मुख्य समाचार
वर्ल्ड कप में सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देगी - ICC अब सिर्फ खेलिए ही नहीं बल्कि दहन भी कीजिए ईको फ्रैंडली होली जूडो प्रतियोगिता : मेरठ मंडल की टीम रही टॉप, बरेली को मिला दूसरा स्थान J&K में सीजफायर का उल्लंघन 1 जवान शहीद, 3 घायल कांग्रेस को यूपी में मिली बड़ी मजबूती, तीन नेताओं समेत 2 दर्जन से अधिक लोग कांग्रेस में शामिल क्राइस्ट चर्च हमले का आंतकी खुद लड़ेगा अपना केस हाइवे के हादसों पर अंकुश लगाएंगी एनएचएआई की अलर्ट लाइटें पर्रिकर के निधन पर राष्ट्रपति, PM सहित कई नेताओं ने जताया शोक अर्थव्यवस्था को धार देने के लिए RBI गवर्नर शक्तिकांत करेंगे बैठक IPL 2019 : आशीष नेहरा के इस बयान से खिलाड़ियों को मिलेगी वर्ल्ड कप में मदद हनुमान मंदिर में प्रियंका ने की पूजा, गंगा पूजन के बाद नाव से हुईं रवाना वंदे भारत एक्सप्रेस पर फिर हुई पत्थरबाजी, 8 कोचों के 10 सीसे टूटे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने जताया शोक हमलावर हुईं बसपा सुप्रीमो कहा - अकेले बीजेपी को पराजित करने में सक्षम, गठबंधन को लेकर न फैलायें... मनोहर पर्रिकर के निधन पर गोवा बोर्ड ने एचएसएससी परीक्षा रद्द की, जानें अगली तारीख क्या है पैंक्रियाटिक कैंसर,  जिसकी जंग में हार गए पर्रिकर केंद्रीय सुरक्षा बलों के अधिकारियों को जल्द मिलेगा यह लाभ, जानिए क्या है वजह #RIP Manohar Parrikar: जब RSS ने पर्रिकर को दिलाई थी राजनीति में एंट्री, कुछ इस तरह बने गोवा के CM चुनावी ऐलान के बाद क्रूड-फेड रिजर्व तय करेंगे शेयर बाजार की चाल अरब सागर में नौसेना हुई अलर्ट, तैनात किए युद्धपोत, पन​डुब्बियां और लड़ाकू जहाज
 

गोबर से बने बायो मीथेन से कराची में चलेगी 200 बसे


DEEP KRISHAN SHUKLA 06/01/2019 13:11:03
246 Views

New Delhi. पर्यावरण सुरक्षित रखने व वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए पाकिस्तान के कराची शहर में एक अच्छी पहल होने जा रही है। यहां गोबर से मीथेन बना कर 200 के संचालन का ऐलान किया गया है। इसके लिए बीआरटी कारिडोर बनाया जाएगा।

gobar se bani bio methen se karachi me chalengi 200 basen

पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची में शून्य उत्सर्जन वाली ग्रीन बसें चलाने का निर्णय वहां की सरकार ने लिया है। इन बसों के लिए इंटरनेशनल ग्रीन क्लाइमेट फंड की मदद से बजट जुटाया जाएगा। 2020 से ये बसें बस रैपिड ट्रांजिट (बीआरटी) कॉरिडोर में चलाई जाएंगी।

एक अनुमान है कि यह योजना चार साल में पूरी होगी। इन 200 ग्रीन बसों के लिए ईंधन की व्यवस्था प्रशासन करेगा। एक आंकड़े के मुताबिक कराची में चार लाख दुधारू भैसें हैं। इन भैंसों का गोबर जमा कर प्रशासन बायो मीथेन गैस बनाएगा जिसकी सप्लाई बसों के संचालन के लिए की जाएगी। सब कुछ ठीक ठाकर रहा तो स्वच्छ परिवन के साथ साथ स्वच्छ पर्यावरण की दशा में यह एक बड़ा कदम होगा। बाद में इसे लाहौर, मुल्तान, पेशावर और फैसलाबाद जैसे शहरों में लागू किया जा सकता है।

 

  समुंदर की सफाई के साथ होगी पानी की भी बचत

इस प्रोजेक्ट के जरिए समंदर की सफाई का भी दावा किया गया है। आंकड़ो का हवाला देते हुए अधिकारियों का कहना है कि हर दिन लगभग 3200 टन गोबर और मूत्र समुद्र में समा जाता है इसके साथ ही कराची शहर में गोबर साफ करने के लिए हर दिन 50 गैलन पानी खर्च भी खर्च होता है। यह प्रोजेक्ट लागू हो गया तो समुद्र प्रदूषित होन से बचेगा साथ ही पानी की भी बचत होगी।

gobar se bani bio methen se karachi me chalengi 200 basen

  योजना तो अच्छी पर कैसे होगा रख रखाव

नीतियों से जुड़े ​थिंक टैंक लीडरशिप ऑफ एनवायरनमेंट एंड डेवलपमेंट पाकिस्तान के सीईओ अली तौकीर शेख कहते हैं कि यह योजना तो अच्छी है, लेकिन पाकिस्तान के अतीत पर गौर करें तो यहां डोनर्स प्रोजेक्ट फंडिंग का इस्तेमाल पूरी तरह नहीं हो पाता। उनका कहना है कि जिम्मेदारों के पास बसों के रखरखाव का पर्याप्त बजट नहीं है। ऐसे में बस खराब होने की दशा में उनकी मरम्मत का संकट खड़ा हो जाएगा।

  भारत जैसे ही हैं पाकिस्तानी शहरों में प्रदूषण के हालात

भारत की तरह पाकिस्तान में भी प्रदूषण की स्थित बदतर है। खास तौर से नगरीय क्षेत्रों में अच्छे सार्वजनिक परिवहन न होने की दशा में लोग अपने निजी वाहन बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करते हैं। जिससे प्रदूषण बढ़ने के साथ ही बीमारियों का ग्राफ भी दिनों दिन बढ़ रहा है। यदि सरकार यह बेहतर सार्वजनिक परिवहन दे और 70 प्रतिशत आबादी इसका इस्तेमाल करने लगे तो भी समस्या पर काफी हद तक नियं​त्रण किया जा सकता है।

gobar se bani bio methen se karachi me chalengi 200 basen

  कराची में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था पूरी तरह हो चुकी है ध्वस्त

नगर प्रशासन से जुड़े मामलों की रिपोर्टिंग करने वाले जिया उर रहमान की माने तो कराची की सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। सिंध प्रांत की सरकार ने इस शहर में बीते 10 सालों में 50 बस भी नहीं चलवा सका। जबकि प्राइवेट बसों व मिनी बसों की संख्या भी 25 हजार से घट कर 8 हजार पर सीमित हो गयी है। इसका एक बड़ा कारण आए दिन होने वाले राजनीतिक व धार्मिक प्रदर्शन व बंद ही होते है। प्रदर्शनकारियों बसों को आग लगाना आम बात हो चुकी है।

यह भी पढ़े...बड़ा सवाल: चीनी सेना के युद्ध की तैयारी की वजह क्या है ?

Web Title: gobar se bani bio methen se karachi me chalengi 200 basen ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया