मुख्य समाचार
शाकिब ने रचा इतिहास, वर्ल्‍ड कप में कपिल-युवराज के रिकॉर्ड की बराबरी की क्षेत्र-जिला पंचायत सदस्यों के रिक्त पदों पर उप निर्वाचन के लिए समय सारणी जारी  Tik Tok वीडियो से सुर्खियों में आई पीली साड़ी वाली महिला जेनेलिया डिसूजा के पैर दबाते रितेश देशमुख का वीडियो वायरल, यूजर्स ने कहा... जल्द ही 100 करोड़ का आंकड़ा छू सकती फिल्म कबीर सिंह सपा संरक्षक की होगी सर्जरी, इस गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं मुलायम कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  राजस्थान: बीजेपी प्रमुख मदन लाल सैनी का लंबी बीमारी के बाद निधन दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान
 

झारखंड: बाबूलाल-हेमंत की नजदीकी बनी यूपीए की टेंशन!


ABHIMANYU VERMA 12/01/2019 14:36:00
253 Views

Ranchi. लोकसभा चुनाव को महज अब कुछ ही महीने रहे गए हैं, जिसको लेकर सभी राजनीतिक दल रणनीति तैयार करने में जुट गए हैं। फिर चाहे बूथ स्तर की बात हो या राज्यों की विपक्षी पार्टियों और उनके कार्यकर्ता भाजपा को गोलबंद करने में लगे हैं। कुछ ऐसा ही झारखंड में देखने को मिल रहा है, यहां पर यूपीए के सहयोगी दल व अन्य पार्टियों ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। ये दल झारखंड में भले ही महागठबंधन की नींव मजबूत करने में हुए जुटे हैं, लेकिन इनके लिए सबसे बड़ी चुनौती सीटों के बंटवारे की नजर आ रही है। वहीं, हाल के दिनों में दो पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और हेमंत सोरेन की नजदीकियां कांग्रेस की मुश्किलों को और भी बढ़ा दिया है।  

Tension of the UPA, close to Babulal-Hemant

महागठबंधन में नए फार्मूले के कयास

प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों बाबूलाल और हेमंत की नजदीकियां महागठबंधन के नए फार्मूले की ओर इशारा कर रही हैं। इसमें राजद भी शामिल हो सकती है, लेकिन नए सहयोगियों के शामिल होने के बाद सीटों के बंटवारे पर पेंच फंस सकता है। साथ ही नए सहयोगियों के आने से सीट शेयरिंग के फार्मूले में बदलाव के भी कयास लगाए जा रहे हैं। वहीं, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) का तर्क है कि लोकसभा सीटों के बंटवारे के साथ विधानसभा सीटों का भी बंटवारा होना चाहिए। 

Tension of the UPA, close to Babulal-Hemant

चर्चा इस बात की भी है कि झामुमो विधानसभा चुनाव में 35 से अधिक सीटों पर दावा कर रही है। जबकि कांग्रेस तीन राज्यों में पार्टी जीत को लेकर उत्साहित है और महागठबंधन का नेतृत्व करना चाह रही है। कांग्रेस के दावे के कारण झामुमो, झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) और राजद महागठबंधन के नए फार्मूले की उम्मीद जतायी जा रही है। 

यह भी पढ़ें:-...कांग्रेस संगठन में हुआ बड़ा फेरबदल, इन नेताओं को मिली अध्यक्ष की कुर्सी

सीट बंटवारे का नया फॉर्मूला

महागठबंधन में नए सहयोगियों के शामिल होने के बाद सीट बंटवारे के पुराने फार्मूले में बदलाव के कयास लगाए जा रहे हैं। सूत्रों की मानें तो पहले कांग्रेस लोकसभा की सात, झामुमो चार, झारखंड विकास मोर्चा दो और राजद एक सीट चुनाव पर लड़ने वाली थी, लेकिन बदलते परिवेश में अगर झामुमो, झाविमो और राजद का गठबंधन होता है तो राजद दो, झामुमो सात, वामदल एक और झाविमो चार सीटों पर बात बनेगी। अगर झामुमो गठबंधन से अलग हुआ तो कांग्रेस को आठ, झाविमो को तीन, वामदल को एक और राजद को दो सीट मिल सकती हैं।

Tension of the UPA, close to Babulal-Hemant

Web Title: Tension of the UPA, close to Babulal-Hemant ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया