मुख्य समाचार
वर्ल्ड कप में सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देगी - ICC अब सिर्फ खेलिए ही नहीं बल्कि दहन भी कीजिए ईको फ्रैंडली होली जूडो प्रतियोगिता : मेरठ मंडल की टीम रही टॉप, बरेली को मिला दूसरा स्थान J&K में सीजफायर का उल्लंघन 1 जवान शहीद, 3 घायल कांग्रेस को यूपी में मिली बड़ी मजबूती, तीन नेताओं समेत 2 दर्जन से अधिक लोग कांग्रेस में शामिल क्राइस्ट चर्च हमले का आंतकी खुद लड़ेगा अपना केस हाइवे के हादसों पर अंकुश लगाएंगी एनएचएआई की अलर्ट लाइटें पर्रिकर के निधन पर राष्ट्रपति, PM सहित कई नेताओं ने जताया शोक अर्थव्यवस्था को धार देने के लिए RBI गवर्नर शक्तिकांत करेंगे बैठक IPL 2019 : आशीष नेहरा के इस बयान से खिलाड़ियों को मिलेगी वर्ल्ड कप में मदद हनुमान मंदिर में प्रियंका ने की पूजा, गंगा पूजन के बाद नाव से हुईं रवाना वंदे भारत एक्सप्रेस पर फिर हुई पत्थरबाजी, 8 कोचों के 10 सीसे टूटे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने जताया शोक हमलावर हुईं बसपा सुप्रीमो कहा - अकेले बीजेपी को पराजित करने में सक्षम, गठबंधन को लेकर न फैलायें... मनोहर पर्रिकर के निधन पर गोवा बोर्ड ने एचएसएससी परीक्षा रद्द की, जानें अगली तारीख क्या है पैंक्रियाटिक कैंसर,  जिसकी जंग में हार गए पर्रिकर केंद्रीय सुरक्षा बलों के अधिकारियों को जल्द मिलेगा यह लाभ, जानिए क्या है वजह #RIP Manohar Parrikar: जब RSS ने पर्रिकर को दिलाई थी राजनीति में एंट्री, कुछ इस तरह बने गोवा के CM चुनावी ऐलान के बाद क्रूड-फेड रिजर्व तय करेंगे शेयर बाजार की चाल अरब सागर में नौसेना हुई अलर्ट, तैनात किए युद्धपोत, पन​डुब्बियां और लड़ाकू जहाज
 

अपने नए रडार से भारत जितने आकार वाले क्षेत्र की निगरानी कर सकेगा चीन


DEEP KRISHAN SHUKLA 12/01/2019 15:53:37
238 Views

NEW DELHI. अपनी सेना को सशक्त बनाने के लिए चीन उसे नए हथियार व उन्नत तकनीकी से लैस कर रहा है, जिसके पीछे चीन की वैश्विक स्तर पर अपना प्रभाव बढ़ाने की चाहत है। इसी कड़ी में चीन ने एक नया नौसैनिक रडार विकसित किया है, जो भारत जितने बड़े आकार वाले क्षेत्र की निगरानी में सक्षम है। साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट अखबार में ओवर-द-होरिजन रडार प्रणाली कार्यक्रम से जुड़े एक वैज्ञानिक के हवाले से बताया गया है कि इस स्वदेशी रडार प्रणाली से चीनी नौसेना समुद्रों की पूरी तरह निगरानी करने में सक्षम हो जाएगी।

APNE NATE RADAR SE BHART JITNE AAKAR WALE KSHETR KI GIGRANI KAR SAKEGA CHEEN


चीन इस रडार प्रणाली की मदद से दुश्मन पोतों, विमानों और मिसाइलों से होने वाले खतरों की  पहचान मौजूदा तकनीक के मुकाबले बहुत पहले ही कर सकेगा।

वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

इस रडार प्रौद्योगिकी को उन्नत करने का श्रेय चाइनीज अकादमी ऑफ साइंसेज के वैज्ञानिक लियू योंगटन को दिया गया है। उन्होंने भारत के बराबर वाले क्षेत्र की निरंतर निगरानी के लिए चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की नौसेना के विमानवाहक पोत बेड़े के लिए काम्पैक्ट आकार का नया उन्नत रडार विकसित किया है। राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने वैज्ञानिक लियू समेत कई वैज्ञानिकों को उनके योगदान के लिए देश के शीर्ष विज्ञान अवार्ड से सम्मानित किया।

APNE NATE RADAR SE BHART JITNE AAKAR WALE KSHETR KI GIGRANI KAR SAKEGA CHEEN

पुरानी प्रणाली से 20 फीसद हिस्से पर ही हो पाती थी निगरानी

रडार की रेंज धीरे-धीरे बढ़ेगी। पूर्व में चीन का जो निगरानी तंत्र था वह सिर्फ 20 फीसदी समुद्री इलाके पर ही नजर रख सकता था, लेकिन इस नई तकनीकी से वह पूरे समुद्री क्षेत्र पर निगाह बनाए रख सकता है। पोत पर लगने वाली ओटीएस रडार प्रणाली से दक्षिण चीन सागर, हिद महासागर और प्रशांत महासागर जैसे अहम समुद्री क्षेत्रों में चीनी नौसेना की सूचना एकत्र करने की क्षमता बढ़ जाएगी।

यह भी पढ़े...सीमा पर 50 किलोमीटर मारक क्षमता वाली तोपों लैस हुई चीनी सेना

Web Title: APNE NATE RADAR SE BHART JITNE AAKAR WALE KSHETR KI GIGRANI KAR SAKEGA CHEEN ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया