मुख्य समाचार
शाकिब ने रचा इतिहास, वर्ल्‍ड कप में कपिल-युवराज के रिकॉर्ड की बराबरी की क्षेत्र-जिला पंचायत सदस्यों के रिक्त पदों पर उप निर्वाचन के लिए समय सारणी जारी  Tik Tok वीडियो से सुर्खियों में आई पीली साड़ी वाली महिला जेनेलिया डिसूजा के पैर दबाते रितेश देशमुख का वीडियो वायरल, यूजर्स ने कहा... जल्द ही 100 करोड़ का आंकड़ा छू सकती फिल्म कबीर सिंह सपा संरक्षक की होगी सर्जरी, इस गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं मुलायम कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  राजस्थान: बीजेपी प्रमुख मदन लाल सैनी का लंबी बीमारी के बाद निधन दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान
 

सपा- बसपा के गठबंधन का ऐलान होते ही दोनों पार्टियों को मिलेगा बड़ा झटका


SUJEET KUMAR 12/01/2019 11:15:15
622 Views

Lucknow. समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच गठबंधन का ऐलान शनिवार को हो जाएगा। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गठबंधन का इतिहास रचेंगे। वहीं, इस गठबंधन से खफा राष्ट्रीय लोकदल ने चुनावी गठबंधन के लिए दूसरे विकल्पों पर विचार शुरू कर दिया है। यही कारण है कि शनिवार को मायावती और अखिलेश यादव की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में रालोद का कोई नेता नहीं रहेगा। 

samajwadi party and bsp alliance

मर्जी की सीटें न मिलने के कारण नाराज चल रही रालोद के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने इसी कारण के चलते अपना शनिवार को लखनऊ दौरा भी रद कर दिया। बता दें कि जयंत चौधरी शनिवार को पार्टी की प्रदेश इकाई द्वारा आयोजित ‘किसान पुत्र मोटर साइकल रैली’ में शिरकत करने लखनऊ आ रहे थे। 

samajwadi party and bsp alliance

बता दें कि दिल्ली में अखिलेश यादव और मायावती की मुलाकात के बाद राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने लखनऊ में सपा अध्यक्ष से मुलाकात की थी। इस मुलाकात में जयंत ने पश्चिमी यूपी की पांच लोकसभा सीटों पर दावा पेश किया था। इनमें बागपत, अमरोहा, हाथरस, मुजफ्फरनगर और मथुरा लोकसभा सीटें थीं।

यह भी पढ़ें...सपा-बसपा गठबंधन में यह नेता मजबूत, इन्हीं के इशारे पर चलेंगी दोनों पार्टियां

बसपा से हुए सीटों के तालमेल के बाद सपा अब रालोद को पांच सीटें देने में असमर्थ है। सपा ने उन्हें सिर्फ दो सीटें मथुरा और बागपत देने को कहा है। सूत्रों की मानें तो रालोद की नाराजगी के बाद सपा एक सीट पर और बढ़ी है, लेकिन रालोद तीन सीटों पर भी गठबंधन को तैयार नहीं है। पार्टी के एक नेता ने स्पष्ट कहा कि तीन सीटें लेकर वह सपा-बसपा के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में नहीं बैठेंगे। 

यह भी पढ़ें...सपा-बसपा पर सीएम योगी का हमला, कहा- अस्तित्व बचाने के लिए गठबंधन कर रहे हैं विपक्षी

गौरतलब है कि रालोद के इस दबाव के पीछे पश्चिम यूपी की 10 जाट बाहुल्य सीटें हैं। जाट वोट बैंक इस सीटों पर उलटफेर करने में सक्षम है। हालांकि, मुजफ्फरनगर दंगे के बाद यहां का गणित बिगड़ा है और उसका फायदा भाजपा ने उठाया। रालोद को जाटलैंड में ही शिकस्त का मुंह देखना पड़ा। लेकिन, 2014 लोकसभा और 2017 विधानसभा चुनावों में हार के बाद रालोद नेताओं का पूरा समय अपने गढ़ की मजबूती में गया है। 

Web Title: samajwadi party and bsp alliance ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया