता का प्रदर्शन करने की बात कही गयी है। उनका कहना था कि इस मौक़े युद्ध जीतने की क्षमता रखने वाली सेना की झलक मिलनी चाहिए।

bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya

ऐसा दूसरी बार है जब चीन का सेंट्रल मिलिट्री कमीशन सैन्य इकाइयों के बीच सार्वजनिक गतिविधि करा रहा है। इसके पूर्व 3 जनवरी 2018 को पहली बार इस तरह की गतिविधि चीन में हुई थी। यह बात अलग है कि रक्षा मामलों के जानकार इसे सेना का मनोबल बढाने व दुनिया को अपने सैन्य बल का मुजायरा कराना मान रहे है।

bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya

  चीन सागर में मौजूदगी के साथ नियंत्रण बढाना चाह​ता है चीन

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार चायना दक्षिण चीन चीन सागर में न सिर्फ अपनी मौजूदगी बल्कि नियंत्रण का दायरा बढाना चाहता है। खास बात यह है कि वर्तमान में अमरीका के साथ व्यापारिक संबंधों को लेकर व ताइवान से बिगड़ते रिश्ते भी चीन की परेशानी का कारण है।

bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya

  विश्व की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच अहम का टकराव

चीन और अमरीका दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं और दुनिया का बाज़ार पर अपने अधिकार के लिए एक तरह की परोक्ष लड़ाई में लगे हैं। दोनों एक दूसरे से होने वाले आयातों पर अतिरिक्त शुल्क लगा रहे हैं।

  कहीं एशिया रिअश्योरेंस इनिशिएटिव एक्ट तो नहीं चीन की छटपटाहट की वजह

दुनिया की लगभग आधी आबादी वाले एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने एशिया रिअश्योरेंस इनिशिएटिव एक्ट को मंजूरी देकर इस कानूनी जामा पहना दिया। जिसके पीछे अमेरिका का तर्क है कि दक्षिण चीन सागर में चीन का अवैध निर्माण और उसकी सैन्य मौजूदगी अमरीका के राष्ट्रीय हितों, क्षेत्र में शांति और वैश्विक स्थायित्व के विरुद्ध है। कहीं अमरीकी यह एक्ट तो चीन की बौखलाहट की वजह नहीं है।

  एक्ट के बाद क्या कहा था जिनपिंग ने

अमेरिका के इस एक्ट के बाद बुधवार को शी जिनपिंग ने कहा था चीन और ताइवान को चीन के साथ मिलना होगा और ऐसा होकर रहेगा। उनका कहना था कि चीन को ये अधिकार है कि वो अगर चाहे तो इसके लिए सैन्य ताकत का इस्तेमाल करे। यह बाते चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ताइवान के साथ रिश्ते सुधारने की पहल के 40 साल पूरे होने पर दिए गए भाषण में कही। गौरतलब हो कि इसी सप्ताह चीन में कई अमेरिकी नागरिकों की गिरफ्तारी के बाद अमरीका के विदेश विभाग ने चीन जाने वाले अमरीकी नागरिकों को और अधिक सतर्कता बरतने की सलाह दी थी।

 

यह भी पढ़े...चीन ने बनाया दुनिया का सबसे शक्तिशाली बम

 

 

 

 

Web Title: bada sawal:chini sena ke yuddh ki taiyari ki vjah kya ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया