मुख्य समाचार
पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

Masterstroke : समझें सवर्णों को 10 % आरक्षण देने का पूरा गणित


ABHIMANYU VERMA 08/01/2019 17:05:21
196 Views

New Delhi. मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को 10 % आरक्षण देने की घोषणा की है। लोकसभा चुनाव से करीब 3 महीने पहले सरकार के इस फैसले को मास्टर स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा है। ये आरक्षण मौजूदा समय के 50 प्रतिशत आरक्षण व्यवस्था में बिना किसी छेड़छाड़ के दिया जाएगा। जिसको लेकर मोदी सरकार मंगलवार को लोकसभा में संविधान के अनुच्छेद 15 और 16 में संशोधन विधेयक ला सकती है। इस फैसले के बाद संविधान में आरक्षण की सीमा 50 फीसदी से ज्यादा हो जाएगी। 

Masterstroke Complete Mathematics giving 10 percent reservation to Upper Classes

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को नौकरी और शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था की जाएगी। मौजूदा समय में देश में 49.5 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था है। इसमें अनुसूचित जाति के लिए 15 फीसदी, अनुसूचित जन जाति के 7.5 फीसदी और ओबीसी के लिए 27 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था है। वहीं, सरकार के इस फैसले के बाद सविधान में आरक्षण की सीमा 50 फीसदी से ज्यादा हो जाएगी।

नाराज सवर्णों को खुश करने की कोशिश

मोदी सरकार के इस फैसले को अपने परंपरागत सवर्ण वोटरों को खुश करने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। जो एससी/एसटी एक्ट पर अध्यादेश लाये जाने के बाद से भाजपा से नाराज बताए जा रहे थे। सवर्णों की नाराजगी का असर मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भी देखने को मिला था, जिसमें भाजपा को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। ऐसे में अब भाजपा आरक्षण के दांव से आम चुनाव में अपने सवर्ण बहुल गढ़ों को बचाना चाहती है।

Masterstroke Complete Mathematics giving 10 percent reservation to Upper Classes

 

14 राज्यों में सवर्ण वोट बैंक का प्रभाव 

2014 लोकसभा चुनाव की बात की जाये तो भाजपा को 534 में से 282 सीटों पर जीत मिली थी। इनमें से 256 यानी 91% सीटें, उसे देश के 14 राज्यों से मिली थीं। इन 14 राज्यों की 341 सीटों में से करीब 170 से 179 लोकसभा सीटों पर सवर्ण वोटर अहम भूमिका निभाते हैं। जिसमें से भाजपा को 140 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं, सिर्फ 26 यानी 9% सीटें उसे अन्य राज्यों से मिली थीं, वहां 188 लोकसभा सीटें हैं। 

यह भी पढ़ें:-...लोकसभा में केंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलोत ने किया पेश किया सवर्ण आरक्षण बिल

Masterstroke Complete Mathematics giving 10 percent reservation to Upper Classes

वीडियो देखने के लिए इस पर क्लिक करें

लोकसभा की सीटों के लिहाज से सबसे बड़े राज्य यूपी में 35 से 40 सीटें ऐसी हैं, जहां सवर्ण वोटर निर्णायक भूमिका निभाते हैं। 2014 में भाजपा को इनमें से 37 सीटों पर जीत मिली थी। दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र है, यहां 22 से 25 सीटों पर सवर्णों का दबदबा है। भाजपा को इनमें से 10 पर जीत मिली थी। भाजपा ने राज्य में 25 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से 23 जीती थीं। 

Web Title: Masterstroke Complete Mathematics giving 10 percent reservation to Upper Classes ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया