मुख्य समाचार
राहुल गांधी सहित 11 विपक्षी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट पर रोका, नहीं दी इजाजत मायावती ने बाबा साहब को लेकर कही ये बात, जीत लिया जनता का दिल पूरे देश में जन्माष्टमी की धूम,राष्ट्रपति व पीएम मोदी ने देशवासियों को दी बधाई शुक्रवार को घर-घर जन्में नन्दलाल बड़ा ऐलान: तेजस्वी की जगह इस नेता के नेतृत्व में आरजेडी लड़ेगी विधानसभा चुनाव चौथे दिन भी सोने के दाम ने पकड़ी रफ्तार, कीमत 39 हजार पहुंचने में 5 रुपये कम श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर 400 बेसहारा गौ माताओं को अर्पण किया जाएगा भोजन CBSE स्कूलों के बच्चों को अब ये काम करने पर मिलेगा ग्रेड मुलायम के अचानक सपा दफ्तर पहुंचने पर मचा हड़कंप, कार्यकर्ताओं को दे डाली ये नसीहत स्कूल बस ने युवक को मारी टक्कर हुई मौत, चालक फरार  बच्चा चोर गिरोह के शक में चार साधु वेशधारियों को ग्रामीणों ने पकड़ा कुंभ के प्रचार-प्रसार के नाम पर कारोबारी से हुई ठगी  गाड़ी से रौंदकर 2 की हत्या मामले में चौकी प्रभारी हुए लाईन हाजिर, इन जगहों पर बरती गयी लापरवाही  अलर्ट: तमिलनाडु में घुसे लश्कर के 6 आतंकी  पत्नी की हत्या के मामले में फंसा BJP के पूर्व विधायक का बेटा, हो सकती है गिरफ्तारी
 

सवर्णों को आरक्षण: लोकसभा में बिल आसानी से पास, राज्यसभा में होगी असली परीक्षा


ABHIMANYU VERMA 09/01/2019 09:41 AM
189 Views

New Delhi. आर्थिक रूप से सवर्णों कमजोर वर्गों को नौकरी और शिक्षा में 10% आरक्षण से जुड़े संविधान संशोधन विधेयक को सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में पेश किया। जहां यह आसानी से पास हो गया। इस विधेयक का सदन में मौजूद 326 सांसदों में से 323 ने समर्थन किया और 3 ने इसके विरोध में वोट किया। वहीं, बुधवार को इसे राज्यसभा में पेश किया जाएगा।

Bill will be presented in the Rajya Sabha for reservation of Upper Classes 

इस बिल को लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक माना जा रहा है। जिसे कांग्रेस और कुछ दलों ने बिल को जल्दबाजी में की गई कवायद बताया। हालांकि चुनाव को देखते हुए वह इसका विरोध नहीं कर पा रहे हैं। कांग्रेस ने इस बिल को सिलेक्ट कमेटी को भेजने की मांग की है। 

जिसके जवाब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अब तक सरकारों ने अधिसूचना या सामान्य कानून से आरक्षण बढ़ाया था, इस वजह से अदालतें इसे खारिज करती आयीं हैं। लेकिन इस बार संविधान में संशोधन करके यह आरक्षण दिया जा रहा है, इसलिए यह अदालत की कसौटी पर खरा उतरेगा। 

यह भी पढ़ें:-...लोकसभा में केंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलोत ने पेश किया सवर्ण आरक्षण बिल

Bill will be presented in the Rajya Sabha for reservation of Upper Classes

राज्यसभा में मोदी सरकार की असली परीक्षा 

सवर्णों को आरक्षण के लिए संविधान संशोधन विधेयक को केंद्र सरकार ने लोकसभा में आसानी से पास करा लिया है, लेकिन उसकी असली परीक्षा राज्यसभा में होने वाली है। राज्यसभा में मौजूदा समय में सांसदों की संख्या 244 है जिसमें 163 सांसदों का सरकार को समर्थन चाहिए होगा। वहीं, कांग्रेस, सपा, बसपा, टीएमसी, आरजेडी और अन्य पार्टियां आरक्षण का समर्थन के बाद सरकार की थोड़ी परेशानी कम हुई है। लेकिन इन पार्टियों ने बिल को लेकर कई सवाल भी खड़े किया हैं। 

सदन में संख्या बल की बात करें तो एनडीए के 92 सांसद हैं। वहीं विपक्ष में कांग्रेस- 50, सपा- 13, टीएमसी- 13, सीपीएम- 5, एनसीपी- 4, एनसीपी- 4, बसपा- 4, सीपीआई- 2, पीडीपी- 2, टीआरएस के 6, बीजेडी के 9 और एआईएडीएमके के 13 सांसद हैं। इन दलों का रुख भी राज्यसभा में काफी अहम रहने वाला है।

Web Title: Bill will be presented in the Rajya Sabha for reservation of Upper Classes ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया