सीमा पर सचल होवित्जर तोपों से लैस हुई चीनी सेना


DEEP KRISHAN SHUKLA 09/01/2019 08:11 AM
191 Views

New Delhi. पड़ोसी देश चीन की सीमा पर हलचल लगातार बढ़ रही है। भारतीय सीमा से सटे इलाकों में तैनात चीनी सैनिकों की युद्धक क्षमता बढ़ाने की कवायद लगातार जारी है। कुछ समय पहले नियंत्रण रेखा के नजदीक तिब्बत में चीन ने हल्के युद्धक टैंक तैनात करने के बाद अब हिमालय के पठारी इलाके में सचल होवित्जर तोपों की तैनाती की है। 50 किलोमीटर से अधिक की मारक क्षमता वाली इन तोपों की भारत से सटी सीमा पर तैनाती भारतीय सुरक्षा के लिहाज से गंभीर विचाणीय मसला हैं। 

seema par sachal hovitzar topon se lais hui cheeni sena
चीन ने तिब्बत के स्वायत्त क्षेत्र में जन मुक्ति सेना पीएलए की युद्ध क्षमता में इजाफा करने के लिहाज से सचल होवित्जर तोपों की तैनाती की है। जिससे अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्र में तैनात सैनिक और सशक्त हो जाएगें। चीन का यह कदम सीमा सुरक्षा को और पुख्ता करने का काम करेगा। ऐसा दावा चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने किया है। इन तोपों को वाहनों पर ले जाया जा सकेगा। 

seema par sachal hovitzar topon se lais hui cheeni sena
चीन के अधिकारिक मीडिया ने मंगलवार मिलिट्री एक्सपर्ट सांग झांगपिंग के हवाले से बताया कि होवित्जर तोपें 50 किलोमीटर से ज्यादा की रेंज तक मार कर सकती हैं। इससे पीएलए को तिब्बत के अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में ताकत मिलेगी। चीन ने तिब्बत में हल्के युद्धक टैंकों की तैनाती के बाद मोबाइल होवित्जर को लगाने का फैसला लिया है। 

  ये हैं होवित्जर की खास बातें

वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें
चीनी सेना ने इन पीएलसी 181 सचल होवित्जर तोपों का परीक्षण 2017 में डोकलाम व भारत के बीच हुए गतिरोध के समय तिब्बत में युद्धाभ्यास में किया गया था। चीनी सरकारी अखबार की माने तो इन तोपों की मारक क्षमता 50 किलोमीटर से भी अधिक है। इतना ही नहीं ये लेजर व सैटेलाइट गाइडेड मिसाइल को भी मार गिरा सकती है। 

यह भी पढ़े...लोकसेवा आयोग: सिविल जज प्री परीक्षा का परिणाम घोषित, यहां देखें रिजल्ट

Web Title: seema par sachal hovitzar topon se lais hui cheeni sena ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया